यूपी चुनाव के पहले योगी सरकार का मथुरा को लेकर फैसला, 10 वर्ग किलोमीटर का दायरा तीर्थस्थल घोषित

यूपी सरकार ने मथुरा-वृंदावन के आसपास का 10 वर्ग किलोमीटर का इलाका तीर्थस्थल घोषित कर दिया है। इन इलाकों में शराब और मांस की ब्रिकी पर भी बैन लगा दिया गया है।

yogi govt
मथुरा में शराब-मांस पर अब बैन (फाइल फोटो)

उत्तरप्रदेश चुनाव से पहले योगी सरकार ने मथुरा को लेकर एक बड़ा फैसला किया है। राज्य सरकार ने कृष्ण जन्म स्थल के आसपास का 10 वर्ग किलोमीटर का इलाका तीर्थस्थल घोषित कर दिया है। इन इलाकों में शराब और मांस पर भी बैन लगाया गया है।

सीएम योगी के ट्विटर हैंडल से ट्वीट कर इस फैसले के बारे जानकारी दी गई है। इस ट्वीट में कहा गया है कि यूपी सीएम ने मथुरा-वृंदावन में श्री कृष्ण जन्म स्थल को केंद्र में रखकर 10 वर्ग कि.मी. क्षेत्र के, कुल 22 नगर निगम वार्ड को तीर्थ स्थल के रूप में घोषित किया है।

योगी पिछले महीने जन्मअष्टमी मनाने मथुरा पहुंचे थे। इसी दौरान सीएम योगी ने कहा था कि यहां कोई मांस-मदिरा की बिक्री न हो, इसके लिए जिला प्रशासन को कार्य योजना बनाने का निर्देश दे दिया गया है।

मथुरा के रामलीला मैदान में आयोजित कार्यक्रम में बोलते हुए सीएम ने कहा था कि मथुरा में शराब और मांस पर बैन के बाद इन कामों में लगे लोगों का अन्य व्यवसायों में पुनर्वास किया जाएगा। उन्होंने कहा- “जो लोग इन कार्यों से जुड़े हैं, उन्हें अन्य कार्यों के लिए प्रशिक्षण देकर उनका पुनर्वास किया जाना चाहिए। इन लोगों की व्यवस्थित रूप से काउंसलिंग की जानी चाहिए। अच्छा होगा कि जो इन कामों के लगे हैं, उनके लिए दुग्धपालन के छोटे-छोटे स्टॉल बना दिए जाएं”।

सीएम योगी ने इस दौरान कहा था कि 2017 में यहां हमने नगर निगम का गठन करवाया था। फिर सात पवित्र जगहों को तीर्थस्थल घोषित करवाया, अब सबकी इच्छा है कि यहां मांस-मदिरा बैन हो, तो अधिकारियों ने इस संबंध में प्रस्ताव मांगा गया है, और जल्द ही इसपर फैसला लिया जाएगा। सीएम योगी अपने इसी वादे को पूरा करते हुए आज ये घोषणा की है।

बता दें कि अगले साल यूपी में विधानसभा चुनाव होने हैं। बीजेपी जहां सत्ता में वापसी की तैयारियों में जुटी है, वहीं विपक्ष भी अब सम्मेलनों के जरिए अपना जनसमर्थन बढ़ाने में लगा है। ऐसे में मथुरा-वृंदावन के एक निश्चित दायरे को तीर्थस्थल के रूप में घोषित करना, योगी सरकार का एक और मास्टरस्ट्रोक माना जा सकता है।

पढें राज्य समाचार (Rajya News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट