ताज़ा खबर
 

लखनऊ: सीएम ऑफिस में थे, बाहर रोड पर चाकू लगाए शख्‍स ने नमाज पढ़ी, नरेंद्र मोदी मुर्दाबाद के नारे लगाए, फिर चला गया

इस व्यक्ति ने जब तक नमाज पढ़ी, तब तक एनेक्सी भवन के बाहर की सड़क पर जाम लगा रहा। हैरानी की बात ये है कि इस पूरे घटनाक्रम के दौरान एक पुलिस कॉन्सटेबल और एक ट्रैफिक पुलिस कर्मी मौके पर मौजूद थे।

Author Updated: October 13, 2018 11:58 AM
सड़क पर नमाज पढ़ता हुआ शख्स। (image source-Twitter/anil tiwari)

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में एक ऐसा मामला सामने आया है, जिससे सुरक्षा व्यवस्था पर सवाल खड़े हो गए हैं। दरअसल शुक्रवार शाम करीब 7 बजे लखनऊ के एनेक्सी भवन में सीएम योगी आदित्ननाथ मौजूद थे। वहीं एनेक्सी भवन के बाहर एक शख्स स्कूटी पर सवार होकर आया। उस व्यक्ति के पास चाकू भी था। इसके बाद उसने बीच सड़क पर जानमाज बिछाया और नमाज पढ़ने लगा। नमाज पढ़ने से पहले व्यक्ति ने पीएम मोदी और सीएम योगी के खिलाफ मुर्दाबाद के नारे लगाए। इस व्यक्ति ने जब तक नमाज पढ़ी, तब तक एनेक्सी भवन के बाहर की सड़क पर जाम लगा रहा। हैरानी की बात ये है कि इस पूरे घटनाक्रम के दौरान एक पुलिस कॉन्सटेबल और एक ट्रैफिक पुलिस कर्मी मौके पर मौजूद थे और काफी लोगों की भीड़ भी इकट्ठा हो गई थी। इसके बावजूद किसी ने भी उस व्यक्ति को रोकने की कोशिश नहीं की।

नमाज पढ़ने के बाद वह व्यक्ति उठा और स्कूटी पर सवार होकर आराम से चला गया। वीआईपी इलाके में इस तरह एक शख्स के चाकू लेकर आने और पीएम, सीएम के खिलाफ नारेबाजी करने के बाद आराम से वहां से चले जाने को लेकर सुरक्षा व्यवस्था को लेकर सवाल खड़े हो रहे हैं। सोशल मीडिया पर भी इसे लेकर सवाल उठाए जा रहे हैं। हालांकि मामले की जानकारी आला अधिकारियों को होने के बाद पुलिस सक्रिय हुई और एसएसपी कलानिधि नैथानी ने मौके पर मौजूद दोनों कॉन्स्टेबल को सस्पेंड कर दिया। साथ ही सड़क पर नमाज पढ़ने वाले शख्स के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर कार्रवाई करने के निर्देश दिए। फिलहाल पुलिस का कहना है कि सीसीटीवी फुटेज के आधार पर आरोपी की पहचान कर उसे गिरफ्तार कर लिया गया है। आरोपी की पहचान लखनऊ के ऐशबाग निवासी रफीक अहमद के रुप में हुई है।

बता दें कि सीएम योगी आदित्यनाथ की सुरक्षा में चूक का इससे पहले एक और वाक्या हो चुका है। दरअसल पिछले साल सीएम योगी आदित्यनाथ लखनऊ विश्वविद्यालय में एक कार्यक्रम में शिरकत करने गए थे। जब वह वापस लौट रहे थे, तब यूनिवर्सिटी के कुछ छात्र उनके काफिले में घुस आए और उनकी गाड़ी के आगे विरोध प्रदर्शन करने लगे थे। इस घटना के बाद सीएम की सुरक्षा में चूक के चलते 7 पुलिसकर्मियों को सस्पेंड कर दिया गया था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 एएमयू में आतंकी के लिए शोकसभा, कश्‍मीरी छात्रों पर देशद्रोह का मुकदमा दर्ज
2 मंच पर अभिनेता बन लीला दिखाएंगे राजनेता, डॉ हर्षवर्धन बनेंगे जनक तो शाहबाज खान होंगे रावण
3 मायावती से 5 महीने पहले खाली करवाया था सरकारी बंगला, योगी सरकार ने शिवपाल यादव को दिया