ताज़ा खबर
 

विवाहेतर संबंध बना श्वेता की हत्या की वजह!

दस दिन पहले छिजारसी कॉलोनी में रहने वाली श्वेता सिंह (25) की हत्या अवैध संबंधों की वजह से हुई थी। थाना फेज-3 पुलिस ने आरोपी विनोद को रविवार सुबह छिजारसी से गिरफ्तार कर वारदात में इस्तेमाल चाकू को बरामद किया है।

Author नोएडा | January 9, 2018 12:59 AM
प्रतीकात्मक तस्वीर

दस दिन पहले छिजारसी कॉलोनी में रहने वाली श्वेता सिंह (25) की हत्या अवैध संबंधों की वजह से हुई थी। थाना फेज-3 पुलिस ने आरोपी विनोद को रविवार सुबह छिजारसी से गिरफ्तार कर वारदात में इस्तेमाल चाकू को बरामद किया है। आरोपी के खिलाफ मृतका के पति ने ही मामला दर्ज कराया था। वारदात को अंजाम देने के बाद विनोद फरार चल रहा था। पुलिस पूछताछ में उसने बताया कि श्वेता सिंह के साथ उसके काफी दिनों से अवैध संबंध थे। जब श्वेता उससे दूरी बनाने लगी, तो वह नाराज रहने लगा। 28 दिसंबर को मौका मिलते ही वह श्वेता के घर पहुंचा। जहां कहासुनी होने के बाद श्वेता का गला रेतकर फरार हो गया। वारदात के समय श्वेता का पति नौकरी पर और बेटा घर के बाहर खेलने गया हुआ था।
पुलिस के मुताबिक, मूल रूप से मुजफ्फरनगर के रहने वाले आरोपी विनोद की छह महीने पहले श्वेता से मुलाकात हुई थी। जिसके बाद दोनों के बीच अवैध संबंध हो गए थे। हत्या से करीब एक सप्ताह पहले श्वेता उससे दूरी बनाने लगी। यह बात विनोद को नागवार लगी। श्वेता की नाराजगी की वजह पूछने के लिए विनोद ने कई बार बात करने की कोशिश की लेकिन श्वेता इसके लिए तैयार नहीं हुई। 28 दिसंबर की दोपहर को विनोद श्वेता के घर पहुंचा। उस समय वह अकेली थी। दूरी बनाने को लेकर दोनों के बीच बहस होने के बाद विनोद ने श्वेता का गला रेतकर हत्या कर दी।

श्वेता अपने पति और 4 साल के बेटे के साथ छिजारसी में रहती थी। उसका पति सेक्टर- 63 की एक कंपनी में नौकरी करता था। 28 दिसंबर को सुबह 11 बजे श्वेता बाजार से सामान लेकर घर आई थी। उसका बेटा घर के बाहर खेलने गया था। उधर, महज अवैध संबंधों से दूरी बनाने के चलते की गई हत्या के दावे को श्वेता का पति और परिजन मानने को तैयार नहीं हैं। हालांकि पति ने आरोपी के रूप में विनोद का नाम लिखकर ही पुलिस को तहरीर दी थी। इसी तहरीर के आधार पर पुलिस ने जांच शुरू की थी। बताया गया है कि विनोद पूरी तरह मानसिक रूप से स्वस्थ नहीं है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App