ताज़ा खबर
 

मायूस फ्लैट खरीदार चुनाव में दबाएंगे नोटा का बटन

‘घर नहीं तो वोट नहीं’ मुहिम के तहत ग्रेटर नोएडा वेस्ट (नोएडा एक्सटेंशन) के फ्लैट खरीदारों ने रविवार को कार व मोटरसाइकिल रैली निकाल कर लोगों से अपनी परेशानियां साझा कीं।

Author नोएडा | Updated: January 23, 2017 1:47 AM

‘घर नहीं तो वोट नहीं’ मुहिम के तहत ग्रेटर नोएडा वेस्ट (नोएडा एक्सटेंशन) के फ्लैट खरीदारों ने रविवार को कार व मोटरसाइकिल रैली निकाल कर लोगों से अपनी परेशानियां साझा कीं। नेफोवा (नोएडा एक्सटेंशन फ्लैट ओनर्स वेलफेयर एसोसिएशन) के बैनर तले निकाली गई यह रैली सुबह 11 बजे नोएडा स्टेडियम के गेट नंबर-4 से शुरू हुई और ग्रेटर नोएडा वेस्ट की तमाम बिल्डर परियोजनाओं से गुजरते हुए संपन्न हुई।
खरीदारों का आरोप है कि वे पूरी तरह से टूट चुके हैं। उनका दर्द बांटने के लिए किसी भी राजनीतिक दल ने पहल नहीं की है। हर तरफ से हारने के बाद आखिरकार खरीदारों ने इस मर्तबा घर दिलाने में नाकाम नेताओं को वोट नहीं देने का फैसला लिया है। खरीदारों ने अब चुनाव बहिष्कार के बजाए मतदान में नोटा का बटन दबाकर विरोध करने की इच्छा जताई है।

रैली के दौरान खरीदारों ने ‘घर नहीं तो वोट नहीं’ का नारा बुलंद करते हुए राजनीतिक दलों पर नाकाम रहने का आरोप भी लगाया। नेफोवा अध्यक्ष अभिषेक कुमार ने कहा कि अगर नेताओं को हमारे वोट चाहिए, तो उन्हें फ्लैट दिलाने होंगे। रैली में बड़ी संख्या में महिलाओं और बच्चों की मौजूदगी के बीच खरीदारों ने आरोप लगाया कि प्रदेश सरकार के अधीन काम करने वाले प्राधिकरण अधिकारी उनके बजाए बिल्डर को तवज्जो देते हैं। यही वजह है कि दर्जनों बार हो चुकी बैठकों व प्रदर्शनों के बावजूद हालात जस के तस बने हुए हैं। करीब 7-8 साल पहले ही बिल्डर फ्लैट खरीदारों से पूरी रकम ले चुके हैं, लेकिन निर्माण कार्य पूरा होने में अभी कितना और समय लगेगा, बिल्डर कंपनियां इसकी जानकारी तक नहीं दे रही हैं। अदालत और पुलिस तक में मामले की शिकायत के बावजूद बिल्डरों का कुछ नहीं बिगड़ा है, जबकि खरीदारों को अपनी खून-पसीने की कमाई बैंक की किस्तें भरने में लगानी पड़ रही है।
नेफोवा महासचिव श्वेता भारती ने बताया कि प्राधिकरण, बिल्डर और क्रेडाई के सामने फ्लैटों का कब्जा दिलाने के लिए हुए धरना प्रदर्शनों पर राजनीतिक दलों के नेताओं ने कभी पहल नहीं की। लिहाजा मतदान में वे राजनीतिक दलों के बजाए नोटा का बटन दबाकर अपना विरोध दर्ज कराएंगे। रैली में इंद्रिश गुप्ता, सुमित सक्सेना, जय प्रकाश गुप्ता, रविंद्र जैन व सागर चौधरी समेत बड़ी संख्या में खरीदार शामिल थे।

ग्रेटर नोएडा वेस्ट के फ्लैट खरीदारों ने तीन हफ्ते पहले नेफोवा के बैनर तले ‘घर नहीं तो वोट नहीं’ मुहिम शुरू की थी। बीते रविवार को खरीदारों ने ग्रेटर नोएडा वेस्ट के किसान नेताओं के साथ बैठक कर उन्हें भी अपनी दिक्कतें बतार्इं। खरीदारों के दर्द को आम आदमी की लड़ाई बताते हुए किसान नेताओं ने पूरा समर्थन देने का एलान किया था। किसान नेता मनवीर भाटी ने कहा कि बिल्डरों और अफसरों के गठजोड़ ने किसानों और आम खरीदारों को लूटा है। राजनीतिक जानकारों का मानना है कि ग्रेटर नोएडा वेस्ट इलाके के लाखों फ्लैट खरीदारों में करीब 50 हजार से ज्यादा यहां के मतदाता हैं, जिनका वोट न देने का फैसला राजनीतिक समीकरण बिगाड़ सकता है।

Next Stories
1 कोठी के बाहर खेल रहे बच्चों पर फेंका ज्वलनशील पदार्थ
2 RSS चीफ के विवादात्मक टिप्पणी को लेकर बोले पासवान, कहा- चुनावों के पहले ही ऐसे बयान क्यों?
3 छात्र कर्ज पर फैलाई जा रही गलत जानकारी: सरकार
यह पढ़ा क्या?
X