ताज़ा खबर
 

सालों तक बेटी का बलात्‍कार करता रहा बाबा, चार बार अबॉर्शन कराने में पत्‍नी ने की मदद

मां के अत्याचारों पर बात करते हुए पीड़िता ने बताया, 'मां ही मुझे पिता के संबंध बनाने के लिए मजबूर करती थीं।'
तस्वीर का इस्तेमाल केवल प्रतीकात्मक रूप से किया गया है। (फाइल फोटो)

मुंबई में एक बाबा (55) को कथित तौर पर खुद की बेटी से बलात्कार के आरोप में गिरफ्तार किया गया है। इस अपराध में आरोपी की पत्नी (50) भी उसकी मदद करती रही। टाइम्स ऑफ इंडिया की खबर के अनुसार पीड़िता ने बताया कि उसकी मां ने कई बार उसका गर्भपात कराया। मामले में पुलिस अधिकारी का कहना है कि पति की मदद से पीड़िता ने आरोपी माता-पिता के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई है। पीड़िता की इसी साल जनवरी में शादी हुई थी।

अपने हुए अत्याचार का खुलासा करते हुए पीड़िता ने पुलिस को बताया, ‘पिता ने सालों तक मेरा यौन उत्पीड़न किया। मेरे पहले विवाह को खत्म करने और पति को तलाक देने के लिए उन्होंने ही महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। मुझपर जबरन दबाव बनाया गया।’ मां के अत्याचारों पर बात करते हुए उन्होंने बताया, ‘मां ही मुझे पिता के संबंध बनाने के लिए मजबूर करती थीं।’ गौरतलब है कि पुलिस ने आरोपी दंपत्ति के खिलाफ आईपीसी की धारा 376 और 313 के तहत मामला दर्ज कर लिया है। दोनों को पुलिस रिमांड पर भेजा गया है।

गौरतलब है कि इससे पहले उत्तर प्रेदश के शहर इलाहाबाद से दिल्ली आ रही मगध एक्सप्रेस में सवार एक महिला ने सेना के तीन जवानों पर गैंग रेप की कोशिश करने का आरोप लगया था। महिला द्वारा सही समय पर रेलवे पुलिस को सूचना देने का कारण समय रहते उन्हें बचा लिया गया। तब महिला ने आरोप लगाया था कि वो मगध एक्सप्रेस से इलाहाबाद से दिल्ली जा रही थी। वो ट्रेन के एस-5 कोच में सफर कर रही थी। जब ट्रेन इटावा के पास पहुंची तब उसी ट्रेन के एस-8 कोच में सवार सेना के तीन जवान उसे उसके डिब्बे से खींचकर एस-8 में ले गए।

जहां उन्होंने उसके साथ रेप की घटना को अंजाम देने की कोशिश करने लगे। महिला ने बताया था कि उसने समय रहते अपने फोन से डायल 100 पर फोन करके इस घटना की सूचना पुलिस को दी जिसके बाद पुलिस तुरंत हरकत में आ गई। जीआरपी की एक टीम ने तत्काल इटावा स्टेशन पर पहुंचकर उसे बचाया साथ ही दो आरोपी सैनिकों को गिरफ्तार भी किया। हालांकि उनका तीसरा साथी ट्रेन से कूदकर फरार हो गया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.