ताज़ा खबर
 

सरकारी खर्च पर विदेश में पढ़ने वालों की लिस्ट में बीजेपी नेता की बेटी का नाम

यह लिस्ट चार सितंबर को मिनिस्ट्री ऑफ हायर एंड टेक्निकल एजुकेशन ने जारी की थी।

इसमें एक बार का इकॉनोमी क्लास का फ्लाइट का रिटर्न टिकट, पूरी फीस और अन्य भत्ते दिए जाते हैं। (सांकेतिक फोटो)

महाराष्ट्र के सोशल जस्टिस मिनिस्टर राजकुमार बडले की बेटी का नाम उन स्टूडेंट्स की लिस्ट में है जो सरकारी स्कॉलरशिप पर हायर एजुकेशन के लिए विदेश जाते हैं। इसमें एक बार का इकॉनोमी क्लास का फ्लाइट का रिटर्न टिकट, पूरी फीस और अन्य भत्ते दिए जाते हैं। सामाजिक न्याय मंत्री और भाजपा नेता बड़ले ने इस मामले से खुद को दूर कर दिया है। उनकी बेटी श्रुति ब्रिटेन के मैनचेस्टर विश्वविद्यालय से एस्ट्रोनॉमी और एस्ट्रोफिजिक्स में तीन साल का पीएचडी कोर्स कर रही हैं। यह लिस्ट चार सितंबर को मिनिस्ट्री ऑफ हायर एंड टेक्निकल एजुकेशन ने जारी की थी।

उधर, महाराष्ट्र के राज्यपाल सीवी राव ने आज (6 सितंबर) को आवास मंत्री प्रकाश मेहता पर झुग्गी पुनर्वास योजना में लगे भष्ट्राचार के आरोपों की जांच लोकायुक्त से कराने की इजाजत दे दी है। राजभवन के अधिकारी के मुताबिक लोकायुक्त मुंबई के एमपी मिल परिसर में आवास मंत्री द्वारा दी गई अनुमति की जांच करेंगे। यह जांच महाराष्ट्र लोकायुक्त और उप लोकायुक्त अधिनियम 1971 की धारा 17 (3) के तहत की जाएगी।

HOT DEALS
  • Micromax Vdeo 2 4G
    ₹ 4650 MRP ₹ 5499 -15%
    ₹465 Cashback
  • Honor 8 32GB Pearl White
    ₹ 14210 MRP ₹ 30000 -53%
    ₹1500 Cashback

एक महीने पहले महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़नवीस ने अपने मंत्रिमंडलीय सहयोगी के खिलाफ लोकायुक्त से जांच कराने की घोषणा की थी। मुख्यमंत्री ने राज्यपाल से इस मामले में लोकायुक्त को जांच शुरू करने का निर्देश देने की मांग की थी। राजभवन के प्रवक्ता ने कहा, ‘राज्यपाल को लिखे गए पत्र में मुख्यमंत्री ने कहा था कि उन्होंने 11 अगस्त को राज्य विधानमंडल के दोनों सदनों में इस आशय की घोषणा की है। वह कह चुके हैं कि प्रकाश मेहता द्वारा स्लम पुनर्वास योजना में अनुमति देने की जांच महाराष्ट्र के लोकायुक्त से कराई जाएगी।’ कांग्रेस और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी समेत विपक्षी दलों ने पिछले महीने मेहता को मंत्रिमंडल से निकालने तथा उनके खिलाफ उच्च न्यायालय के न्यायाधीश द्वारा जांच की मांग को लेकर विधानसभा की कार्रवाई बार-बार बाधित की थी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App