ताज़ा खबर
 

सिर में था 1.8 किलो का ट्यूमर, 7 घंटे ऑपरेशन कर डॉक्‍टरों ने बचाई मरीज की जान

डॉक्टरों ने इस ट्यूमर को सिर से अलग करने में कामयाबी पाई है। ऑपरेशन के बाद मरीज की हालत अब अच्छी है, वह होश में है और वह डॉक्टरों के सवाल का जवाब भी दे रहा है। डॉक्टरों को कहना है कि ऐसे मामले बेहद कम आते हैं, अगर आ भी जाए तो इसमें कामयाब सर्जरी बहुत ही मुश्किल है।

डॉक्टरों का कहना है कि मरीज के ट्यूमर का आकार लगभग उसके सिर के बराबर था।

मुंबई में डॉक्टरों ने एक करिश्मा कर दिखाया है। यहां पर एक युवक के सिर में एक बेहद बड़ा ट्यूमर हो गया था। मुंबई के नायर अस्पताल के डॉक्टरों ने दावा किया है यह ट्यूमर एक किलो 873 ग्राम का था। डॉक्टरों ने इस ट्यूमर को सिर से अलग करने में कामयाबी पाई है। ऑपरेशन के बाद मरीज की हालत अब अच्छी है, वह होश में है और वह डॉक्टरों के सवाल का जवाब भी दे रहा है। डॉक्टरों को कहना है कि ऐसे मामले बेहद कम आते हैं, अगर आ भी जाए तो इसमें कामयाब सर्जरी बहुत ही मुश्किल है। लेकिन डॉक्टरों ने ऐसा कर दिखाया है। डॉक्टरों का कहना है कि युवक के सिर में मौजूद ट्यूमर इतना बड़ा हो गया था कि वह उसके सिर के बराबर दिखने लगा था। डॉक्टर दावा करते हैं कि यह अबतक के सबसे बड़े  कामयाब मस्तिष्क ट्यूमर की सर्जरी है। डॉक्टरों को इस ब्रेन ट्यूमर को हटाने में 7 घंटे का लंबा वक्त लगा।

बता दें कि जब दिमाग में एक या अधिक कोशिकाएं असामान्य रूप से बढ़ने लगती है तो ऐसी स्थिति को ब्रेन ट्यूमर कहा जाता है। इस हालत में बढ़ी हुई कोशिकाएं शरीर में एक जगह जमा होने लगती है, और यह उभार शरीर में भी दिखने लगता है। चूंकि दिमाग से शरीर की सभी कोशिकाओं और नसों का संबंध होता है, इसलिए इसका ऑपरेशन जटिल, लंबा और खर्चीला होता है। इस दौरान जरा सी असावधानी भी मरीज की जान पर बन आ सकती है। डॉक्टरों के मुताबिक ब्रेन ट्यूमर किसी भी उम्र में हो सकता है। लेकिन दिक्कत यह है कि इसकी पहचान मुश्किल है। दरअसल मरीज को पहले पता ही नहीं चल पाता है कि उसे ट्यूमर हो रहा है। डॉक्टर जब तक इस बीमारी को डायग्नोसिस करते हैं तब तक देर हो चुकी होती है।मूल रूप से अगर आपको सिरदर्द रहता है, आप सुस्त रहते हैं और देखने-बोलने में समस्या है तो यह ब्रेन ट्यूमर के संभावित लक्षण हैं, पर जबतक डॉक्टर इसकी पुष्टि न कर दे इन लक्षणों पर यकीन कर खुद को ब्रेन ट्यूमर का मरीज नहीं घोषित कर दें। समय पर उपचार लेने से इस बीमारी का भी इलाज संभव है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App