ताज़ा खबर
 

शिव सेना का भाजपा पर निशाना, कहा- कांग्रेस की कॉपी बन गई है भाजपा

सेना ने यह कहा कि भाजपा के नेता मुंबई के महापौर को लेकर खाली बर्तन से आवाज निकाल रहे हैं।

Author मुंबई | Updated: February 27, 2017 6:23 PM
Shiv sena vs BJP, Today Saamana Editorial, BJP Congress Edition, Shiv sena BMC Polls, Shiv sena latest newsमहाराष्ट्र के सीएम देवेंद्र फणनवीस और शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे।

शिव सेना ने सोमवार (27 फरवरी) को भाजपा पर हमला करते हुए कहा कि महाराष्ट्र और केंद्र में उसका सहयोगी भाजपा कांग्रेस का संस्करण बन गयी है। सेना ने कहा है, ‘मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने कहा कि वह कांग्रेस के साथ गठबंधन नहीं करेंगे। लेकिन कांग्रेस-राकांपा से कई लोगों को भाजपा में शामिल करके उन्होंने अपनी ही पार्टी को कांग्रेस बना लिया।’ सेना के मुखपत्र सामना में छपे संपादकीय में लिखा है, ‘यह कारण है कि कांग्रेस को प्राथमिकता देनी चाहिए लेकिन सवाल यह है कि भाजपा, जो कांग्रेस बन चुकी है, महाराष्ट्र और कांग्रेस को किस दिशा में ले जाएगी।’

सेना ने भाजपा और फडणवीस पर हमला करते हुए कहा, ‘हमारा सलाम उन लोगों को हो जो ‘साला मैं तो कांग्रेस बना गया’ की धुन पर नाचते हैं। मुखपत्र में लिखा गया है, ‘फडणवीस को यह कहना चाहिए था कि भाजपा कांग्रेस के साथ नहीं जाएगी लेकिन पाकिस्तान समर्थक महबूबा मुफ्ती के साथ कश्मीर में जाएगी। कांग्रेस संदेहास्पद है लेकिन अफजल गुरु का समर्थन करने वाली महबूबा मुफ्ती के साथ सत्ता में साझेदारी करना, कहीं ज्यादा खतरनाक है।’

सेना ने यह कहा कि भाजपा के नेता मुंबई के महापौर को लेकर खाली बर्तन से आवाज निकाल रहे हैं। बृहन्मुंबई महानगर पालिका के परिणाम जारी होने के एक दिन बाद शिव सेना ने कहा था कि निकाय का महापौर उनकी पार्टी का ही होगा। सेना का भाजपा पर यह हमला आरएसएस विचारक एम जी वैद्य के उस बयान के बाद आया है जिसमें उन्होंने भाजपा और शिव सेना को महापौर का पद साझा करने का समर्थन किया क्योंकि राज्य में बीएमसी चुनाव का खंडित जनादेश है।

महाराष्ट्र निकाय चुनाव: बीएमसी में किसी को बहुमत नहीं, भाजपा को मिली बड़ी कामयाबी, शिवसेना शीर्ष पर

भाजपा ने गुरुवार (23 फरवरी) को महाराष्ट्र के निकाय चुनावों में शानदार जीत हासिल करते हुए राज्य के दस नगर निगमों में से आठ में सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी, जबकि शिवसेना के गढ़ मुंबई में वह दूसरे स्थान पर रही। पार्टी उल्हासनगर, नासिक, पुणे, पिम्परी-चिंचवाड, सोलापुर, अकोला, अमरावती और नागपुर में शीर्ष पर रही जबकि मुंबई और उससे लगे ठाणे में शिवसेना पहले स्थान पर रही। शिवसेना के किले बृहन्मुंबई महानगरपालिका में बड़ी सेंध लगाते हुए भाजपा ने 82 सीटें जीतीं। शिवसेना के खाते में 84 सीटें आईं, लेकिन दोनों ही 114 के जादुई आंकड़े को छूने में असफल रहे। मुंबई में खंडित जनादेश से राजनीतिक गणनाएं बदल सकती हैं क्योंकि कोई भी दल अपने बूते देश के सबसे धनी नगर निकाय पर शासन करने की स्थिति में नहीं है और गठबंधन होना अपरिहार्य लगता है। हालांकि साफ नहीं है कि केंद्र एवं महाराष्ट्र दोनों ही जगह सत्ता साझा करने वाले भगवा दल हाथ मिलाएंगे या नये गठजोड़ सामने आएंगे।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 शिवसेना-भाजपा में मुंबई के महापौर पद के लिए होड़, बीएमसी चुनाव में किसी को नहीं मिला बहुमत
2 कामकाज के दम पर नहीं, बल्कि इन दो कारणों से महाराष्‍ट्र निकाय चुनाव में लहाराया है भाजपा का झंडा
3 BMC चुनाव: भाजपा 25 साल पुरानी दोस्ती फिर जोड़ने को तैयार, कहा – बहुत हुई कड़वाहट, अब फिर हाथ मिलाने का वक्त
Indi vs Aus 4th Test Live:
X