ताज़ा खबर
 

KGMP में महर्षि वाल्मीकि की मूर्ति टूटने पर मायावती नाराज, कहा- यह दलितों को भड़काने की हरकत, कांग्रेस ने बीजेपी पर लगाया आरोप

लखनऊ के किंग जॉर्ज मेडिकल कालेज परिसर में दो दिन पहले महर्षि वाल्मीकि की मूर्ति क्षतिग्रस्त होने की घटना पर बसपा अध्यक्ष मायावती ने कड़ी नाराजगी जताते हुए दोषियों पर तत्काल कार्रवाई की मांग की है। उनके सुर में सुर मिलाते हुए कांग्रेस ने इसे भाजपा की साजिश बताया।

Author लखनऊ | Updated: September 20, 2019 12:22 PM
मायावती (फोटो सोर्स -इंडियन एक्सप्रेस)

लखनऊ के किंग जॉर्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी (KGMU) परिसर में बुधवार को महर्षि वाल्मीकि की मूर्ति टूटने और दीवार क्षतिग्रस्त होने पर बसपा अध्यक्ष मायावती ने सख्त नाराजगी जताई है। उन्होंने गुरुवार को राज्य सरकार से जिम्मेदार लोगों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने को कहा। बसपा अध्यक्ष मायावती ने ट्वीट कर कहा कि दलितों को भड़काने के लिए एक के बाद एक ऐसी हरकतें जानबूझकर की जा रही हैं। ये बेहद शर्मनाक और निंदनीय है। उन्होंने मांग की कि इन घटनाओं को पूरी गंभीरता के साथ लेते हुए केंद्र और राज्य सरकारों को तत्काल सख्त कदम उठाने चाहिए।

कांग्रेस ने भाजपा की साजिश बताया: विधायक दल के नेता अजय कुमार लल्लू ने आरोप लगाया कि यह घटना एक राजनीतिक साजिश का हिस्सा है जिसका उद्देश्य समाज से दरकिनार किए गए लोगों की भावनाओं को आहत करना है। उन्होंने घटना में भाजपा का हाथ होने का आरोप लगाते हुए मंदिर के पुनर्निर्माण की मांग की।

National Hindi News, 20 September 2019 LIVE Updates: देश-दुनिया की हर खबर पढ़ने के लिए यहां करें क्लिक

वाल्मीकि समाज ने दर्ज कराई रिपोर्ट: लखनऊ के चौक पुलिस स्टेशन के स्टेशन हाउस ऑफिसर (SHO) पंकज कुमार सिंह के अनुसार वाल्मीकि समाज संगठन के महासचिव श्यामलाल वाल्मीकि की शिकायत पर KGMU प्रशासन के खिलाफ आईपीसी की धारा 295 A (जानबूझकर और दुर्भावनापूर्ण कृत्य, किसी भी वर्ग की धार्मिक भावनाओं, उसके धर्म या धार्मिक विश्वासों का अपमान करना) और धारा 427 (नुकसान पहुंचाने वाली शरारत) के तहत एक प्राथमिकी दर्ज की गई है।

Swami Chinmayanand arrests Live Updates: बीजेपी नेता चिन्मयानंद की गिरफ्तारी से संबंधित हर खबर यहां पढ़ें

अज्ञात लोगों के खिलाफ केस दर्ज: भूमि समतल करने वाले लोग जिम्मेदार मामले पर केजीएमयू के अधिकारियों ने कहा कि मंदिर या मूर्ति क्षतिग्रस्त करने का कोई आदेश नहीं दिया गया था। अफसरों ने ऐसा करने वाले अज्ञात लोगों के खिलाफ बुधवार को केस दर्ज करा दिया है। प्रशासन ने कहा कि उन्होंने केवल मंदिर के पास की भूमि को समतल करने का आदेश दिया था। आशंका है कि भूमि समतल करने वाले लोग ही विध्वंस के लिए जिम्मेदार हैं और जांच के बाद उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। मंदिर का पुनर्निर्माण शुरू करा दिया गया है।

केजीएमयू प्रशासन का आरोप से इंकार  केजीएमयू प्रशासन ने दावा किया कि मंदिर को ध्वस्त करने का ऐसा कोई आदेश उनके द्वारा जारी नहीं किया गया था। चौक पुलिस को विध्वंस के लिए जिम्मेदार लोगों के खिलाफ आवश्यक कार्रवाई करने के लिए कहते हुए केजीएमयू के प्रमुख प्रॉक्टर आरएएस कुशवाहा ने कहा कि मंदिर का पुनर्निर्माण शुरू कर दिया गया है। कुशवाहा ने चौक पुलिस स्टेशन के एसएचओ को संबोधित पत्र में लिखा कि बुधवार को लगभग 11 बजे उन्हें सूचना मिली कि परिसर में किसी ने वाल्मीकि मंदिर को ध्वस्त कर दिया है। हमने स्थल का दौरा किया है और आपसे मामले का संज्ञान लेने का अनुरोध करते हैं। उन्होंने बताया कि मंदिर का पुनर्निर्माण शुरू कर दिया गया है। एसएचओ पंकज सिंह ने कहा कि कुशवाहा की शिकायत को पहले दर्ज की गई एफआईआर में जोड़ दिया गया है। मामले की जांच जारी है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 Mumbai के कई इलाकों में हुआ गैस रिसाव, दहशत के कारण आधी रात में सड़कों पर निकल आए लोग
2 Kartarpur Sahib: दर्शन के लिए देनी होगी एंट्री फीस, CM अमरिंदर बोले- PAK वसूल रहा ‘जजिया कर’
3 Allahabad University: तहखाने में मिली मुगलकालीन बंदूक और तोप के गोले, चपरासी ने खोजे 16वीं सदी के ये हथियार