ताज़ा खबर
 

सीएम फणनवीस के बाहरी लोगों की तारीफ करने पर भड़की शिवसेना, कहा- वापस लो बयान

शिवसेना ने कहा कि महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़नवीस को मुंबई में बाहरी लोगों के योगदान की तारीफ करने वाले अपने गैरजिम्मेदाराना बयान को वापस लेना चाहिए।
Author मुंबई | December 2, 2017 18:24 pm
शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे केंद्र और राज्य सरकार के खिलाफ लगातार हमलावर रहे हैं। (Express Photo)

महाराष्ट्र की देवेंद्र फड़नवीस सरकार और सहयोगी पार्टी शिवसेना के बीच तल्खी कम होने का नाम नहीं ले रही है। बाहरी लोगों के मसले पर सहयोगी पार्टी ने शनिवार को एक बार फिर से मुख्यमंत्री पर हमला बोला है। शिवसेना ने कहा कि महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़नवीस को मुंबई में बाहरी लोगों के योगदान की तारीफ करने वाले अपने गैरजिम्मेदाराना बयान को वापस लेना चाहिए। देवेंद्र फड़नवीस के नेतृत्व वाली महाराष्ट्र सरकार और केंद्र में राजग गठबंधन की सहयोगी शिवसेना कई मुद्दों को लेकर अक्सर भाजपा पर निशाना साधती रहती है।

शिवसेना ने अपने मुखपत्र सामना में प्रकाशित संपादकीय में कहा, मुंबई पर मराठी लोगों का पहला अधिकार और दावा है। फड़नवीस का बयान महाराष्ट्र का अपमान है। संपादकीय में कहा गया है, फड़नवीस को अपना गैरजिम्मेदाराना बयान वापस लेना चाहिए। मुख्यमंत्री ने मुंबई के विकास में उत्तर भारतीयों और अन्य राज्यों के लोगों के योगदान की तारीफ की थी। फड़नवीस ने कहा था कि देश की वित्तीय राजधानी ने हमेशा कई लोगों को शरण दी है और यहां रहने वाले लोगों ने शहर की प्रतिष्ठा बढ़ाई है। फड़नवीस ने बुधवार को उपनगरीय इलाके घाटकोपर में एक सार्वजनिक कार्यक्रम में कहा, मेरा मानना है कि जो चीजें मुंबई को महान बनाती हैं, उनमें वे लोग भी हैं जो विभिन्न राज्यों से आते हैं और यहां बस जाते हैं। वे भी मुंबई को महान बनाते हैं।

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री ने कहा, आज जब हम मुंबई और महाराष्ट्र की बात करते हैं तो तुरंत उत्तर भारतीय समुदाय की ओर देखते हैं। इस शहर ने हमेशा कई लोगों को शरण दी है और जिन लोगों को यहां आश्रय मिला है उन्होंने हमेशा शहर का मान और सम्मान बढ़ाया है। भाजपा नेता ने कहा, आज, हम कह सकते हैं कि मुंबई में बसे उत्तर भारतीय समुदाय ने हमेशा शहर की प्रतिष्ठा बढ़ाने का काम किया है। फड़नवीस के ये बोल शिवसेना को नागवार गुजरे हैं। उद्धव ठाकरे की नेतृत्व वाली शिवसेना कई मुद्दों पर केंद्र और राज्य सरकार पर हमलावर रही है। नोटबंदी और किसानों के मसले पर अनेकों बार तल्ख टिप्पणियां की गई हैं। इसको लेकर दोनों पार्टी के नेता कई बार आमने-सामने आ चुके हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.