ताज़ा खबर
 

भाजपा की शिकायत पर कांग्रेस के पूर्व मंत्री के बेटों पर धोखाधड़ी का मामला दर्ज

सूरजकुंड पुलिस ने पूर्व मंत्री महेंद्र प्रताप सिंह के बेटों विवेक प्रताप और विजय प्रताप सिंह समेत सात लोगों के खिलाफ जमीन बेचने के नाम पर नौ करोड़ 50 लाख रुपए की धोखाधड़ी का मामला दर्ज किया है।

Author फरीदाबाद | July 21, 2016 5:44 AM
भाजपा और कांग्रेस के झंडे

सूरजकुंड पुलिस ने पूर्व मंत्री महेंद्र प्रताप सिंह के बेटों विवेक प्रताप और विजय प्रताप सिंह समेत सात लोगों के खिलाफ जमीन बेचने के नाम पर नौ करोड़ 50 लाख रुपए की धोखाधड़ी का मामला दर्ज किया है। पुलिस ने यह मामला सेक्टर 28 में रहने वाले भाजपा नेता संदीप चपराना की शिकायत पर दर्ज किया है। पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी है। फिलहाल किसी आरोपी को गिरफ्तार नहीं किया गया है। कांग्रेस नेता विजय प्रताप सिंह का कहना है कि उनके और उनके भाई के खिलाफ दर्ज मामला पूरी तरह से राजनीति से प्रेरित और निराधार है। जिस जमीन को लेकर मामला दर्ज किया गया है उससे उनका कोई लेना-देना नहीं है और न ही वे जमीन के मालिक हैं।

सेक्टर-28 में रहने वाले भाजपा नेता संदीप चपराना ने सूरजकुंड थाने में पूर्व मंत्री और कांग्रेस के दिग्गज नेता महेंद्र प्रताप सिंह के बेटों विजय प्रताप सिंह, विवेक प्रताप सिंह, अशोक विहार दिल्ली के रहने वाले देवेंद्र त्यागी, जितेंद्र त्यागी, सैनिक कॉलोनी के रहने वाले धर्मेंद्र, अनंगपुर के रहने वाले बिजेंद्र सिंह उर्फ विजय और पंचकूला के रहने वाले हरिवंद्र भोला के खिलाफ धोखाधड़ी समेत कई धाराओं में मामला दर्ज कराया है। चपराना ने अपनी शिकायत में पुलिस को बताया है कि इन लोगों ने साजिश रचकर जमीन की सौदेबाजी में नौ करोड़ 50 लाख रुपए ऐंठ लिए। उनका आरोप है कि न तो उन्हें जमीन दी गई और न ही उसकी रजिस्ट्री करवाई गई।

चपराना ने यह शिकायत फरवरी 2016 में पुलिस को दी थी। लेकिन इस पर मामला अब दर्ज हुआ है। चपराना ने पुलिस में दी शिकायत में कहा है कि विजय प्रताप और वेद प्रताप त्यागी पाइप क्राफ्ट प्राइवेट लिमिटिड में निदेशक हैं। जितेंद्र त्यागी, देवेंद्र त्यागी, बिजेंद्र ऊर्फ विजय, धर्मेंद्र व हरविंद्र भोला ने एक साजिश के तहत त्यागी पाइप क्राफ्ट प्राइवेट लिमिटेड की जमीन का सौदा 26 करोड़ 92 लाख रुपए में किया था। इस सौदे में एचडीएफसी बैंक का एक करोड़ रुपए का चेक और साढ़े आठ करोड़ रुपए विजय प्रताप के जरिए नगद दिए गए हैं। जमीन के एग्रीमेंट के बाद इन लोगों ने चपराना को बताया कि जमीन पर बैंक का लोन है। इसे वापस कर जमीन की रजिस्ट्री करवा देंगे। बार-बार कहने के बावजूद ये लोग रजिस्ट्री करवाने में आनाकानी करते रहे।

संदीप ने बताया कि उनसे पैसे लेने के बाद त्यागी पाइप क्राफ्ट प्राइवेट लिमेटिड के निदेशकों ने इस जमीन का सौदा विजय प्रताप के मौसी के बेटे धर्मेंद्र के साथ 32 करोड़ में कर लिया। संदीप ने अपनी शिकायत में आगे कहा कि इन लोगों ने उसके साथ धोखाधड़ी कर जमीन हड़पने की साजिश रची है। संदीप चपराना पूर्व मंत्री महेंद्र प्रताप के बेहद करीबी नेताओं में थे। चपराना बडखल विधानसभा क्षेत्र कांग्रेस के अध्यक्ष रहे हैं। सत्ता परिवर्तन के बाद चपराना ने कांग्रेस छोड़ भाजपा का दामन थाम लिया। आजकल इनकी गिनती केंद्रीय अधिकारिता और सामाजिक न्याय राज्यमंत्री कृष्णपाल गुर्जर के बेहद करीबी नेताओं में होती है।

दूसरी तरफ इस मामले में विजय प्रताप सिंह ने कहा कि राजनीति में उनकी चौथी पीढ़ी है, इस तरह के मामलों से वह और उनका परिवार किसी दबाव में आने वाला नहीं है। विजय प्रताप ने आरोप लगाया कि संदीप चपराना से उन्हें 61 लाख रुपए लेने हैं। इसका बैंक विवरण भी उनके पास है, जिसे वे पेश करेंगे। विजय प्रताप ने जनसत्ता को बताया कि केंद्रीय राज्य मंत्री कृष्णपाल गुर्जर के दबाव में पुलिस ने यह मामला दर्ज किया है। इस मामले में कृष्णपाल गुर्जर के निजी सहायक ने बताया कि वे संसद में हैं और उनकी तरफ से पुलिस पर कोई दबाव नहीं डाला गया। तथ्य सबके सामने हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

X