Maulana kalbe saadiq on ayodhya dispute - शिया धर्मगुरू ने कहा- जय राम, अयोध्या में जरूर बने मंदिर - Jansatta
ताज़ा खबर
 

शिया धर्मगुरू ने कहा- जय राम, अयोध्या में जरूर बने मंदिर

शिया धर्मगुरु ने ये भी कहा कि, 'मुझे मुसलमानों से प्रॉब्लम आयी है। हिन्दुओं से कभी कोई प्रॉब्लम नहीं आयी। हिन्दुओं ने मुझे हमेशा इज्जत और प्यार दिया है।'

शिया धर्मगुरु मौलाना कल्बे सादिक।

अयोध्या में राम मंदिर निर्माण को लेकर इन दिनों एक बार फिर से सियासत तेज हो गई है। ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने अयोध्या से बाबरी मस्जिद को कहीं और शिफ्ट करने की बात करने के लिए अपने कार्यकारी समिति के सदस्य नदवी को बाहर का रास्ता दिखा दिया है। अब इसी राम मंदिर के मुद्दे पर AIMPLB के वाइस प्रेसिडेंट मौलाना कल्बे सादिक ने कहा है कि अयोध्या में मंदिर जरूर बनना चाहिए लेकिन वो विद्या का मंदिर होगा। उत्तर प्रदेश के बारांकी में एक कार्यक्रम के दौरान अयोध्या मद्दे पर कल्बे सादिक ने अपनी बात रखी। सिया धर्मगुरू ने राम मंदिर के सवाल पर अपने जवाब की शुरुआत जय राम से करते हुए कहा कि मंदिर जरूर बनना चाहिए, लेकिन विद्या का मंदिर। उन्‍होंने कहा कि यह विवाद जब लोग सुलझाना चाहेंगे तो खुद-ब-खुद सुलझ जाएगा। और अगर नहीं चाहेंगे तो कबी नहीं सुलझे सकता लेकिन इस विवाद को अब सुलझा देना चाहिए।

शिया धर्मगुरु ने कहा कि ‘मदरसों की शिक्षा से ज्यादा बेहतर मॉडर्न एजुकेशन है।’ हम जब एजुकेशन की बात करते हैं तो हमारी मुराद होती है मॉडर्न एजुकेशन, न की धार्मिक एजुकेशन। धार्मिक एजुकेशन भी जरूरी है, लेकिन मॉडर्न एजुकेशन जरूरी है। मुस्लिमों पर तंज कसते हुए कल्बे सादिक ने कहा कि, ‘आप मस्जिद जरूर बनाएं लेकिन क्रिश्चन से सीखें। क्रिश्चन का जहां चर्च होता है उससे जुड़ा एक स्कूल जरूर होता है। लेकिन हमारे यहां कितनी मस्जिदें हैं जहां एजूकेशनल इंस्टीट्यूट हैं।’

शिया धर्मगुरु ने ये भी कहा कि, ‘मुझे मुसलमानों से प्रॉब्लम आयी है। हिन्दुओं से कभी कोई प्रॉब्लम नहीं आयी। हिन्दुओं ने मुझे हमेशा इज्जत और प्यार दिया है। मुसलमानों से पूछिए कि दीन क्या है, धर्म क्या है। तो वह कहेंगे नमाज पढ़ना, रोजे रखना, हज करना। ये सब धार्मिक प्रथाएं हैं, दीन नहीं है।’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App