सज्जन कुमार की जमानत याचिका हुई रद्द तो बोले अकाली के मनजिंदर सिंह सिरसा, कांग्रेस के मुंह पर लगा तमाचा

सुप्रीम कोर्ट ने 1984 के सिख विरोधी दंगा मामलों में जेल की सजा काट रहे कांग्रेस के पूर्व नेता सज्जन कुमार की जमानत याचिका शुक्रवार को खारिज कर दी।

Sajjan Kumar
सज्जन कुमार (फाइल फोटो)- सोर्स- इंडियन एक्सप्रेस

सुप्रीम कोर्ट ने 1984 के सिख विरोधी दंगा मामलों में जेल की सजा काट रहे कांग्रेस के पूर्व नेता सज्जन कुमार की जमानत याचिका शुक्रवार को खारिज कर दी। इस मामले को लेकर अकाली दल के नेता मनजिंदर सिंह सिरसा ने कहा कि न्याय में देरी जरूरी हुई है लेकिन इस बात की खुशी है कि अब सज्जन कुमार जैसे लोगों को कोई राहत नहीं मिलेगी। उन्होंने खुशी जताते हुए कहा कि कोर्ट ने सज्जन कुमार के VIP ट्रीटमेंट की याचिका को खारिज कर दिया है। एक वीडियो में सिरसा ने कहा कि सज्जन की जमानत याचिका खारिज होना, कांग्रेस के मुंह पर तमाचा है। बताते चलें कि सज्जन कुमार ने स्वास्थ्य आधार पर अंतरिम जमानत मांगी थी।

सिरसा ने कहा कि सज्जन कुमार, कांग्रेस पार्टी का बड़ा नेता माना जाता था और उसकी गिनती गांधी परिवार का नजदीकी लोगों में होती थी। बकौल सिरसा, कुमार ने गांधी परिवार के कहने पर सिखो का कत्ले आम किया था। उन्होंने कहा मैं सुप्रीम कोर्ट का धन्यवाद करता हूं और उसकी जमानत याचिका रद्द करके कांग्रेस के मुंह पर जोरदार तमाचा लगा है।

सुप्रीम कोर्ट ने कुमार के मेडिकल रिकॉर्ड्स पर गौर किया और कहा कि यहां एक सरकारी अस्पताल के डॉक्टरों ने उसकी जांच की थी और उसकी हालत स्थिर है और उसमें सुधार हो रहा है। जस्टिस संजय किशन कौल और जस्टिस एम एम सुंदरेश की बेंच ने कहा कि वह मेडिकल आधार पर सज्जन कुमार को जमानत देने के पक्ष में नहीं हैं।

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि दिल्ली हाई कोर्ट ने 17 दिसंबर 2018 को इस मामले में कुमार और अन्य को दोषी ठहराया था जिसके बाद 75 साल के सज्जन कुमार उम्रकैद की सजा काट रहे हैं।

सुप्रीम कोर्ट ने नवंबर 1984 को दक्षिणपश्चिम दिल्ली की पालम कॉलोनी में राजनगर पार्ट-1 इलाके में पांच सिखों की हत्याओं और राजनगर पार्ट-2 में एक गुरुद्वारे को जलाने से संबंधित मामलों में 2013 में निचली अदालत द्वारा कुमार को बरी करने का फैसला पलट दिया था। गौरतलब है कि 31 अक्टूबर 1984 को तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की उनके दो सिख बॉडीगार्ड द्वारा हत्या करने के बाद दंगे भड़के थे।

पढें राज्य समाचार (Rajya News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट