लॉकडाउन में फंसे मां-बाप, तीन साल की बच्‍ची ने छोड़ा खाना-पीना, रोते कट रही फुटपाथ पर ज‍िदंगी

Coronavirus Lockdown in India: बुरी तरह रोते हुए खुशहाली कहती है, ‘मेहरबानी करके कोई मेरी मां को वापस बुला लो। आंचल उन्हें बहुत याद करती है।’

Aanchal and Khushali
खुशहाली और आंचल ने लगभग एक महीने से अपने माता-पिता और पांच साल के भाई को नहीं देखा है। (Express Photo)

Coronavirus Lockdown in India: तीन साल की आंचल शिंदे बड़ी मुश्किल से कुछ खाती है और दिनभर रोती रहती है। देशव्यापी लॉकडाउन के चलते वो अपने माता-पिता से दूर है। आंचल और उसकी सात साल की बहन खुशहाली अब कांदिवली के पोइसर जिमखाना के पास एक फुटपाथ पर रहने को मजबूर हैं। यहां उनका मौसी दोनों की देखभाल करती हैं। इन मासूमों के माता-पिता करीब 54 किलोमीटर दूर अंबरनाथ में एक किराए के घर में रहते हैं। लॉकडाउन और जिले की सीमाएं सील होने के बाद अब लगभग एक महीना हो गया है जब से दोनों बच्चों ने अपने माता-पिता को नहीं देखा है।

बुरी तरह रोते हुए खुशहाली कहती है, ‘मेहरबानी करके कोई मेरी मां को वापस बुला लो। आंचल उन्हें बहुत याद करती है।’ इनके पिता एक दिहाड़ी मजदूर हैं जो पांच महीने पहले एक ठेकेरार के पास काम करने के लिए बच्चों के साथ अंबरनाथ चले आए थे। ठेकेदार नगरपालिका में नालियों की मरम्मत कराने का काम करता है।

Coronavirus in India LIVE

अंबरनाथ से फोन पर दोनों बच्चों की मां सुरेखा (26) ने बताया, ‘मैं बच्चों के साथ 19 मार्च को अपने बहन से मिलने के लिए कांदिवली गई थी। 22 मार्च (जनता कर्फ्यू का दिन) को मैं अपने पति के साथ ठेकेदार से अपनी मजदूरी लेने के लिए अंबरनाथ लौट आई थी। ये एक बड़ी रकम थी। मगर जब हम यहां पहुंचे तो ठेकेदार ने बताया कि भुगतान में एक या दो दिन की देरी होगी। इसलिए हम वहीं रुके रहे। हमें थोड़ी जानकारी थी कि देशव्यापी लॉकडाउन की घोषणा की जाएगी और हम इतने लंबे समय के लिए अपने बच्चों से अलग हो जाएंगे। मगर हम उम्मीद कर रहे थे 14 अप्रैल को ट्रेनें फिर से शुरू हो जाएंगी, मगर ऐसा नहीं हुआ।’

सुरेखा अपील करते हुए कहती हैं, ‘मेरी बेटियां मेरा इंतजार कर रही हैं, प्लीज मुझे उनके पास वापस ले चलो।’ उनके पति शेखर कहते हैं, ‘हमारे पास अब भोजन नहीं बचा है। बारह दिन पहले स्थानीय पार्षद ने कुछ चावल, गेंहू और प्याज दी थी, लेकिन अब वो भी खत्म हो चुका है।’

कोरोना वायरस से जुड़ी अन्य जानकारी के लिए इन लिंक्स पर क्लिक करें | गृह मंत्रालय ने जारी की डिटेल गाइडलाइंस | क्या पालतू कुत्ता-बिल्ली से भी फैल सकता है कोरोना वायरस? | घर बैठे इस तरह बनाएं फेस मास्क | इन वेबसाइट और ऐप्स से पाएं कोरोना वायरस के सटीक आंकड़ों की जानकारी, दुनिया और भारत के हर राज्य की मिलेगी डिटेलक्या गर्मी बढ़ते ही खत्म हो जाएगा कोरोना वायरस?

इसी बीच सुरेखा कहती हैं, ‘हमारा पांच साल का बेटा उस वक्त हमारे साथ ही आ गया था, वो अपनी बहनों को बहुत याद करता है। लॉकडाउन में कम से कम हम अपने रिश्तेदारों के पास जाने का प्रबंधन करते हैं तो हम वहां अधिक सुरक्षित रहेंगे। हमें नहीं पता कि लॉकडाउन कितने समय तक रहेगा मगर हमारी बेटियां वहां अकेली हैं।’

पढें मुंबई समाचार (Mumbai News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

Next Story
मुंबई एअरपोर्ट को धमकी भरा फोन, हवाई अड्डे को उड़ाने की धमकीMumbai airport, High Alert, Bomb threat, Mumbai
अपडेट