ताज़ा खबर
 

मुंबई हमला 26/11 की बरसी पर शहीदों को श्रद्धांजलि, आतंकी हमले में 166 लोग मारे गए थे

अजमल कसाब एकमात्र आतंकवादी था जिसे जिंदा पकड़ा गया। चार साल के बाद उसे 21 नवंबर 2012 को फांसी दे दी गयी थी।

Author मुंबई | Published on: November 26, 2016 2:14 PM
26/11 आतंकी हमला के 8वीं बरसी की पूर्व संध्या पर मुंबई के गेटवे ऑफ इंडिया औऱ ताज होटल के सामने कबूतरों को दाना खिलाता एक व्यक्ति। (PTI Photo by Shashak Parade/25 Nov, 2016)

मुंबई शहर में आज (26/11) ही के दिन आठ साल पहले उन आतंकवादियों से लड़ते हुये अपने प्राण न्यौछावर करने वालों को पुष्पांजलि अर्पित की गयी जिन्होंने इस महानगर पर हमला किया था। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस सहित अन्य गणमान्य व्यक्तियों ने दक्षिण मुंबई के मुंबई पुलिस जिमखाना में 26/11 पुलिस स्मारक स्थल पर श्रद्धांजलि अर्पित की। फडणवीस ने कहा, ‘मुंबई की सुरक्षा के लिए लड़ने वाले और 26 नवंबर को हमारे लिए अपने प्राण न्यौछावर करने वाले पुलिसकर्मियों को मैं श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं। हमें उन पर गर्व है और हम अपने राज्य की सुरक्षा के लिए कठिन प्रयास करेंगे।’ उन्होंने बताया, ‘हम पुलिस बल को बेहतर उपकरणों से लैस करेंगे। यह हमारी प्राथमिकता है।’

समारोह में राज्यपाल सी विद्यासागर राव, शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे, मुंबई पुलिस के पूर्व आयुक्त जुलिओ रिबेरो, एम एन सिंह और कई वरिष्ठ और पूर्व पुलिस अधिकारी उपस्थित थे। महाराष्ट्र पुलिस के प्रमुख सतीश माथुर और मुंबई के पुलिस आयुक्त दत्ता पडसालगीकर अधिकारिक ड्यूटी पर बाहर थे और समारोह में उपस्थित नहीं हो सके। नवंबर 2008 में हुए आतंकी हमले के दौरान प्राण गंवाने वाले पुलिसकर्मियों के परिवार वाले भी समारोह के दौरान उपस्थित थे। समुद्री रास्ते से 26 नवंबर 2008 को 10 पाकिस्तानी आतंकवादी यहां पहुंचे और लोगों पर अंधाधुंध गोलीबारी शुरू कर दी जिसमें 18 सुरक्षा कर्मियों सहित 166 लोग मारे गये और कई अन्य घायल हो गये थे। आतंकियों ने करोड़ों रुपए की संपत्ति को नुकसान भी पहुंचाया था।

उस समय के एटीएस प्रमुख हेमंत करकरे, सेना के मेजर संदीप उन्नीकृष्णन, मुंबई के अतिरिक्त पुलिस आयुक्त अशोक कामटे और वरिष्ठ पुलिस इंस्पेक्टर विजय सालस्कर सहित कई अन्य लोग हमले में मारे गये थे। यह हमला 26 नवंबर को शुरू हुआ था और यह 29 नवंबर तक जारी रहा था। छत्रपत्रि शिवाजी टर्मिनस, ओबरॉय ट्राइडंट, ताजमहल पैलेस एंड टॉवर, लेपोल्ड कैफे, कामा अस्पताल, नरीमन हॉउस यहूदी सामुदायिक केन्द्र आदि वह स्थान थे जिन्हें आतंकवादियों ने निशाना बनाया था। अजमल कसाब एकमात्र आतंकवादी था जिसे जिंदा पकड़ा गया। चार साल के बाद उसे 21 नवंबर 2012 को फांसी दे दी गयी थी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 बीजेपी विधायक ने बेटे को गिफ्ट की मर्सिडीज, तस्वीर देख लोगों ने कहा- बेटा तो नाबालिग लग रहा है
2 शिवसेना ने केंद्र सरकार से कहा, नोटबंदी पर मनमोहन सिंह की बात को गंभीरता से लिया जाए
3 शिवसेना ने मोदी सरकार पर बोला हमला, सीमा पर मौत को रोकने में अपनी नाकामी को माने केंद्र
ये पढ़ा क्‍या!
X