ताज़ा खबर
 

गैर गांधी’ कांग्रेस प्रमुख पर मणिशंकर अय्यर का बयान, कहा- ‘गांधी मुक्त कांग्रेस’ ही भाजपा का लक्ष्य

मणिशंकर अय्यर ने कहा कि बीजेपी का लक्ष्य ‘गांधी मुक्त कांग्रेस’ है, जिससे ‘कांग्रेस मुक्त भारत’ को अंजाम तक पहुंचाया जा सके। ऐसे में यही बेहतर होगा कि राहुल गांधी ही पार्टी के अध्यक्ष बने रहें।

मणिशंकर अय्यर (फोटो सोर्स: इंडियन एक्सप्रेस)

कांग्रेस अध्यक्ष पद पर राहुल गांधी के बने रहने की अनिश्चितता के बीच पार्टी के वरिष्ठ नेता मणिशंकर अय्यर ने रविवार (23 जून) को कहा कि एक ‘गैर गांधी’ पार्टी का प्रमुख हो सकता है, लेकिन गांधी परिवार को संगठन के भीतर सक्रिय रहना होगा। उन्होंने दावा किया कि भाजपा का लक्ष्य ‘गांधी मुक्त कांग्रेस’ है, ताकि ‘कांग्रेस मुक्त भारत’ का उनका उद्देश्य पूरा हो सके। अगर राहुल गांधी पार्टी अध्यक्ष बने रहते हैं तो यह सबसे अच्छा होगा। हालांकि, राहुल की इच्छाओं का भी सम्मान होना चाहिए।

उन्होंने पीटीआई-भाषा को दिए इंटरव्यू में कहा, ‘‘मैं आश्वस्त हूं कि पार्टी का अध्यक्ष कोई नेहरू-गांधी न हो, तब भी हमारा अस्तित्व कायम रहेगा। बशर्ते नेहरू-गांधी परिवार पार्टी में सक्रिय रहे और ऐसे संकट का समाधान निकालने में मदद करे, जहां गंभीर मतभेद उत्पन्न हों।’’ अय्यर ने कहा कि राहुल ने अध्यक्ष पद के लिए अन्य विकल्प ढूंढने के लिए एक महीने का वक्त दिया है और इस मुद्दे को लेकर कांग्रेस के भीतर बातचीत जारी है। पार्टी में ज्यादातर लोग राहुल के पद पर बने रहने के पक्ष में हैं।

National Hindi News, 24 June 2019 LIVE Updates: देश-दुनिया की हर खबर पढ़ने के लिए यहां करें क्लिक

हालांकि पूर्व केंद्रीय मंत्री ने इस बात पर जोर दिया कि मीडिया को अटकलें लगाने के बजाए यह जानने के लिए ‘अंतिम समय सीमा’ का इंतजार करना चाहिए कि क्या कोई विकल्प मिल गया है या राहुल को कांग्रेस अध्यक्ष बने रहने के लिए मना लिया गया है। अय्यर ने कहा, ‘मुझे नहीं लगता कि यह व्यक्तित्व का मामला है। मैं जानता हूं कि भाजपा का लक्ष्य गांधी मुक्त कांग्रेस और नतीजन कांग्रेस मुक्त भारत है। मेरे विचार में हम उस सोच के जाल में फंसने वाले नहीं हैं कि उन्होंने कुछ ऐसा पता लगा लिया है, जिसे खोज पाने में हम असमर्थ हैं।’’
संगठन के शीर्ष पर फेरबदल की जरूरत को लेकर पूछे गए सवाल पर 78 वर्षीय अय्यर ने कहा, ‘‘अगर आप सिर ही कलम कर देंगे तो धड़ फड़फड़ाने लगेगा।’’ अय्यर ने पार्टी के इतिहास से ऐसे कई उदाहरण पेश किए जब नेहरू-गांधी परिवार से बाहर के लोग पार्टी के अध्यक्ष रहे, यूएन ढेबर से लेकर ब्रह्मानंद रेड्डी तक। उन्होंने कहा कि अब भी इस मॉडल को अपनाया जा सकता है।

उन्होंने कहा, ‘‘हम जानते हैं कि सोनिया गांधी संसदीय दल की अध्यक्ष हैं और राहुल गांधी हमारे संसदीय दल का अहम हिस्सा हैं। मुझे पूरा विश्वास है कि शीर्ष पद पर राहुल गांधी रहें या कोई और, पार्टी लड़ेगी और वापस अपने स्वाभाविक नेतृत्व के मुकाम पर पहुंचेगी, जिसे मैं ‘आइडिया ऑफ इंडिया मूवमेंट’ कहता हूं।’’ बता दें कि राहुल गांधी ने 25 मई को कांग्रेस कार्य समिति (सीडब्ल्यूसी) की बैठक के दौरान पार्टी अध्यक्ष के तौर पर इस्तीफा देने की पेशकश की थी, लेकिन सीडब्ल्यूसी ने सर्वसम्मति से इसे खारिज कर दिया था हालांकि, राहुल अपने रुख पर कायम रहे।
Bihar News Today, 24 June 2019: बिहार से जुड़ी हर खबर पढ़ने के लिए यहां करें क्लिक

राहुल गांधी के इस्तीफे की पेशकश के बाद उनके अगले कदम को लेकर लग रही अटकलों के बीच गुरुवार (20 जून) को उन्होंने कहा था कि पार्टी फैसला ले कि उनके बाद इस पद को कौन संभालेगा। वह इस पद पर नहीं बने रहेंगे। अय्यर ने कहा कि लोकसभा चुनावों में गठबंधन करने का कांग्रेस का अंकगणित गलत साबित हो गया। उन्होंने कहा कि कांग्रेस के इतिहास में ज्यादातर समय वह एक आंदोलन रही है।
यह पूछे जाने पर कि क्या ‘सॉफ्ट हिंदुत्व’ के साथ कांग्रेस की कोशिश विफल रही और पार्टी को धर्मनिरपेक्षता की मजबूती से वकालत करने की जरूरत है। अय्यर ने कहा, ‘‘मैं ‘सॉफ्ट हिंदुत्व’ के विचार को खारिज करता हूं, क्योंकि मुझे नहीं लगता कि कांग्रेस इस दिशा में बढ़ रही है। अय्यर ने कहा, ‘‘भारत एक धर्मनिरपेक्ष देश है और इसलिए हमें इस विचार को अक्षुण्ण रखने के लिए दृढ़ रहना होगा, जो हमारे संविधान का सार है और जिसे हम ‘आइडिया ऑफ इंडिया’ कहते हैं उसका सत्व है।’’ स्वराज इंडिया के नेता योगेंद्र यादव की ‘कांग्रेस खत्म हो जानी चाहिए’ वाली टिप्प्णी पर उन्होंने कहा कि पार्टी की जीवनी लिखना बहुत जल्दबाजी होगी और कहा कि कांग्रेस में अब भी उत्साह एवं ऊर्जा है जबकि यादव का संगठन ‘अस्तित्व की लड़ाई’ लड़ रहा है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 दिल्ली में 24 घंटे के भीतर हत्या की 9 वारदातें, AAP प्रवक्ता बोलीं- राजधानी में बदतर हो चुकी है कानून व्यवस्था
2 Rajasthan Barmer Pandal Collapse News Updates: बाड़मेर में मरने वालों की संख्या 15 हुई, पीड़ित परिजनों से मिले CM गहलोत
3 सर्वे: महाराष्ट्र में 53 फीसदी पुरुष और 42 फीसदी महिलाएं नहीं है शादीशुदा, रोजगार और शिक्षा से बदल रहा है सामाजिक तानाबाना
यह पढ़ा क्या?
X