ताज़ा खबर
 

370 किलोमीटर बाइक चलाकर घर पहुंचा युवक पाया गया कोरोना पॉजिटिव, ग्रीन जोन का पहला मरीज

कांस्टेबल ने होंडा एक्टिवा में बेंगलुरु से धारवाड़ का सफर तय किया और एक कैंसर रोगी को दावा पहुंचाई और फिर वापस बेंगलुरु आ गए। इस दौरान उन्होंने अपनी स्कूटी से 960 किलोमीटर का सफर तय किया।

Author Edited By सिद्धार्थ राय नई दिल्ली | Updated: April 18, 2020 11:51 AM
परभणी जिले में पहला कोरोना पॉज़िटिव केस मिला। (indian express)

महाराष्ट्र के परभणी जिले में गुरुवार को कोरोना वायरस का पहला मामला सामने आया है। पुणे से एक 21 वर्षीय व्यक्ति बाईक पर सवर होकर 370 किमी की यात्रा कर तीन ‘सील’ जिला सीमाओं से गुजरते हुए परभणी पहुंचा। जो बाद में कोरोना वायरस से संक्रमित पाया गया। परभणी जिला का यह पहला केस है। जिला अबतक ग्रीन ज़ोन’ में बना हुआ था और यहां एक भी कोरोना पॉज़िटिव केस नहीं था।

संक्रमित व्यक्ति हिंगोली जिले के ज्वाला बाज़ार का रहने वाला है। वह  पुणे के पास भोसरी में एक फर्नीचर की दुकान पर काम करता है। 12 अप्रैल की रात को वह भोसरी में पने घर से निकला और अगली सुबह परभणी में अपने बहनोई के घर पहुंचा। व्यक्ति को गले में जलन की शिकायत थी जिसके बाद उसे रिश्तेदार द्वारा एक सार्वजनिक स्वास्थ्य केंद्र में ले जाया गया। जहां वे गुरुवार को पॉज़िटिव पाये गए।

Coronavirus in India LIVE Updates: यहां पढ़ें कोरोना वायरस से जुड़ी सभी लाइव अपडेट 

दिलचस्प बात यह है कि 21 वर्षीय व्यक्ति को पुलिसकर्मियों ने तीन जिला सीमाओं में से दो चेक-पोस्ट पर रोक दिया था, लेकिन उसने किसी तरह पुलिस को चकमा देकर आगे निकाल गया। अहमदनगर-बीड सीमा पर मटोरी चेक-पोस्ट पर कम से कम 14 लोग और बीड़-परभणी बॉर्डर पर ढेलागाँव चेक-पोस्ट पर पांच व्यक्ति जो उनके संपर्क में आए थे, उन्हें क्वारंटाइन किया गया है और उनका टेस्ट किया जा रहा है।

परभणी कलेक्टर दीपक मुगलिकर ने कहा कि हालांकि जिले की सीमाओं को सील कर दिया गया है और जिले में 15 प्रवेश बिंदुओं पर चेक-पोस्ट स्थापित किए गए हैं। कम संख्या में लोग सिस्टम को चकमा देकर अंदर घुस जाते हैं। इससे प्रशासन को निगरानी मजबूत करनी पड़ रही है। जिले की सीमा से लगे गांवों में सर्विलांस किया जा रहा है।

मुगलिकर ने कहा “यह आदमी रात में पुणे से देर रात निकला और तड़के ढेलगाँव के पास बीड जिले के साथ हमारी सीमा पर पहुंचा गया। चेक-पोस्ट पर मौजूद पुलिसकर्मियों ने उसे रोका और उसे भगा दिया। हालाँकि, वह किसी तरह किसी सीमा पार कर गया और परभणी शहर में अपने बहनोई के घर पर आ गया। वह परभणी का निवासी नहीं है। वह ज्वाला बाज़ार से है, जो यहाँ से लगभग 40 किलोमीटर दूर एक शहर है।”

जानिये- किसे मास्क लगाने की जरूरत नहीं और किसे लगाना ही चाहिए |इन तरीकों से संक्रमण से बचाएं क्या गर्मी बढ़ते ही खत्म हो जाएगा कोरोना वायरस? । इन वेबसाइट और ऐप्स से पाएं कोरोना वायरस के सटीक आंकड़ों की जानकारी, दुनिया और भारत के हर राज्य की मिलेगी डिटेल । कोरोना संक्रमण के बीच सुर्खियों में आए तबलीगी जमात और मरकज की कैसे हुई शुरुआत, जान‍िए

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 लॉकडाउन में 960 KM बाइक चलाकर कैंसर मरीज को पहुंचाई दवा, पुलिसवाले की लोग कर रहे तारीफ
2 लॉकडाउन नियम तोड़ने पर जम्मू की उपमहापौर समेत 3 भाजपा नेताओं पर केस
3 लॉकडाउन में दो दिनों से भूखा था आठ लोगों का परिवार, प्रवासी मजदूर ने 2500 में फोन बेचकर खरीदा राशन, और पंखा, फिर कर ली खुदकुशी
यह पढ़ा क्या?
X