ताज़ा खबर
 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के भाई बोले- गुजरात में आधार समस्‍या के चलते बहुतों को नहीं मिल रहा राशन

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के भाई प्रह्लाद मोदी गुजरात फेयर प्राइस शॉप एसोसिएशन के अध्यक्ष हैं। प्रह्लाद मोदी ने इस मामले में राज्य के प्रशासनिक अमले को आ़़डे हाथों लिया है।

प्रह्लाद मोदी और पीएम नरेंद्र मोदी।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के भाई प्रह्लाद मोदी ने एक बार फिर राशन कार्ड को आधार के साथ लिंक करने के मुद्दे को उठाया है। इस मुद्दे का लिंक करते हुए प्रह्लाद मोदी ने कहा है कि राशन कार्ड को आधार से लिंक कराने के चलते बहुतों को राहश ही नहीं मिल पा रहा है। प्रह्लाद मोदी का ये भी कहना है कि राशन डीलरों को भी इससे तकलीफ हो रही है। पीएम मोदी के भाई ने गुजरात सरकार में खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री जयेश रादडिया से मुलाकात कर उन्हें इस परेशानी की बात बताई। प्रह्लाद मोदी का कहना है कि सरकार का सिस्टम पूरी तरह अपडेट नहीं है और डाटा कलेक्शन में भी कमियां हैं। इससे राशनकार्ड धारकों को भी राशन नहीं मिल पा रहा है। उन्होंने राज्य सरकार से इस समस्या से निपटनवे का कोई विकल्प तलाशने की मांग की है। साथ ही गुजरात सरकार को मांग नहीं मानने पर राशन की दुकानें ठप करने की चेतावनी भी दी है।

HOT DEALS
  • Sony Xperia XZs G8232 64 GB (Ice Blue)
    ₹ 34999 MRP ₹ 51990 -33%
    ₹3500 Cashback
  • Samsung Galaxy J6 2018 32GB Gold
    ₹ 12990 MRP ₹ 14990 -13%
    ₹0 Cashback

आपको बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के भाई प्रह्लाद मोदी गुजरात फेयर प्राइस शॉप एसोसिएशन के अध्यक्ष हैं। प्रह्लाद मोदी ने इस मामले में राज्य के प्रशासनिक अमले को आ़़डे हाथों लिया है। उन्होंने कहा है कि राशन कार्ड के साथ आधार लिंक करने से डीलर और ग्राहक दोनों को परेशानी उठानी प़़ड रही है।

दरअसल मामला ये है कि गुजरात सरकार द्वारा गरीबी रेखा के नीचे के राशन कार्ड धारकों के लिए राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम 2013 के तहत राशन वितरण की व्यस्था लागू की गई है। राशन वितरण में पारदर्शिता बनाए रखने के उद्देश्य से सरकार ने राशन कार्ड को आदार से लिंक करने का फरमान सुनाया है। कई बार आसी खबरें सामने आ चुकी हैं जिसके अनुसार सरकारी राशन दुकानों से राशन लेने के लिए आधार कार्ड को राशन कार्ड से लिंक कराने के लिए उपभोक्ताओं को दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App