ताज़ा खबर
 

मांझा अधिसूचना में देरी पर मनीष सिसोदिया ने नजीब जंग से की थी कार्रवाई की मांग

दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने उपराज्यपाल नजीब जंग को पत्र लिखकर राष्ट्रीय राजधानी में चीनी मांझे पर प्रतिबंध की मसौदा अधिसूचना जारी करने में विलंब करने के लिए पर्यावरण सचिव चंद्राकर भारती के खिलाफ कार्रवाई किए जाने की मांग की है।

Author नई दिल्ली | August 18, 2016 2:37 AM
दिल्ली के सीएम और आम आदमी पार्टी के संयोजक अरविंद केजरीवाल। (फाइल फोटो)

दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने उपराज्यपाल नजीब जंग को पत्र लिखकर राष्ट्रीय राजधानी में चीनी मांझे पर प्रतिबंध की मसौदा अधिसूचना जारी करने में विलंब करने के लिए पर्यावरण सचिव चंद्राकर भारती के खिलाफ कार्रवाई किए जाने की मांग की है, जिसके बाद जंग ने पर्यावरण सचिव से जवाब तलब किया। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के साथ यहां एक पत्रकार सम्मेलन में सिसोदिया ने आरोप लगाया कि फाइल ट्रैकिंग नोट दिखाता है कि चीनी मांझा वाली फाइल जंग के पास चार दिन तक रही जबकि पर्यावरण सचिव के पास सात दिन।

बहरहाल, उपराज्यपाल कार्यालय ने एक बयान जारी कर कहा कि उसे आठ अगस्त को सरकार से फाइल मिली और उसने नौ अगस्त को उपमुख्यमंत्री को फाइल भेज दी। उसने मसौदा अधिसूचना पर सवाल किया कि इससे मकसद हल नहीं होगा क्योंकि 60 दिन बाद अंतिम अधिसूचना जारी करने से पहले लोगों से सलाह मांगी गई है। बहरहाल, आप सरकार ने जोर देकर कहा कि उसने मसौदा अधिसूचना में ही तुरंत प्रभाव से चीनी मांझे पर प्रतिबंध लगा दिया है। सिसोदिया ने दावा किया कि अधिसूचना के महत्त्व के मद्देनजर पर्यावरण मंत्री इमरान हुसैन ने, उनके अपने दफ्तर ने और मुख्य सचिव के कार्यालय ने चीनी मांझे वाली फाइल को सेकंडों में मंजूरी दे दी।

HOT DEALS

उपमुख्यमंत्री ने कहा, ‘हमारे पर्यावरण मंत्री ने पांच अगस्त को अस्पताल में ही फाइल को मंजूरी दे दी क्योंकि वे और उनकी पत्नी डेंगू से ग्रस्त हैं और इसके बाद मेरे कार्यालय और मुख्य सचिव के कार्यालय ने सेकंडों में इसे अपनी मंजूरी दे दी और इसे एलजी आफिस भेज दिया। नौ अगस्त को उपराज्यपाल ने अपनी मंजूरी दे दी, लेकिन फाइल सात दिन तक पर्यावरण सचिव के पास रही’।

15 अगस्त को पतंग की डोर से गर्दन कट जाने से तीन लोगों की मौत हो गई जिसमें दो बच्चे और 22 वर्ष का एक व्यक्ति शामिल है। दिल्ली पुलिस का एक उपनिरीक्षक भी गर्दन कट जाने से गंभीर रूप से जख्मी हो गया। सिसोदिया ने कहा, ‘पर्यावरण सचिव चंद्राकर भारती द्वारा समय पर कार्रवाई नहीं करने से बाहरी रिंग रोड पर दुर्भाग्यपूर्ण तरीके से जान जाने की घटनाएं हुर्इं’। सिसोदिया ने कहा, ‘इसी मुताबिक यह प्रस्ताव किया जाता है कि आदरणीय उपराज्यपाल उक्त अधिकारी के खिलाफ आवश्यक अनुशासनिक कार्रवाई करें जो नागरिकों की सुरक्षा के प्रति काफी असंवेदनशील हैं’।

एक अधिकारी ने कहा कि उपराज्यपाल सेवाओं के प्रभारी हैं और उन्हें संबंधित अधिकारी से जवाब मांगना चाहिए। एक बयान में उपराज्यपाल कार्यालय ने कहा, ‘यह स्पष्ट किया जाता है कि उपरोक्त फाइल उप राज्यपाल कार्यालय में 8.8.2016 (सोमवार) को डायरी संख्या 25849 को प्राप्त किया गया और आवश्यक मंजूरी के बाद इसे 9.8.2016 (मंगलवार) को आदरणीय उपमुख्यमंत्री के कार्यालय भेजा गया’। इस बीच, जंग ने सिसोदिया के पत्र लिखे जाने के कुछ ही घंटे बाद पर्यावरण सचिव से जवाब तलब किया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App