ताज़ा खबर
 

Lockdown के बीच फंस गया था कामगार, मुंबई से यूपी में घर पहुंचने को प्याज को बना लिया ‘पासपोर्ट’

Coronavirus Lockdown in India: लॉकडाउन के बीच ऐसा ही एक अनोखा मामला मुंबई के धारावी स्लम से सामने आया है, जहां यूपी के प्रयागराज निवासी तालाबंदी के चलते फंस गए। ऐसे में उन्होंने अपने घर तक पहुंचने के लिए 'प्याज से भरे' ट्रंक का इस्तेमाल कर अनूठा तरीका निकाला।

onions truck coronavirusतस्वीर का इस्तेमाल केवल प्रतीकात्मक रूप से किया गया है।

Coronavirus Lockdown in India: देशभर में घातक कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने के लिए केंद्र सरकार ने देश में 3 मई तक लॉकडाउन की घोषणा की है। ऐसे में विभिन्न राज्यों में फंसे लोग किसी ना किसी तरह से घर लौटने की कोशिश में जुटी हैं। लॉकडाउन के बीच ऐसा ही एक अनोखा मामला मुंबई के धारावी स्लम से सामने आया है, जहां यूपी के प्रयागराज निवासी तालाबंदी के चलते फंस गए। ऐसे में उन्होंने अपने घर तक पहुंचने के लिए ‘प्याज से भरे’ ट्रंक का इस्तेमाल कर अनूठा तरीका निकाला। दरअसल प्लाज का ट्रंक होने के चलते उन्हें यात्रा करने की अनुमति मिल गई, क्योंकि प्याज आवश्यक वस्तुओं में शामिल है और इसके शिपमेंट पर प्रतिबंध भी नहीं है।

देशभर में कोरोना वायरस से जुड़ी खबर लाइव पढ़ने के लिए यहां क्कि करें

टीओआई में छपी खबर के मुताबिक 56 वर्षीय प्रेम मूर्ति पांडे मुंबई के छत्रपति शिवाजी महाराज अंतर्राष्ट्रीय एयरपोर्ट पर नौकरी करते हैं और 23 मार्च को देश में लॉकडाउन की घोषणा के बाद शहर में ही फंस गए। पांडे एशिया के सबसे बड़े स्लम धारावी में रहते हैं जो अब कोरोना वायरस महामारी का हॉटस्पॉट पर बन चुका है।

पांडे ने बताया, ‘जब मैंने देखा कि धारावी में कोविड-19 के मामले खतरनाक रूप से बढ़ रहे हैं तो मेरे लिए वहां रहना मुश्किल हो गया। ऐसे में मैंने प्रयागराज स्थित अपने पैतृक घर में वापस लौटने का फैसला लिया।’ उन्होंने आगे कहा, ‘चूंकि यात्रा प्रतिबंधों के चलते मैं वहां से नहीं निकल सकता था। ऐसे में मैंने महसूस किया अगर में फल या सब्जी का व्यापारी होता तो मुझे शहर में दाखिल होने की अनुमति मिल जाएगा।’ बता दें कि केंद्र सरकार ने सब्जियों और फलों के परिवहन पर कोई अंकुश नहीं लगाया है, क्योंकि ये आवश्यक वस्तुओं की श्रेणी में आते हैं।

कोरोना वायरस से जुड़ी अन्य जानकारी के लिए इन लिंक्स पर क्लिक करें | गृह मंत्रालय ने जारी की डिटेल गाइडलाइंस | क्या पालतू कुत्ता-बिल्ली से भी फैल सकता है कोरोना वायरस? | घर बैठे इस तरह बनाएं फेस मास्क | इन वेबसाइट और ऐप्स से पाएं कोरोना वायरस के सटीक आंकड़ों की जानकारी, दुनिया और भारत के हर राज्य की मिलेगी डिटेलक्या गर्मी बढ़ते ही खत्म हो जाएगा कोरोना वायरस?

ऐसे में 16 अप्रैल को पांडे नासिक स्थित पिंपलगांव गए और दस हजार रुपए के तरबूज खरीदें और अगले दिन सीमाक्षेत्र में आवाजाही आंकने के लिए मुंबई में इसे बेचने के लिए निकले। घर लौटने की अपने योजना पर आगे बढ़ते हुए इसके बाद उन्होंने नासिक से 2.3 लाख रुपए की 25.2 प्याज खरीदी। अगले दिन 77,500 रुपए में एक ट्रक किराए पर लिया और उसी दिन प्याज का ट्रक लेकर प्रयागराज के लिए चल दिए।

उन्होंने कहा कि मैंने सोचा कि इसे में प्रयागराज में बेच दूंगा और मुझे मेरी लागत के तीन लाख रुपए वापस मिल जाएंगे। पांडे गुरुवार की रात प्रयागराज पहुंचे और प्याज बेचने के लिए वहां से सीधे मुंडेरा मंडी पहुंचे। हालांकि जब वो प्याज बेचने में नाकाम रहे तो शहर के कोटवा मुबारकपुर स्थित अपने घर में वापस लौट आए। पांडे ने बताया कि प्याज को किसी छोटे व्यापारी को बेचने की योजना बना रहे थे।

इसी बीच एसआई और टीपी नगर पुलिस आउटपोस्ट के इंचार्ज अरविंद सिंह ने बताया कि पुलिस को शख्स के मुंबई से पहुंचने की जानकारी मिलने के बाद एक स्वास्थ्य टीम को उसके घर भेजा गया और गुरुवार को ही थर्मल स्क्रीनिंग की गई। उसे 15 दिन के लिए क्वारंटाइन रहने को कहा गया है। शनिवार को कोरोना जांच के लिए उसका नमूना ले लिया गया। शनिवार को ही उसे करेली स्थित क्वारंटाइन सेंटर में शिफ्ट कर दिया गया।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 अर्णब गोस्वामी और उनकी पत्नी पर हमला, रिपब्लिक टीवी बोला- सोनिया गांधी ने डर कर भेजे गुंडे
2 लॉकडाउन में फंसे मां-बाप, तीन साल की बच्‍ची ने छोड़ा खाना-पीना, रोते कट रही फुटपाथ पर ज‍िदंगी
3 कोरोना संक्रम‍ित बता कर पड़ोस‍ियों ने कर द‍िया बायकॉट, पैदल ही मुंबई से गांव के ल‍िए न‍िकला परिवार
IPL 2020
X