ताज़ा खबर
 

कार्रवाई में उजड़ा बूढ़ी महिला का घर, पुलिसवालों ने पैसा जमा कर बनवा दिया नया आशियाना

मुंबई पुलिस ने इस महिला की मदद करने की ठानी। थाने के ही एक सब-इंस्पेक्टर ने पुलिस वालों से करीब 25,000 रुपये का चंदा वसूला। पुलिस वालों से इकठ्ठे किये गये इसी चंदे से ur इस बुजुर्ग महिला के लिए नये घर का इंतजाम हुआ।

मुंबई पुलिस ने 65 साल की बुजुर्ग महिला की मदद कर मिसाल पेश की।

मुंबई पुलिस ने एक बुजुर्ग महिला की मदद कर अद्भुत मिसाल पेश की है। दरअसल कुछ दिनों पहले सड़क किनारे से अतिक्रमण हटाते वक्त 65 साल की इस बुजुर्ग महिला का आशियाना प्रशासन ने ध्वस्त कर दिया था। इस महिला का नाम लता शिवराज सिंह परदेसी बतलाया जा रहा है। मंगलवार (15 मई) को परदेसी ने मुंबई के साकीनाका पुलिस स्टेशन में पहुंचर पुलिस वालों को अपनी आपबीती बतलाते हुए कहा कि उसके पास रहने के लिए अब घर नहीं है लिहाजा अब वो ही उसके सिर पर छत का इंतजाम करें।

मुंबई पुलिस ने इस महिला की मदद करने की ठानी। थाने के ही एक सब-इंस्पेक्टर ने पुलिस वालों से करीब 25,000 रुपये का चंदा वसूला। पुलिस वालों से इकठ्ठे किये गये इसी चंदे से ही इस बुजुर्ग महिला के लिए नये घर का इंतजाम हुआ। सब-इंस्पेक्टर निलेश के मुताबिक करीब 250 पुलिस वालों ने बुजुर्ग महिला के घर के लिए चंदा दिया। बुजुर्ग महिला ने बतलाया कि करीब 30 साल पहले उसके पति की मौत हो गई थी। इसके बाद उसके इकलौते बेटे की सड़क हादसे में मौत हो गई। पिछले 20 सालों से लता मोली गांव स्थित छांछड़ अस्पताल में सफाईकर्मी के तौर पर काम कर रही हैं।

लता की बहू ने उन्हें अपने पास रखने से इनकार कर दिया। कई दिनों तक वो सड़क पर ठोकरें भी खाती रहीं। जिसके बाद अस्पताल की तरफ से उन्हें खाना और रहने का ठिकाना मिला था। लेकिन प्रशासन द्वारा घर तोड़ दिये जाने के बाद अब वो बेघर हो गई थीं। फिलहाल बुजुर्ग महिला की इस दास्तान को सुनने के बाद मुंबई पुलिस के जवानों ने महिला को करजाट इलाके में आशियाना उपलब्ध करा दिया है। यहां बुजुर्गों के लिए बने एक शेल्टर में फिलहाल इस बुजुर्ग महिला को आशियाना उपलब्ध कराया गया है। बुजुर्ग महिला पुलिस की तरफ से मिली मदद से काफी खुश हैं। इधर पुलिस अधिकारी लता परदेसी के नाम से एक बैंक अकाउंट खोलकर आर्थिक रूप से उनकी मदद करने की योजना भी बना रहे हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App