शरद पवार से मिलीं ममता बनर्जी, कहा- तैयार कर रहे हैं BJP का अल्टरनेटिव; राहुल गांधी पर बोलीं- अक्सर विदेश रहने वालों का क्या भरोसा

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने बुधवार को कहा कि अब कोई संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (यूपीए) नहीं है। बनर्जी ने कहा कि अगर सभी क्षेत्रीय दल एक साथ आ जाते हैं तो भाजपा को हराना आसान होगा।

mamata meets sharad pawar
शरद पवार से मिलीं ममता बनर्जी (फोटो- @ani)

बंगाल जीत के बाद से बीजेपी के खिलाफ 2024 के लिए मोर्चा बना रहीं ममता बनर्जी ने बुधवार को राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के प्रमुख शरद पवार से मुलाकात की। इस दौरान टीएमसी प्रमुख ने कांग्रेस नेता राहुल गांधी पर भी हमला बोला है।

टीएमसी और कांग्रेस के बीच संबंधों में तनाव के बीच, पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने बुधवार को कहा कि अब कोई संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (यूपीए) नहीं है। उन्होंने राहुल गांधी पर निशाना साधते हुए कहा कि जो अक्सर विदेश में रहते हैं, उनका क्या भरोसा? बनर्जी ने कहा- “आधा टाइम विदेश में रहोगे, तो राजनीति कैसे होगी? आज देश में फासीवाद का माहौल है। इसके खिलाफ एक मजबूत विकल्प देने की जरूरत है। इसे कोई अकेला नहीं कर सकता। जो मजबूत हैं उन्हें साथ लिया जाना चाहिए”।

ममता बनर्जी ने कहा कि वो बीजेपी का अल्टरनेटिव तैयार कर रही हैं। यह पूछे जाने पर कि क्या शरद पवार यूपीए का नेतृत्व करेंगे तो उन्होंने साफ कहा- “क्या यूपीए? अब यूपीए नहीं है। हम इसे एक साथ तय करेंगे।” इसके बाद जब बनर्जी से पूछा गया कि क्या कांग्रेस को छोड़कर कोई विकल्प होगा, उन्होंने कहा- “शरद जी ने जो कहा वह यह है कि लड़ने वालों का एक मजबूत विकल्प होना चाहिए। कोई लड़ नहीं रहा है तो हम क्या करें? हमें लगता है कि सभी को लड़ना चाहिए।”

इससे पहले दिन में, मुंबई में कुछ नागरिक समाज के सदस्यों के साथ बातचीत करते हुए, टीएमसी प्रमुख ने कहा था कि उन्होंने कांग्रेस को सुझाव दिया था कि विपक्ष को निर्देश देने के लिए नागरिक समाज की प्रमुख हस्तियों की एक सलाहकार परिषद का गठन किया जाए, लेकिन अफसोस कि ये योजना अमल में नहीं आई।

बनर्जी ने कहा कि अगर सभी क्षेत्रीय दल एक साथ आ जाते हैं तो भाजपा को हराना आसान होगा। उन्होंने कहा, “हम भाजपा हटाओ देश बचाओ कहना चाहते हैं।” उन्होंने कहा कि उनकी पार्टी तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) उत्तर प्रदेश में आगामी विधानसभा चुनाव नहीं लड़ेगी।

इस मुलाकात के बाद शरद पवार ने भी एक मजबूत वैकल्पिक नेतृत्व की आवश्यकता दोहराई है। राकांपा प्रमुख ने कहा कि ममता की मंशा यह है कि राष्ट्रीय स्तर पर समान विचारधारा वाली ताकतें एक साथ आएं और सामूहिक नेतृत्व स्थापित करें। उन्होंने कहा- “हमारी सोच आज के लिए नहीं बल्कि चुनाव के लिए है।”

यह पूछे जाने पर कि क्या कांग्रेस के बिना गठबंधन होने की संभावना है। पवार ने कहा- “भाजपा का विरोध करने वाले सभी लोगों का हमारे साथ आने का स्वागत है। किसी को बाहर करने का सवाल ही नहीं है।”

पढें राज्य समाचार (Rajya News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट