ताज़ा खबर
 

मथुरा पुलिस की वर्दी पर होगा भगवान कृष्ण का लोगो, विवाद

मथुरा में टूरिस्ट फ्रैंडली पुलिस तैनात करने की योजना बनाई गई है।

Author नई दिल्ली | December 14, 2017 13:56 pm
मथुरा पुलिस ने वर्दी पर भगवान कृष्ण का लाेगो लगाने की खबर का खंडन किया है। (फाइल फोटो)

उत्तर प्रदेश पुलिस ने भगवान कृष्ण की नगरी मथुरा में पर्यटकों के लिए विशेष तौर पर प्रशिक्षित पुलिसकर्मी तैनात करने की योजना बनाई है। इन जवानों की वर्दी पर भगवान कृष्ण का लोगो होगा, ताकि टूरिज्म पुलिस की आसानी से पहचान हो सके। हालांकि, प्रस्ताव सामने आते ही इसका विरोध भी शुरू हो गया है। विपक्षी दल ने इसे राज्य सरकार द्वारा चलाए जा रहे भगवाकरण अभियान का हिस्सा करार दिया है। वर्दी पर अन्य प्रतीक चिह्न पहले की तरह ही मौजूद रहेंगे। फिलहाल यह प्रस्ताव डीजीपी कार्यालय के पास लंबित है।

मथुरा के एसएसपी स्वप्निल मनगैं ने बताया कि भगवान कृष्ण का लोगो लगाने का उद्देश्य उत्तर प्रदेश पुलिस को टूरिस्ट फ्रैंडली बनाना है। पुलिस विभाग के अधिकारियों ने बताया कि फतेहपुर सीकरी में स्विस जोड़े की स्थानीय लोगों द्वारा पिटाई करने के बाद पुलिस की कड़ी आलोचना हुई थी। ऐसी घटनाओं से बचने की कवायद के तहत यह कदम उठाया गया है। एसएसपी ने बताया कि जिस तरह आगरा ताजमहल के लिए प्रसिद्ध् है, उसी तरह मथुरा को बांके बिहारी मंदिर के लिए जाना जाता है। ऐसे में यह लोगो पुलिस को अलग पहचान दिलाएगा। उनके अनुसार, अंग्रेजी बोलेने में दक्ष जवानों को ही टूरिज्म पुलिस में तैनात किया जाएगा, ताकि वे विदेशी पर्यटकों की मदद कर सकें। ऐसे पुलिसकर्मियों के साक्षात्कार की प्रक्रिया चल रही है, जिन्हें इस महीने के अंत तक तैनात कर दिया जाएगा।

गहराया विवाद: संविधान में देश की धर्मनिरपेक्ष स्थिति के चलते किसी भी सरकारी विभाग में धार्मिक प्रतीक चिह्नों का प्रयोग नहीं किया जाता है। इसके बावजूद यूपी पुलिस ने इस लोगो का चयन किया है, जिसे अंतिम माना जा रहा है। अब विरोध के सुर सुनाई देने लगे हैं। राज्य के पूर्व पुलिस महानिदेशक ब्रिज लाल ने बताया कि ऐसे लोगो की अनुमति नहीं दी जानी चाहिए, क्योंकि इससे पुलिस की धर्मनिरपेक्ष छवि को नुकसान पहुंचता है। कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता विवेक बंसल ने कहा, ‘भारत का एक धर्मनिरपेक्ष राष्ट्र होने के चलते सरकार किसी भी धर्म का प्रचार-प्रसार नहीं कर सकती है। वृंदावन सिर्फ हिंदू पर्यटक ही नहीं बल्कि सभी धर्मों के लोग जाते हैं। ऐसे में यह लोगो संविधान का उल्लंघन होगा।’ हालांकि, भाजपा नेता इसे खारिज करते हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App