ताज़ा खबर
 

दिल्ली के प्रमुख मार्गों को पैदल यात्रियों के लिए बनाने की तैयारी

दिल्ली में सड़कों के पास स्थानीय एजंसियों की मदद से फुटपाथ का निर्माण किया गया है लेकिन ये फुटपाथ लोगों के लिए अधिक उपयोगी नहीं हैं। इसकी वजह इनकी खराब डिजाइन है।

Author नई दिल्ली | June 17, 2019 6:11 AM
फाइल फोटो

पंकज रोहिला

दिल्ली के प्रमुख मार्गों को पैदल चलने वालों के लिए सुुविधाजनक बनाया जाएगा। इसके लिए तैयारियां शुरू हो गर्इं हैं। मौजूदा समय में प्रमुख मार्ग पर अगर कोई आम नागरिक पैदल चलना चाहे तो उसकी राह का सबसे बड़ा रोड़ा अवैध निर्माण, कब्जे और बेहतर फुटपाथ व्यवस्था का न होना है। इन परेशानियों को दूर करने के लिए जल्द ही दिल्ली की 12 से अधिक सड़कों का कायाकल्प करने की तैयारी चल रही है। ग्रीन मॉबिलिटी पायलट प्रोजेक्ट में दिल्ली विकास प्राधिकरण (डीडीए) की सड़कें शामिल हैं। केंद्र सरकार की योजना है कि इन सड़कों को पैदल यात्रियों के लायक बनाया जाए। योजना का मकसद दिल्ली में लोगों को पैदल चलने के लिए बढ़ावा देना है।

दरअसल, दिल्ली में सड़कों के पास स्थानीय एजंसियों की मदद से फुटपाथ का निर्माण किया गया है लेकिन ये फुटपाथ लोगों के लिए अधिक उपयोगी नहीं हैं। इसकी वजह इनकी खराब डिजाइन है। इन पर पैदल चल रहे साधारण व्यक्ति को मुख्य मार्ग पर उतरना और चढ़ना पड़ता है और इस वजह से लोग फुटपाथ का अधिक प्रयोग नहीं कर रहे हैं। जबकि विदेशों में डिजाइन की इन खामियों को दूर किया गया है और पैदल यात्रियों के गलियारे में किसी प्रकार की अड़चन नहीं है। इसी तर्ज पर दिल्ली के मार्गों को बेहतर किया जा सकता है। इन मार्गो की व्यवस्था दुरूस्त करने के साथ-साथ यह भी फैसला लिया गया है कि इस सूची में उन क्षेत्रों को भी शामिल किया जाए, जहां पर पैदल मार्ग प्रयोग करने वाले अधिक नागरिक हों। इसके माध्यम से कम दूरी के लिए वाहनों का प्रयोग भी कम होगा और स्वास्थ्य लाभ के लिए लोग गलियारे का अधिक उपयोग करेंगे।

फुटओवर ब्रिज मजबूरी में इस्तेमाल करते हैं दिल्ली वाले
पैदल यात्रियों को सुरक्षित सफर देने के लिए दिल्ली में फुट ओवर ब्रिज का निर्माण किया गया है। लेकिन इनका इस्तेमाल लोग कम करते हैं। फुटओवर ब्रिज से सड़क पार करने के लिए लोगों को ब्रिज के ऊपर चढ़ना होता है। इस स्थिति में सुधार के लिए दिल्ली में रैंप वाले फुटओवर ब्रिज बनाए गए थे। लेकिन अब इनका उपयोग दुपहिया वाहन चालकों के माध्यम से हो रहा है। 2018 तक दिल्ली में 90 फुट ओवर ब्रिज बनाए गए हैं।

इन मार्गों का होगा कायाकल्प
दिल्ली विश्वविद्यालय के उत्तरी व दक्षिणी परिसर, उत्तम नगर क्रासिंग, चांदनी चौक, आइएसबीटी, आईएनए, हौजखास से आईआईटी, नेहरू प्लेस, भीकाजी कामा प्लेस, करोल बाग, साकेत-मालवीय नगर, कमला नगर, लक्ष्मी नगर, द्वारका मेट्रो स्टेशन सेक्टर-21, पुरानी व नई दिल्ली रेलवे स्टेशन, मंडी हाउस, पुराना किला-प्रगति मैदान और चिड़ियाघर, इंद्रलोक स्टेशन, आजादपुर मंडी और मेट्रो स्टेशन, आसफअली रोड व जेएलएन मार्ग।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App