ताज़ा खबर
 

महाराष्ट्र: कर्जमाफी वाले लाखों किसानों का एक ही आधार नंबर और बैंक अकाउंट!

जिन बैंकों के अनुसार ढाई लाख किसानों का कर्ज माफ किया जा चुका है, उन्हीं बैंकों ने सरकार से कहा है कि ढाई लाख किसानों का कर्ज अभी माफ किया जाना है।

Author October 25, 2017 16:36 pm
तस्वीर का इस्तेमाल प्रतीक के तौर पर किया गया है। (इंडियन एक्सप्रेस ग्राफिक्स)

शुभांगी खापड़े

दिलीप रामचंद्र काचले किसान हैं। उनकी आधार संख्या 111111110157 है। उनका बैंक बचत खाता संख्या  11111111111 है। ये जानकारी बैंक द्वारा राज्य सरकार को लोन माफी की जानकारी के तौर पर दी गयी है। एक और किसान बालकृष्ण सावले रामघांघली का भी खाता संख्या  111111110157 ही है और उनका बैंक बचत खाता संख्या भी 111111110157 है। ये कोई संयोग या तकनीकी गड़बड़ी नहीं है। न ही ये अपनी तरह का अकेला मामला है। विभिन्न बैंकों द्वारा महाराष्ट्र सरकार को दी गई लाखों किसानों की आधार संख्या और बचत खाता संख्या का यही हाल है। महाराष्ट्र सरकार राज्य के 56 लाख परिवारों के 77 लाख किसानों की कर्ज माफ का जल्द निपटारा करना चाहती है लेकिन इस मामले के सामने आने के बाद उसकी मुश्किल बढ़ गयी है।

एक प्रमुख राष्ट्रीय बैंक ने राज्य सरकार को 256 किसानों का आधार संख्या 100000000000 बतायी है। इन 256 किसानों में शामिल मोहन आनंद पाटिल की आधार संख्या 100000000000 है। उनके नाम पर बैंक से लोन लिया गया है और बैंक में उनका अकाउंट से यही आधार संख्या जुड़ा हुआ है। बाकी मामलों में भी यही स्थिति है। करीब 50 किसानों की आधार संख्या 11111111111 है। मसलन, कृष्ण पांडुरंग म्हात्रे की आधार संख्या 11111111111 है। संगीता मोहन यादव और चंद्रकांत काशीनाथ देशमुख की भी आधार संख्या 11111111111 है।

सूत्रों के अनुसार राज्य सरकार को ऐसी फर्जी जानकारी देने वालों में राष्ट्रीय बैंक, जिला सहकारी बैंक और वाणिज्यिक बैंक शामिल हैं। राज्य के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने बुधवार (25 अक्टूबर) को स्टेट लेवल बैंकर्स कमिटी (एसएलबीसी) की एक बैठक की अध्यक्षता की।  प्रधान सचिव (सूचना एवं तकनीक) वीके गौतम ने कहा, “हम कई हजार किसानों के आधार और बैंक खातों की संख्या एक समान पाकर हैरान हैं। ये कैसे संभव है कि दो किसानों की आधार संख्या और बैंक खाता संख्या एक ही हो।”

कर्ज माफी में कुछ और कथित धांधलियां सामने आयी है। जिन बैंकों के अनुसार ढाई लाख किसानों का कर्ज माफ किया जा चुका है, उन्हीं बैंकों ने सरकार से कहा है कि ढाई लाख किसानों का कर्ज अभी माफ किया जाना है।  एक अन्य मामले में एक किसान के पास छह लोन खाते पाए गये हैं। कुछ किसानों के नाम बैंक की सूची में तीन-तीन बार दिए गये हैं। सरकार की घोषणा के अनुसार किसानों का डेढ़ लाख रुपये तक का कर्ज माफ किया गया है। पहले चरण में सरकार ने 8.40 लाख किसानों का करीब चार हजार करोड़ रुपये कर्ज माफी को मंजूरी दे चुकी है। राज्य सरकार अक्टूबर अंत तक कर्ज माफी की प्रक्रिया पूरा कर लेना चाहती है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App