ताज़ा खबर
 

Uttarakhand: मानसरोवर यात्रा शुरू, 59 श्रद्धालुओं का पहला जत्था रवाना, तीर्थयात्रियों को मिलेंगी ये सुविधाएं

हर साल होने वाली कैलाश मानसरोवर यात्रा आज से प्रारंभ हो चुकी है। हर जत्थे को एक चिकित्सक और एक फार्मासिस्ट की टीम उपलब्ध कराई जाएगी। बता दें इस वर्ष यात्रा में कुल 18 जत्थे जाएंगे।

Author पिथौरागढ़ | Published on: June 12, 2019 12:24 PM
कैलाश मानसरोवर फोटो सोर्स – इंडियन एक्सप्रेस

उत्तराखंड में लिपुलेख दर्रे के रास्ते हर साल होने वाली कैलाश मानसरोवर यात्रा बुधवार (12 जून) से शुरू हो रही है जिसके तहत 59 श्रद्धालुओं का पहला जत्था नई दिल्ली से आज अल्मोड़ा पहुंचेगा। अधिकारियों ने बताया कि यात्रा से जुड़ी सभी तैयारियां पूरी कर ली गई हैं और यात्रा की नोडल एजेंसी कुमांऊ मंडल विकास निगम(केएमवीएन) का कैटरिंग स्टॉफ बूंदी से लेकर नाभीडांग तक के रास्ते में पड़ने वाले सभी शिविरों में तैनात कर दिया गया है।

हर जत्थे को मिलेगा चिकित्सक और फार्मासिस्टः निगम के महाप्रबंधक और यात्रा के प्रभारी अशोक जोशी ने बताया कि सभी शिविरों में यात्रियों को कुमांउनी और दक्षिण भारतीय भोजन उपलब्ध कराया जाएगा । गुंजी तक श्रद्धालुओं की सुरक्षा की जिम्मेदारी उत्तराखंड पुलिस की होगी और उसके बाद यह जिम्मा भारत—तिब्बत सीमा पुलिस लेगी । उन्होंने बताया कि तीर्थयात्रियों को चिकित्सकीय सुविधाएं पिथौरागढ़ के मुख्य चिकित्सा अधिकारी उपलब्ध कराएंगे । हर जत्थे को एक चिकित्सक और एक फार्मासिस्ट की टीम उपलब्ध कराई जाएगी।

National Hindi News, 12 June 2019 LIVE Updates: देश-दुनिया की हर खबर पढ़ने के लिए यहां करें क्लिक

पैदल चलकर शिविर तक पहुंचेंगे यात्रीः अधिकारी ने बताया कि श्रद्धालुओं के जत्थे नई दिल्ली से वोल्वो बस द्वारा काठगोदाम रेलवे स्टेशन पहुंचेंगे, जहां से उन्हें अल्मोड़ा में एक दिन के विश्राम के बाद एयर कंडीशंड बसों से धारचूला आधार शिविर पहुंचाया जाएगा। वहां से उन्हें 55 किलोमीटर दूर नजंग पुल तक जीप से ले जाया जाएगा। इस पुल से यात्री पैदल चलकर बूंदी शिविर पहुंचेंगे जहां उनका रात्रि विश्राम होगा।निगम के महाप्रबंधक ने बताया कि अगले दिन तीर्थयात्री बूंदी से 18 किलोमीटर दूर गुंजी पहुंचेंगे और रात्रि विश्राम के बाद दूसरे दिन वहां से आठ किलोमीटर का सफर तय कर नाभी पहुंचेंगे जहां वे ग्रामीणों द्वारा उपलब्ध होम स्टे सुविधा का उपयोग करेंगे।

18 जत्थे होंगे रवानाः महाप्रबंधक ने बताया कि इस वर्ष लिपुलेख दर्रे के जरिए होने वाली कैलाश मानसरोवर यात्रा में कुल 18 जत्थे जाएंगे। तीर्थयात्रा 12 जून से शुरू होकर 12 सितंबर तक चलेगी । निगम के अधिकारी ने बताया कि तीर्थयात्रियों के ये जत्थे सात दिन तिब्बत में रहेंगे और आठवें दिन लिपुलेख दर्रे के जरिये ही वापस भारत लौट आएंगे। पिथौरागढ़ के जिलाधिकारी विजय कुमार जोगदंडे ने बताया कि बदलती मौसमी दशाओं के मद्देनजर भारतीय वायु सेना को हेलीकॉप्टर उपलब्ध कराने के लिए पत्र लिखा गया है तथा किसी संभावित अप्रिय स्थिति से निपटने के लिये धारचूला और गुंजी शिविरों में राज्य आपदा मोचन बल (एसडीआरएफ) दो टीमें तैयार रखी गयी हैं ।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 मुख्तार अब्बास नकवी के बयान पर बोले आजम खान – मदरसों से नहीं पैदा होते गोडसे और प्रज्ञा ठाकुर जैसे लोग
2 Cyclone Vayu Today LIVE News Updates: चक्रवात ‘वायु’ ने रास्ता बदला, लेकिन गुजरात से नहीं टला खतरा
3 UP: अवैध खनन मामले में सपा नेता गायत्री प्र‍जापति के घर CBI का छापा, परिवार वालों से पूछताछ जारी