ताज़ा खबर
 

अस्पताल की खिड़की से छलांग लगा भाग उठा कोरोना का मरीज, पीछे देखती रह गई नर्स, बीजेपी नेता ने शेयर किया वीडियो

Coronavirus: तभी वार्ड के अंदर से एक मरीज भागता हुआ आया और खिड़की से बाहर छलांग लगा दी। फुटेज में एक नर्स भी मरीज के पीछे भागती हुई नजर आती है।

covid-19वीडियो सोशल मीडिया में खूब वायरल हो रहा है। (वीडियो स्क्रीन शॉट)

Coronavirus: महाराष्ट्र में भाजपा उपाध्यक्ष किरीट सोमैया ने मुंबई के स्थानीय निकाय बीएमसी द्वारा संचालित सायन हॉस्पिटल का एक सीसीटीवी फुटेज शेयर किया है जो सोशल मीडिया में खूब वायरल हो रहा है। फुटेज हॉस्पिटल में कोरोना मरीजों के लिए बनाए वार्ड नंबर पांच का है, जहां से तीन मई को रात 9:25 बजे एक कोविड-19 मरीज वार्ड की खिड़की की छलांग लगाकर हॉस्पिटल से भाग गया। हालांकि बाद में मरीज को हॉस्पिटल के सुरक्षाकर्मी किसी तरह वापस लाने में कामयाब रहे हैं।

भाजपा नेता ने कहा कि ये वही वार्ड है जहां शवों को कोरोना मरीजों के साथ रखा जाता है। पूर्व सांसद ने ट्वीट में प्रदेश की ठाकरे सरकार पर तंज कसते हुए लिखा, ‘वाह रे… ठाकरे सरकार।’ सामने आए फुटेज में आए कुछ लोग कोविड वार्ड के गलियारे में बैठे हैं। तभी वार्ड के अंदर से एक मरीज भागता हुआ आया और खिड़की से बाहर छलांग लगा दी। फुटेज में एक नर्स भी मरीज के पीछे भागती हुई नजर आती है।

यहां देखें फुटेज

उल्लेखनीय है कि गुरुवार को भी हॉस्पिटल एक वीडियो वायरल हुआ जिसमें कोरोना वायरस संक्रमण से मरे लोगों के शव कोविड-19 मरीजों के पास रखे दिख रहे थे। वीडियो वायरल होने के बाद जांच की घोषणा करते हुए सायन इलाके में स्थित लोकमान्य तिलक महापालिका सर्वसाधारण अस्पताल के डीन डॉक्टर प्रमोद इंगले ने कहा था कि परिजन शव लेकर जाने से कतरा रहे थे, इसलिए ऐसी स्थिति उत्पन्न हुई। बृहन्मुंबई महानगरपालिका (बीएमसी) द्वारा जारी बयान में डॉक्टर इंगले ने कहा कि वीडियो कितना सही है, इसकी जांच की जाएगी।

देशभर में कोरोना वायरस से जुड़ी खबर लाइव पढ़ने के लिए यहां क्कि करें

मामले इससे पहले डीन ने कहा था कि कोरोना वायरस से मरने वालों के परिजन अक्सर शव को ले जाने से कतरा रहे हैं और यही कारण है कि शव वहां ऐसे ही पड़े हुए हैं। उन्होंने कहा कि हमने वहां से शव हटा दिए गए और मामले की जांच की जा रही है। यह पूछने पर कि शवों को मुर्दाघर में क्यों नहीं भेजा गया है, डॉक्टर इंगले ने कहा कि अस्पताल के मुर्दाघर में 15 शवों को रखने की व्यवस्था है, जिनमें से 11 भरे हुए हैं। उन्होंने कहा कि अगर सभी शवों को मुर्दाघर भेज दिया जाए तो वहां कोरोना वायरस संक्रमण के अलावा अन्य कारणों से मरने वालों का शव रखने की जगह नहीं बचेगी।

कोरोना वायरस से जुड़ी अन्य जानकारी के लिए इन लिंक्स पर क्लिक करें | गृह मंत्रालय ने जारी की डिटेल गाइडलाइंस | क्या पालतू कुत्ता-बिल्ली से भी फैल सकता है कोरोना वायरस? | घर बैठे इस तरह बनाएं फेस मास्क | इन वेबसाइट और ऐप्स से पाएं कोरोना वायरस के सटीक आंकड़ों की जानकारी, दुनिया और भारत के हर राज्य की मिलेगी डिटेलक्या गर्मी बढ़ते ही खत्म हो जाएगा कोरोना वायरस?

गुरुवार शाम को बीएमसी द्वारा जारी बयान के अनुसार डॉक्टर इंगले ने कहा कि स्थानीय निकाय ने वीडियो के तथ्य और सत्यता की जांच करने के लिए समिति गठित की है। वह 24 घंटे के भीतर रिपोर्ट सौंपेगी और इसके लिए जिम्मेदार व्यक्ति के खिलाफ उसी आधार पर कार्रवाई की जाएगी। इंगले ने बताया कि राज्य सरकार के दिशा-निर्देशों के अनुसार बीएमसी ने निर्देश दिया था कि कोविड-19 से मरने वाले लोगों के शव 30 मिनट के भीतर रिश्तेदारों को सौंप देने हैं।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 पालघर लिंचिंग: तीन हफ्ते बाद घटनास्थल का मंत्री ने डीजीपी संग किया मुआयना, लौटते ही एसपी को जबरन छुट्टी पर भेजा
2 27 मई से पहले होंगे महाराष्ट्र में MLC चुनाव, EC का फैसला, उद्धव ठाकरे की कुर्सी से संकट टला
3 Lockdown के बीच फंस गया था कामगार, मुंबई से यूपी में घर पहुंचने को प्याज को बना लिया ‘पासपोर्ट’
ये पढ़ा क्या?
X