ताज़ा खबर
 

‘दंगल’ के सीन में राष्ट्रगान के दौरान नहीं खड़े होने पर बुजुर्ग की पिटाई

आरोपी की पहचान शिरिष मधुकर नाम के शख्स के रूप में हुई है। पुलिस ने आरोपी के खिलाफ आईपीसी के तहत मारपीट, बदसलूकी और शांति भंग करने का केस दर्ज किया है।

राष्ट्रगान के दौरान नहीं खड़े होने पर बुजुर्ग की पिटाई।

दंगल फिल्म के एक सीन के दौरान राष्ट्रगान बजने पर न होने के कारण मुंबई के गोरेगांव में एक लड़के ने बुजुर्ग शख्स पर हमला कर दिया। बुजुर्ग और उनकी पत्नी गोरेगांव स्थित एक सिनेमा हॉल में आमिर खान की फिल्म दंगल देखने गए थे। इस दौरान फिल्म के एक सीन में राष्ट्रगान की धुन बज रही थी। इस धुन पर खड़े होने के कारण पर आरोपी ने चेहरे पर घूसा मार दिया। जबकि पीड़ित अमलराज दासन ने बताया कि वह फिल्म के शुरू होने से पहले बजने वाले राष्ट्रगान के दौरान खड़े हुए थे। उन्होंने सभी कलाकारों, प्रोड्यूसर और सेंसर बोर्ड से अपील की है कि अगर फिल्म में राष्ट्रगान से जुड़ा कोई सीन हो तो दर्शकों को अलर्ट कर दें।

आरोपी की पहचान शिरिष मधुकर नाम के शख्स के रूप में हुई है। पुलिस ने आरोपी के खिलाफ आईपीसी के तहत मारपीट, बदसलूकी और शांति भंग करने का केस दर्ज किया है। एक पुलिस अधिकारी ने मुंबई मिरर को बताया कि आरोपी ने मूवी देखने से पहले शराब पी थी। पीड़ित ने बताया कि वह अपनी पत्नी के साथ दंगल देखने गए थे। वह और उनकी पत्नी फिल्म शुरू होने से पहले हुए राष्ट्रगान के लिए अकेले खड़े हुए थे, उस दौरान हॉल खाली थी।

दंगल फिल्म के आखिर के एक सीन में रेसलर गीता फोगाट के गोल्ड मेडल जीतने पर राष्ट्रगान की धुन बजती है। दसन ने बताया कि अचानक से एक शख्स सब पर चिल्लाना शुरू कर देता है। वह अभद्र शब्दों का इस्तेमाल करता है और लोगों से खड़े होने को कहता है। मैं नहीं समझ पाता हूं कि वह लोगों से राष्ट्रगान पर खड़ा होने के लिए कह रहा है। इससे पहले की कोई प्रतिक्रिया देता उसने मेरे चेहरे पर मुक्का मार दिया। इससे मेरी पत्नी डर गई। इसके बाद सिनेमा हॉल के सिक्योरिटी ने उस शख्स को पकड़ा और पुलिस के हवाले कर दिया।

Next Stories
1 शिवसेना का मोदी पर कटाक्ष, कहा- बाल ठाकरे कभी ’56 इंच के सीने’ की बात नहीं करते थे
2 बीएमसी चुनावों से पहले बीजेपी के लिए फायदा, बॉलीवुड एक्‍टर दलीप ताहिल और पूर्व कांग्रेसी विधायक हुए शामिल
3 शिवसेना के साथ तनातनी के बीच प्रधानमंत्री मोदी ने दी जयंती पर बाल ठाकरे को श्रद्धांजलि, बताया- साहस का प्रतीक
यह पढ़ा क्या?
X