ताज़ा खबर
 

महाराष्ट्र बीजेपी अध्यक्ष के बेटे की शादी में शामिल हुए 30 हजार मेहमान, नहीं गया शिवसेना का कोई बड़ा नेता

इस शादी समारोह में मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़णवीस सहित पूरी महाराष्ट्र सरकार की कैबिनेट मौजूद थी। दुल्हन जानेमाने संगीतकार राजेश सरकाटे की बेटी हैं।

इस शादी समारोह में 30 हजार मेहमान मौजूद थे, जिसमें कई वीवीआईपी भी शामिल थे।

महाराष्ट्र में बीजेपी और शिवसेना के बिगड़ चुके रिश्तों की तस्वीर एक बार फिर दिखी। गुरुवार को महाराष्ट्र बीजेपी के अध्यक्ष रावसाहेब दानवे के बेटे संतोष की शादी में शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे और पार्टी के आला नेता नहीं पहुंचे। इतना ही नहीं देवेंद्र फड़णवीस सरकार में शिवसेना के कोटे से मंत्री औरंगाबाद से रामदास कदम और कई अन्य सांसद और विधायक भी नहीं पहुंचे। इलाके से सिर्फ दो ही पार्टी अधिकारी संतोष की शादी में पहुंचे, जो भोकर्दन से एमएलए हैं। इस शादी समारोह में मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़णवीस सहित पूरी महाराष्ट्र सरकार की कैबिनेट मौजूद थी। दुल्हन जानेमाने संगीतकार राजेश सरकाटे की बेटी हैं।

VVIP मेहमानों का लगा तातां : इस शादी समारोह में 30 हजार मेहमान मौजूद थे, जिसमें कई वीवीआईपी भी शामिल थे। नेताओं की बात करें तो शिवसेना की तरफ से दो राज्यमंत्री इस समारोह में पहुंचे, जबकि दो विपक्षी पार्टी के नेता भी यहां मौजूद थे। कई केंद्रीय मंत्री भी शादी का हिस्सा बने। विवाह के लिए एक बड़ा मध्ययुगीन महल जैसे शहर का सेट बाहरी इलाके में जबिंदा एस्टेट में स्थापित किया गया था।
बता दें कि पिछले हफ्ते वोटों की गिनती की पूर्व संध्या पर रावसाहेब दानवे ने ठाकरे को उनके घर मातोश्री जाकर न्योता दिया था, जिसके बाद कयास लगाए जा रहे थे कि दोनों पार्टियों में फिर से सुलह हो सकती है।

सेना के एक अधिकारी ने टाइम्स अॉफ इंडिया को बताया कि दानवे का खुद मातोश्री जाने से बीजेपी यह उम्मीद लगा रही थी कि शायद चुनावों के बाद उनका गठबंधन फिर से जुड़ जाएगा। लेकिन दानवे के बेटे की शादी में शिवसेना या उसके किसी बड़े नेता के नहीं जाने से दोनों पार्टियों के बिगड़ चुके रिश्तों का संकेत मिल गया है। शादी में शरीक हुए सेना के सांसद चंद्रकांत खैरे ने इस बात की पुष्टि की कि उद्धव ठाकरे और कई बड़े शिवसेना के नेता विवाह में शामिल नहीं हुए।

बता दें कि हाल ही में बीएमसी चुनाव हुए थे, जिसमें किसी भी पार्टी को पूर्ण बहुमत नहीं मिला था। शिवसेना को सबसे ज्यादा 84 और बीजेपी को 82 सीटें मिली थीं। फिलहाल कयास लगाए जा रहे हैं कि शिवसेना कांग्रेस के साथ मिलकर बहुमत हासिल कर सकती है।

बीजेपी की चुनाव आयोग से मांग- "बुर्का पहने औरतों की वोटर आईडी की जांच के लिए महिला पुलिस तैनात करें", देखें वीडियो ः

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App