scorecardresearch

गुवाहाटी के मंदिर में दी जाएगी 40 बागी विधायकों की बलि, संजय राउत की चेतावनी, आदित्य ठाकरे बोले- बागियों के पास बस दो विकल्‍प

शिवसेना ने 16 बागी विधायकों के खिलाफ डिप्टी स्पीकर से कार्रवाई की मांग की है। विधायकों को नोटिस भी दिया गया है।

गुवाहाटी के मंदिर में दी जाएगी 40 बागी विधायकों की बलि, संजय राउत की चेतावनी, आदित्य ठाकरे बोले- बागियों के पास बस दो विकल्‍प
शिवसेना नेता संजय राउत (file photo)

महाराष्ट्र में सियासी संकट के बीच रविवार को शिवसेना नेता संजय राउत ने एक बयान दिया, जो चर्चा का केन्द्र बना हुआ है। संजय राउत ने असम के गुवाहाटी में बैठे 40 बागी विधायकों को जिंदा लाश करार दे दिया। संजय राउत ने कहा कि विधायकों के गुवाहाटी से लौटने के बाद पोस्टमार्टम के लिए मोर्चरी में भेजा जाएगा।

महाराष्ट्र के दहिसर में शिवसेना कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए संजय राउत ने कहा, “जब वे (बागी विधायक) असम से बाहर कदम रखेंगे, तो वे दिल से जीवित नहीं रहेंगे। उन्हें पता है कि अब यहां जो आग लगी है उसका क्या हो सकता है। इन सभी 40 विधायकों के शव मुंबई (गुवाहाटी से) आएंगे, हम सीधे पोस्टमार्टम के लिए मुर्दाघर भेजेंगे।” बागियों को भैंसा बताते हुए शिवसेना सांसद संजय राउत ने कहा, “गुवाहाटी में एक मंदिर है जहां भैंसों की बलि दी जाती है। ये 40 भैंसें वहां बलि देने के लिए गए हुए हैं।”

संजय राउत के बयान पर शिंदे गुट के प्रवक्ता दीपक केसरकर ने कहा, “वह हमारे परिवारों में महिलाओं का अपमान कर रहे हैं और इसे बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। वह कुछ भी कह रहे हैं और पार्टी को नुकसान पहुंचा रहे हैं। किसी भी पार्टी के पास संजय राउत जैसा प्रवक्ता नहीं होना चाहिए। वह पार्टी को खत्म करने के मिशन पर हैं। उनके बयानों की वजह से सभी विधायक नाराज हैं और हमारे साथ और भी जुड़ रहे हैं।”

वहीं शिवसेना की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक को आदित्य ठाकरे ने संबोधित किया और शिवसैनिकों से एकजुट रहने की अपील की। उन्होंने कहा, “अब उन्हें (बागी विधायकों) लगता है कि उनका अपहरण कर लिया गया है। अब वे वहां कैदी हैं। कुछ नेताओं को बसों में ले जाया गया। इन लोगों में हिम्मत होनी चाहिए और आकर आमने-सामने बात करनी चाहिए। एकनाथ शिंदे में ठाणे में बगावत करने की हिम्मत नहीं थी। वह विद्रोह करने के लिए सूरत गए थे।”

बागी विधायकों को चेतावनी देते हुए आदित्य ठाकरे ने कहा, “प्रत्येक विधायक जिसने विद्रोह किया है, उसके पास दो विकल्प हैं। भाजपा में शामिल हों या प्रहार में शामिल हों। वे शिवसेना या धनुष और तीर के प्रतीक के योग्य नहीं हैं।” आदित्य ठाकरे ने पार्टी कार्यकर्ताओं से सड़कों पर उतरने और असली शेर की तरह बनने का भी आग्रह किया। आदित्य ठाकरे ने तंज कसते हुए फिल्मी डायलॉग बोलते हुए कहा कि हम शरीफ क्या हुए, पूरी दुनिया ही बदमाश हो गई।

पढें महाराष्ट्र (Maharashtra News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.