ताज़ा खबर
 

IIT ने भारत को बनाया ग्लोबल ब्रांड, देश को विकसित राष्ट्र बनाने की रखी आधारशिला- नरेंद्र मोदी

प्रधानमंत्री ने कहा, ‘‘यदि आप नवोन्मेष नहीं करते हैं तो आप एक ही जगह ठहर जाएंगे। ये केवल सरकारी प्रयास नहीं है। नए विचार कैम्पस के युवाओं के दिमाग से आते हैं, सरकारी इमारतों और चमक दमक वाले कार्यालयों से नहीं।’’ आईआईटी के इतिहास के पन्नों को पलटते हुए मोदी ने कहा कि आजादी के बाद, तकनीक के जरिए राष्ट्र निर्माण में योगदान की खातिर इनकी अवधारणा की गयी थी।

IIT Bombay, IIT, IIT-B, IIT Bombay convocation, modi in IIT, modi IIT convocation, modi speech, IIT bombay convocation, Naredra modi, PM Modi, mumbai news, News in Hindi, JansattaIIT बॉम्बे की 56वें दीक्षांत समारोह में पीएम नरेंद्र मोदी, राज्यपाल सी विद्यासागर राव, केन्द्रीय मानव संसाधन मंत्री प्रकाश जावड़ेकर और सीएम देवेन्द्र फड़णवीस (PIB Photo via PTI)

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज कहा कि आईआईटी ने विश्व में भारत को एक ब्रांड के रूप में स्थापित किया है और इनकी सफलता ने भारत को तकनीकी श्रम शक्ति के रूप में विश्व का सबसे बड़ा केंद्र बनने में मदद की है। प्रधानमंत्री ने नवोन्मेष और उद्यमिता के महत्व को रेखांकित करते हुए बताया कि इन दोनों ने भारत को एक विकसित राष्ट्र बनाने की आधारशिला रखी। भारतीय तकनीकी संस्थान-बांबे ‘आईआईटी बांबे’ के 56वें वार्षिक दीक्षांत समारोह को संबोधित करते हुए मोदी ने कहा कि नवोन्मेष 21वीं सदी का सबसे अधिक लोकप्रिय शब्द बन गया है। पीएम ने आईआईटी बॉम्बे में इन्फ्रास्ट्रक्चर के लिए 1000 करोड़ देने का ऐलान किया। उन्होंने छात्रों को कामयाबी का मंत्र दिया। पीएम आईआईटी को न्यू इंडिया को स्तंभ बताया और कहा कि ये इंडियन इंस्ट्रूमेंट ऑफ ट्रांसफॉर्मेशन हैं।

प्रधानमंत्री ने कहा, ‘‘यदि आप नवोन्मेष नहीं करते हैं तो आप एक ही जगह ठहर जाएंगे। ये केवल सरकारी प्रयास नहीं है। नए विचार कैम्पस के युवाओं के दिमाग से आते हैं, सरकारी इमारतों और चमक दमक वाले कार्यालयों से नहीं।’’ आईआईटी के इतिहास के पन्नों को पलटते हुए मोदी ने कहा कि आजादी के बाद, तकनीक के जरिए राष्ट्र निर्माण में योगदान की खातिर इनकी अवधारणा की गयी थी। मोदी ने कहा कि सभी आईआईटी ने भारत को वैश्विक स्तर पर एक ब्रांड के रूप में स्थापित किया है और उनके छात्र भारत में कुछ बेहतरीन स्टार्टअप के अगुवा हैं।

प्रधानमंत्री ने कहा ‘‘राष्ट्र को आईआईटी और उसके स्रातकों की उपलब्धियों पर गर्व है। आईआईटी की सफलता से देशभर में इंजीनियरिंग कॉलेजों की स्थापना हुई है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘ये इंजीनियरिंग कालेज आईआईटी से प्रेरित हुए हैं और इससे भारत, विश्व में तकनीकी श्रम शक्ति के सबसे बड़े केंद्र के रूप में उभरा है।’’ पीएम ने छात्रों को कहा कि यहां से निकलने के बाद उनकी जिंदगी की असली परीक्षा शुरू होगी। उन्होंने छात्रों को कहा कि मन से फेल होने के उलझन और डर को निकालें और प्रेरणा पर फोकस करें। उन्होंने कहा कि उलझन टैलेंट को सीमाओं में बांध देता है। पीएम ने कहा कि आपके अंदर आकांक्षा होना काफी नहीं है, आपके लक्ष्य भी स्पष्ट होने चाहिए।

(एजेंसी इनपुट्स के साथ)

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 शहीद मेजर को मुंबई ने यूं किया नमन, सड़क पर बिछाई गई फूलों की सेज
2 कभी ऑटो चलाकर भी नहीं होती थी 200 रुपए की कमाई, अब बने पिंपरी-चिंचवाड़ के मेयर
3 बेटी को परेशान कर रहा था, पिता ने फिल्‍म निर्माता बनकर मनचले को सिखाया सबक
ये पढ़ा क्या?
X