ताज़ा खबर
 
  • राजस्थान

    BJP+ 0
    Cong+ 0
    RLM+ 0
    OTH+ 0
  • छत्तीसगढ़

    BJP+ 0
    Cong+ 0
    JCC+ 0
    OTH+ 0
  • मिजोरम

    BJP+ 0
    Cong+ 0
    MNF+ 0
    OTH+ 0
  • मध्य प्रदेश

    BJP+ 0
    Cong+ 0
    BSP+ 0
    OTH+ 0
  • तेलांगना

    BJP+ 0
    TDP-Cong+ 0
    TRS-AIMIM+ 0
    OTH+ 0

* Total Tally Reflects Lead + Win

PNB घोटाले पर नरेंद्र मोदी की चुप्पी, एयरपोर्ट की आधारशिला रख बोले- लटकाना, अटकाना, भटकाना पुरानी सरकारों का स्वभाव

देश में लंबित पड़े प्रोजेक्टस का जिक्र कर पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि पुरानी सरकारों का स्वभाव था लटकाना, अटकाना और भटकाना। पीएम ने कहा कि करीब-करीब 10 लाख करोड़ का प्रोजेक्ट लटके-अटके और भटके हुए थे। पीएम ने कहा, " इन प्रोजेक्ट को हमने कार्यान्वित किया, धन का प्रबंध किया और आज तेज गति से वो काम आगे चल रहे हैं।

प्रधानमंत्री ने कहा कि पुरानी सरकारों ने 10 लाख करोड़ का प्रोजेक्ट लटकाए, भटकाए और अटकाए हुए रखा था। (फोटो-Twitter)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार (18 फरवरी) को महाराष्ट्र के नवी मुंबई में अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट की आधारशिला रखी। इस दौरान पीएम मोदी पूर्व की सरकारों पर बरसे। हालांकि उन्होंने बहुचर्चित PNB घोटाले पर कुछ नहीं कहा। देश में लंबित पड़े प्रोजेक्टस का जिक्र कर पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि पुरानी सरकारों का स्वभाव था लटकाना, अटकाना और भटकाना। पीएम ने कहा कि करीब-करीब 10 लाख करोड़ का प्रोजेक्ट लटके-अटके और भटके हुए थे। पीएम ने कहा, ” इन प्रोजेक्ट को हमने कार्यान्वित किया, धन का प्रबंध किया और आज तेज गति से वो काम आगे चल रहे हैं, उसी में से एक नवी मुंबई एयरपोर्ट का काम है।” इस मौके पर पीएम नरेंद्र मोदी ने उभरती अर्थव्यवस्था में उड्डयन सेक्टर के महत्व को रेखांकित किया। पीएम मोदी ने कहा कि पिछले एक साल में 900 हवाई जहाज के ऑर्डर दिये गये हैं। पीएम ने कहा, “आज हमारे देश में लगभग 450 प्लेन्स ऑपरेशन हैं, इसमें सरकारी और निजी विमान भी शामिल हैं, पिछले एक साल में 900 विमानों के लिए ऑर्डर दिया गया है, उड्डयन क्षेत्र भी अपने साथ रोजगार के ज्यादा मौके लाता है।” प्रधानमंत्री मोदी ने हवाई यात्रा के लिये बढ़ती मांग को पूरा करने के लिये उड्डयन आधारभूत ढांचा बढ़ाने की आवश्यकता पर बल दिया।

बता दें कि नवी मुंबई इंटरनेशनल एयरपोर्ट 21 साल पुराना प्रोजेक्ट है। इसकी योजना 1997 में बनाई गई थी। तब इस प्रोजेक्ट की निवेश लागत 3 हजार करोड़ थी। इस प्रोजेक्ट को मुंबई शहर की बढ़ती जरूरतों को पूरा करने के लिए बनाया जा रहा था। लेकिन, फंड, राजनीतिक इच्छाशक्ति की कमी, पर्यावरण से जुड़े मुद्दे की वजह से प्रोजेक्टर में लगातार देरी होती चली गई। इस वक्त इस प्रोजेक्ट की लागत बढ़कर 16 हजार 700 करोड़ हो गई है। इस प्रोजेक्ट को सिटी इंडस्ट्रियल डेवलपमेंट कॉरपोरेशन और जीवीके ग्रुप मिल कर बना रहा है। इस मौके पर प्रधानमंत्री ने कहा कि उन्हें गर्व है कि उनकी सरकार उड्डयन नीति लेकर आई है। जिसका फायदा आम आदमी को मिल रहा है, और उसे कम लागत पर हवाई सफर करने का मौका मिल रहा है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App