ताज़ा खबर
 

राष्ट्रपति चुनाव 2017: बीजेपी कैंडिडेट रामनाथ कोविंद का समर्थन करेगी शिवसेना

शिवसेना ने बीजेपी के राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार रामनाथ कोविंद को समर्थन का ऐलान कर दिया है।
शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे। (फाइल फोटो)

शिवसेना ने बीजेपी के राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार रामनाथ कोविंद को समर्थन का ऐलान कर दिया है। मुंबई में शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने रामनाथ कोविंद को समर्थन देने की घोषणा की। शिवसेना के इस फैसले के साथ ही रामनाथ कोविंद का राष्ट्रपति चुना जाना और भी निश्चित हो गया है। बता दें कि जब बीजेपी ने रामनाथ कोविंद के नाम की घोषणा की थी तो शिवसेना ने इस नाम पर दबे स्वर में ही सही असहमति जताई थी। बता दें कि रामनाथ कोविंद का नाम बीजेपी की ओर से घोषित किया जाने के बाद शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरने कहा था कि अगर बीजेपी सिर्फ दलित वोटों के लिए ही रामनाथ कोविंद को चुनी है तो शिवसेना इस कैंडिडेट का समर्थन नहीं करेगी। उन्होंने कहा कि इससे देश को कोई लाभ नहीं होगा। शिवसेना प्रमुख ने कहा था कि उन्होंने कभी किसी को ढाल बनाकर राजनीति नहीं की।

शिवसेना ने राष्ट्रपति पद के लिए बहुत पहले संघ प्रमुख मोहन भागवत का नाम आगे किया था, लेकिन मोहन भागवत ने ही शिवसेना के इस ऑफर को अस्वीकार कर दिया था। मोहन भागवत ने कहा था कि देश का राष्ट्रपति बनने की उनकी कोई मंशा नहीं है। इसके बाद शिवसेना ने कृषि वैज्ञानिक एम एस स्वामीनाथन का नाम राष्ट्रपति पद के लिए सुझाया था। बावजूद इसके बीजेपी ने रामनाथ कोविंद को राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार बनाया। शिवसेना ने सोमवार (19 जून) को कहा था कि पार्टी अपने नेताओं से बात कर मंगलवार को इस मुद्दे पर अपना रुख साफ कर देगी। इसके बाद आज (20जून) को शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने रामनाथ कोविंद को समर्थन का ऐलान कर दिया। बता दें कि राष्ट्रपति चुनाव में शिवसेना के पास 2.3 फीसदी वोट हैं। टीआरएस, बीजेडी जैसे दलों ने पहले ही रामनाथ कोविंद को समर्थन का ऐलान कर दिया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. M
    manish agrawal
    Jun 20, 2017 at 8:54 pm
    शिवसेना का चरित्र एक बेपेंदी के लोटे की तरह है ! कल तक रामनाथ कोविंद की उम्मीदवारी का विरोध करने के बाद , आज समर्थन का एलान कर दिया ! ऐसी बेहूदी हरकतों के चलते ही शिवसेना , महाराष्ट्र में अपनी राजनितिक जमीं खोती जा रही है और ज्यादा से ज्यादा एक दशक में शिवसेना का कद " महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना" जितना ही रह जाएगा !
    (0)(0)
    Reply