ताज़ा खबर
 

मुंबई पुलिस भर्ती: 1137 पदों पर दो लाख का दावा, कॉन्स्टेबल बनने की दौड़ में डॉक्टर, वकील, इंजीनियर और एमबीए

मुंबई पुलिस में 1,137 पदों पर निकली बहाली के लिए 2 लाख युवाओं ने अप्लाई किया है। कॉन्सटेबल पद के लिए निकली इस बहाली में 3 डॉक्टर, 5 वकील, 167 एमबीए पास युवा और करीब 400 से ज्यादा इंजीनियरों ने भी अप्लाई किया है।

प्रतिकात्मक तस्वीर

देश में बेरोजगारी एक बड़ी समस्या है। ऊंच शिक्षा हासिल करने के बावजूद नौकरी के अवसर ना मिल पाने से पढ़े-लिखे बेरोजगारों की तादाद भी देश में बढ़ती ही जा रही है। यह समस्या कितनी विकराल है उसका अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि मुंबई पुलिस में 1,137 पदों पर निकली बहाली के लिए 2 लाख युवाओं ने अप्लाई किया है। कॉन्सटेबल पद के लिए निकली इस बहाली में 3 डॉक्टर, 5 वकील, 167 एमबीए पास युवा और करीब 400 से ज्यादा इंजीनियरों ने भी अप्लाई किया है। जबकि इस पद के लिए न्यूनतम योग्यता हाई स्कूल पास की है।

मुंबई पुलिस में कॉन्सटेबल पद पर बहाली के लिए बीते 8 अप्रैल से नियुक्ति प्रक्रिया की शुरुआत की गई है। तब से लेकर अब तक करीब 9000 उम्मीदवार हर दिन इस बहाली प्रक्रिया में हिस्सा ले रहे हैं। इस पद पर बहाली के लिए जो आवेदन विभाग को प्राप्त हुए हैं उनमें 423 अभ्यर्थियों के पास बैचलर ऑफ इंजीनियरिंग की डिग्री, 167 अभ्यर्थियों के पास मास्टर इन बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन (एमबीए) की डिग्री, जबकि 543 पोस्ट ग्रेजुएट अभ्यर्थियों में से 28 के पास बीएड की डिग्री है तो 34 के पास मास्टर इन कम्प्यूटर साइंस की डिग्री है।

इसके अलावा एमएससी पास 159 उम्मीदवार, 25 बैचलर इन मास मीडिया एंड कम्यूनिकेशन, जबकि 3 अन्य अभ्यर्थियों के पास बैचलर इन आर्युवेद मेडिकल साइंस की डिग्री था 3 अभ्यर्थियों के पास एलएलबी की डिग्री और करीब 167 उम्मीदवारों के पास बैचलर इन बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन की डिग्री है।

आपको बता दें कि कॉन्सटेबल की परीक्षा में सफल होने के लिए सभी अभ्यर्थियों को शारीरीक दक्षता परीक्षा के दौरान 1600 मीटर की दौड़, ऊंची कूद, पुल अप्स के टेस्ट पास करने होते हैं। शरीरीक दक्षता में पास होने वाले अभ्यर्थियों को लिखित परीक्षा से गुजरना होता है। आपको बता दें कि इस वक्त मुंबई पुलिस में कॉन्टेबल की सैलरी 25,000 प्रतिमाह है।

इसके अलावा उसे रहने के लिए क्वार्टर भी मिलता है। कॉन्सटेबल विभागीय परीक्षा में हिस्सा ले सकते हैं और प्रमोशन भी पा सकते हैं। बहरहाल कॉन्सटेबल बनने के लिए हर रोज मैदान में दौड़ लगा रहे डॉक्टर, वकील, इंजीनियर और एमबीए डिग्री धारकों को देखकर यह अंदाजा लगाया जा सकता है कि युवा भारत में युवाओं के लिए रोजगार कितनी बड़ी समस्या है?

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App