ताज़ा खबर
 

सांस में लेने में थी परेशानी, रातभर एक अस्पताल से दूसरे में भटकते रहे परिजन, आठ घंटे तक किसी ने नहीं किया भर्ती, सुबह हुई मौत

मृतक सुदर्शन रसल वर्ली का रहने वाला था, यह मुंबई के कोरोनावायरस प्रभावित इलाकों में से है। यहां अब तक संक्रमण के कम से कम 388 मामले सामने आ चुके हैं।

CoronaVirusप्रतीकात्मक फोटो।

देशभर में कोरोनावायरस के बढ़ते मामलों के बीच ज्यादातर अस्पतालों का ध्यान इस वक्त सिर्फ उन्हीं मरीजों पर है, जो या तो संक्रमित हुए हैं या फिर जिन्हें पहले से कोई गंभीर बीमारी है। कई अस्पतालों ने तो ज्यादा बोझ की वजह से कोरोनावायरस पीड़ितों के अलावा दूसरी बीमारी से जूझ रहे लोगों को भर्ती करने तक से इनकार कर दिया है। ऐसा ही मामला महाराष्ट्र के मुंबई से भी आया है। यहां वर्ली के रहने वाले एक 49 वर्षीय व्यक्ति को सांस लेने में परेशानी शुरू हो गई। उसका परिवार ने गंभीर स्थिति को देखते हुए भर्ती कराने के लिए एक-दो नहीं बल्कि 8 अस्पतालों के चक्कर काटे। लेकिन किसी ने भी उसे भर्ती नहीं किया, जिसके बाद व्यक्ति की जान चली गई।

मृतक का नाम सुदर्शन रसल बताया गया है। उसके भाई अविदन ने आरोप लगाया कि सुदर्शन को अगर समय पर वेंटिलेटर पर रखा जाता, तो उसकी जान बचाई जा सकती थी। अविदन के मुताबिक, “हम आठ घंटों तक एक अस्पताल से दूसरे अस्पताल तक भागते रहे। हर अस्पताल में हमने अधिकारियों से सुदर्शन को भर्ती करने की मिन्नतें कीं। लेकिन सारी कोशिशें बेकार साबित हुईं।”

देश में कोरोना वायरस से जुड़ी पूरी जानकारी के लिए यहां क्लिक करें

रसल परिवार वर्ली का रहने वाला है, जो कि इस वक्त मुंबई में कोरोनावायरस का हॉटस्पॉट बना हुआ है। यहां से अब तक संक्रमण के कम से कम 388 मामले सामने आ चुके हैं। यह मुंबई के किसी भी वॉर्ड में सबसे ज्यादा है। डायबिटीज से पीड़ित सुदर्शन को ब्लड प्रेशर की भी दिक्कत थी। साथ ही उसे कफ और सांस की भी समस्याएं थीं। पिछले कुछ दिनों से उसे हल्का कफ था। अविदन के मुताबिक, शुक्रवार रात उसे सांस लेने में काफी समस्या होने लगी। साथ ही उल्टियां भी शुरू हो गईं। परिवार के सदस्य संक्रमण की आशंका के साथ उसे पास के ही कस्तूरबा अस्पताल ले गए। अविदन का कहना है कि डॉक्टरों ने बिना टेस्टिंग किट के ही उसकी जांच की और कहा कि यह कोरोना संक्रमण का मामला नहीं है।

इसके बाद परिवारवालों ने नायर हॉस्पिटल से लेकर सेंट जॉर्ज अस्पताल, केईएम, ईएनटी अस्पताल, ग्लोबल हिंदुजा और नानावटी तक के चक्कर लगाए। लेकिन कहीं मदद न मिलने के बाद वे घर लौट गए। शनिवार सुबह सुदर्शन की सांस न ले पाने से मृत्यु हो गई। परिवार को अब पता नहीं चल पाएगा कि उसे कोरोनावाययरस था या नहीं, क्योंकि आईसीएमआर की गाइडलाइंस के मुताबिक, मृत व्यक्ति के सैंपल्स नहीं इकट्ठा किए जाने हैं।

जानिए राज्यों में कैसे बढ़ रहे कोरोनावायरस के मामले

परिजनों का आरोप है कि सुदर्शन को बीएमसी और निजी दोनों ही अस्पतालों में बेड की कमी बताकर एडमिट नहीं किया गया। इंडियन एक्सप्रेस की टीम ने जब बीएमसी और निजी अस्पतालों की पड़ताल की, तो सामने आया कि ग्लोबल, हिंदुजा और नानावटी में रिजर्व बेड मौजूद थे, जिनमें कोरोना संक्रमितों का इलाज होना था। बताया गया है कि रसल टैक्सी ड्राइवर था। लॉकडाउन का ऐलान होने के बाद से ही वह घर पर था।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 तेलंगाना ने लॉकडाउन 7 मई तक बढ़ाया, राज्य सरकार 5 को करेगी स्थिति की समीक्षा