ताज़ा खबर
 

दिल्ली चिकित्सा परिषद ने जांच का आदेश दिया, प्राथमिकी दर्ज

दिल्ली चिकित्सा परिषद (डीएमसी) ने फोर्टिस अस्पताल में कथित चिकित्सकीय लापरवाही के मामले की जांच का आदेश दिया है वहीं अस्पताल प्रशासन ने मामले में दो आर्थोपेडिक सर्जन सहित अपने पांच कर्मचारियों को हटा दिया है।

Author नई दिल्ली | June 24, 2016 2:39 AM
दिल्ली चिकित्सा परिषद

दिल्ली चिकित्सा परिषद (डीएमसी) ने फोर्टिस अस्पताल में कथित चिकित्सकीय लापरवाही के मामले की जांच का आदेश दिया है वहीं अस्पताल प्रशासन ने मामले में दो आर्थोपेडिक सर्जन सहित अपने पांच कर्मचारियों को हटा दिया है। 24 वर्षीय मरीज के परिवार ने आरोप लगाया है कि फोर्टिस अस्पताल शालीमार बाग के डॉक्टरों ने घायल दार्इं टांग की बजाए बार्इं टांग का आॅपरेशन कर दिया।

डीएमसी के सचिव गिरीश त्यागी ने बताया कि मामले का स्वत: संज्ञान लेने वाली डीएमसी जांच करेगी और उचित कदम उठाएगी। उन्होंने कहा, ‘दिल्ली चिकित्सा परिषद की एक टीम शुक्रवार को अस्पताल का दौरा करेगी और सारे कागजात की पड़ताल करेगी। हम आॅपरेशन थियेटर में मौजूद कर्मचारियों और डॉक्टरों से भी बातचीत करेंगे’। त्यागी ने कहा, ‘अस्पताल ने गलती पर भले ही डॉक्टरों और कर्मचारियों को निलंबित कर दिया हो लेकिन वे दूसरे अस्पताल से जुड़ जाएंगे। इसलिए हमें एक निष्पक्ष जांच करनी है। अगर गलती मिली तो उनके लाइसेंस रद्द कर दिए जाएंगे’।

अशोक विहार निवासी रवि राय को सीढ़ियों से गिरने के बाद रविवार को फोर्टिस अस्पताल ले जाया गया था। उनके पिता रामकरण राय ने बताया कि जांच में पता चला कि उसकी दार्इं टांग टूट गई थी और डॉक्टरों ने कहा कि उसकी स्थिति को देखते हुए सर्जरी करनी होगी। दिल्ली पुलिस ने इस मामले में आईपीसी की धारा 336 (लापरवाही से जान जोखिम में डालना) और 338 के तहत प्राथमिकी दर्ज की है। डॉक्टर ने गलती से बार्इं टांग की सर्जरी कर दी और भीतर कई स्क्रू भी लगा दिए। रवि के होश में आने के बाद इस गलती के बारे में पता चला।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App