ताज़ा खबर
 

लोकसभा चुनाव में हार के बाद BSP नेताओं के साथ मायावती ने की बैठक, नतीजों और EVM पर हुई चर्चा

लोकसभा चुनाव 2019 में सपा और बसपा ने उत्तर प्रदेश के साथ-साथ मध्य प्रदेश और उत्तर प्रदेश में भी गठबंधन किया था। उत्तर प्रदेश की 80 में से 38 सीटों पर बहुजन समाज पार्टी, 37 सीटों पर समाजवादी पार्टी और 3 सीटों पर राष्ट्रीय लोक दल ने चुनाव लड़ा था।

Author लखनऊ | June 3, 2019 4:40 PM
बहुजन समाज पार्टी की प्रमुख मायावती (एक्सप्रेस फाइल फोटो)

बीएसपी की बैठक में मायावती की तरफ से गठबंधन से कोई फायदा नहीं होने समेत कई कथित बयानों पर नई जानकारी सामने आई है। बीएसपी सूत्रों के हवाले से एएनआई ने लिखा, ‘यह बंद कमरे में हुई पार्टी की समीक्षा बैठक थी, इसमें चुनाव परिणामों की समीक्षा की गई। ईवीएम समेत हार-जीत के कई मुद्दों पर चर्चा हुई। बैठक में गठबंधन के भविष्य को लेकर न तो कोई चर्चा हुई और न ही फैसला लिया गया।’ इससे पहले एक टीवी चैनल ने सूत्रों के हवाले से दावा किया था कि बीएसपी की बैठक में सपा के साथ गठबंधन का कोई फायदा नहीं होने की बात कही गई। मायावती ने विधायकों के सांसद बनने से खाली हुई उत्तर प्रदेश की 11 विधानसभा सीटों पर उपचुनाव में अकेले लड़ने का ऐलान किया है।

गठबंधन से कितना फायदा-नुकसान?: बता दें कि 2014 के लोकसभा चुनाव में मायावती की पार्टी को एक भी सीट नहीं मिल पाई थी। वहीं, इस चुनाव में उन्होंने 10 सीटों पर जीत दर्ज की। दूसरी तरफ गठबंधन के बावजूद अखिलेश यादव अपनी पार्टी की सीटों में इजाफा नहीं कर पाए। सपा 2014 की तरह 2019 में भी पांच ही सीटों पर सिमटकर रह गई। इस बार मुलायम सिंह और अखिलेश को छोड़कर परिवार का कोई सदस्य चुनाव नहीं जीत पाया। यहां तक कि मुलायम सिंह यादव की जीत का अंतर भी बेहद कम रह गया।

National Hindi News, 03 June 2019 LIVE Updates: देश-दुनिया की तमाम अहम खबरों के लिए क्लिक करें

इन राज्यों में किया था गठबंधनः बता दें कि लोकसभा चुनाव 2019 में सपा और बसपा ने उत्तर प्रदेश के साथ-साथ मध्य प्रदेश और उत्तर प्रदेश में भी गठबंधन किया था। उत्तर प्रदेश की 80 में से 38 सीटों पर बहुजन समाज पार्टी, 37 सीटों पर समाजवादी पार्टी और 3 सीटों पर राष्ट्रीय लोक दल ने चुनाव लड़ा था। साथ ही, रायबरेली और अमेठी सीट कांग्रेस के लिए छोड़ दी गई थीं। गठबंधन के चलते अरसे बाद मायावती और मुलायम सिंह यादव एक मंच पर नजर आए थे।

Bihar News Today, 03 June 2019: महत्वपूर्ण खबरें पढ़ने के लिए क्लिक करें

2018 में पहली बार हुआ था गठबंधन: सपा और बसपा के बीच गोरखपुर, फूलपुर और कैराना लोकसभा सीटों पर हुए उपचुनाव के दौरान 2018 में गठबंधन हुआ था। तब मायावती के सहयोग से सपा ने गोरखपुर और फूलपुर जैसी बीजेपी के कद्दावर नेताओं की सीटें भी अपने नाम कर ली थीं। हालांकि इसके बाद राज्यसभा के लिए हुए उपचुनाव में अखिलेश बसपा प्रत्याशी को जीत नहीं दिला पाए थे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

X