ताज़ा खबर
 

महाड़ पुल हादसे में अब तक 26 शव मिले

तलाश के काम में कई अत्याधुनिक तकनीकों का इस्तेमाल किया जा रहा है जिनमें इलेक्ट्रानिक सेंसर, फिश फाइंडर्स और बड़े -बड़े चुंबक शामिल हैं जो वाहनों को तलाश कर निकाल लाते हैं।
Author मुंबई | August 9, 2016 05:44 am
रायगढ़ जिले में महाड़ के नजदीक अंग्रजों के जमाने का बना पुल एक तरफ से ध्वस्त हो गया (PTI Photo by Santosh Hirlekar)

मुंबई गोवा राजमार्ग पर रायगढ़ जिले के महाड़ में पुल टूटने और उसमें बसें और अन्य वाहन बह जाने की घटना में लापता लोगों की तलाश सोमवार (8 अगस्त) को छठे दिन भी जारी रही। हादसे में अब तक 26 लोगों के शव बरामद हो चुके हैं। रायगढ़ के स्थानीय उप जिलाधिकारी सतीश बगल ने कहा, ‘हम इस अभियान को बंद नहीं करेंगे और शवों की तलाश जारी रखेंगे।’ रविवार (7 अगस्त) को सावित्री नदी में तलाश और बचाव अभियान में दो और शव बरामद किए गए। उन्होंने कहा, ‘ऐसा लगता है कि जो शव अभी तक बरामद नहीं हुए हैं वे संभवत: पानी के तेज बहाव में बह गए वाहनों में ही फंसे होंगे।’ बगल ने बताया कि अभी तक जिन शवों को निकाला गया है उनकी शिनाख्त कर उन्हें परिजनों को सौंप दिया गया है। एनडीआरएफ, नौसेना और तटरक्षक के अधिकारी अभी तक सिर्फ पानी में बहे राज्य परिवहन की एक बस का साइनबोर्ड ही बरामद कर पाए हैं जिस पर आरक्षित लिखा है।

एनडीआरएफ की पांचवीं बटालियन के कमांडेंट अनुपम श्रीवास्तव ने बताया कि वे तलाश के काम में कई अत्याधुनिक तकनीकों का इस्तेमाल कर रहे हैं जिनमें इलेक्ट्रानिक सेंसर, फिश फाइंडर्स और बड़े -बड़े चुंबक शामिल हैं जो वाहनों को तलाश कर निकाल लाते हैं। उन्होंने बताया कि उनके विभाग की नदी पर तैर रही नौकाओं के तल में छह इको साउंड सेंसर लगाए हैं जो पानी में ध्वनि की तरंगे भेजते हैं और जब वे तरंगें वापस आती हैं तो उनसे मॉनिटरों पर तस्वीरें उभरती हैं। उन्होंने कहा इसलिए उन्हें काफी सफलता मिलने की उम्मीद है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.