ताज़ा खबर
 

‘बीवी देर से उठती है, टेस्‍टी खाना नहीं बनाती’ कहकर पति ने मांगा तलाक, अदालत ने खारिज की अर्जी

बॉम्बे हाईकोर्ट ने तलाक की एक ऐसी याचिका खारिज कर दी है जिसमें एक व्यक्ति ने अपनी पत्नी के देर से उठने और बढ़िया खाना न बनाने के आधार पर उससे तलाक देने की मांग की थी।

मामले पर सुनवाई कर रही पीठ ने याचिकाकर्ता की तमाम दलीलों को तलाक के आधार के रूप में मानने से इंकार कर दिया और अपील खारिज कर दी।

बॉम्बे हाईकोर्ट ने तलाक की एक ऐसी याचिका खारिज कर दी है जिसमें एक व्यक्ति ने अपनी पत्नी के देर से उठने और बढ़िया खाना न बनाने के आधार पर उससे तलाक देने की मांग की थी। सांताक्रूज के रहने वाले एक व्यक्ति ने बॉम्बे हाईकोर्ट में अपनी पत्नी से तलाक दिलवाने की एक याचिका डाली थी। जिसमें उसने अपनी पत्नी पर यह आरोप लगाया था कि वह देर से उठती है और अच्छा खाना नहीं बनाती। जस्टिस केके तातेड़ और सारंग कोटवाल की पीठ ने इस याचिका को यह कहते हुए खारिज कर दिया कि याची द्वारा प्रस्तुत किए गए आरोप के आधार पर तलाक नही दिया जा सकता है। पीठ ने कहा कि कानून के मुताबिक महिला पर लगाए गए आरोप इतने क्रूर नहीं थे कि उसे इस आधार पर तलाक दिया जाए।

पीठ ने आगे कहा कि याची की पत्नी एक काम करने वाली महिला है। उसके बाद भी वह खाना बनाने संबंधी तमाम घरेलू काम करती है। यह उसके लिए अतिरिक्त भार की तरह हैं। ऐसे में याची द्वारा उस पर लगाए गए आरोप कि वह अच्छा खाना नहीं बनाती है या फिर वह अपने कर्तव्यों का ठीक तरह से निर्वहन नहीं करती, पूरी तरह से अस्वीकार्य हैं और यह कभी तलाक का आधार नहीं हो सकते। याची ने अपने याचिका में पत्नी पर आरोप लगाया है कि वह देर तक सोती है और सुबह जब उसे जल्दी उठाने की कोशिश की जाती है तब वह गाली-गलौज पर उतर आती है।

पति ने यह भी कहा कि वह हम लोगों के लिए पर्याप्त खाना नहीं बनाती है और मेरे साथ कुछ वक्त बिताने में भी उसने कभी रूचि नहीं दिखाई। उन्होंने कहा कि अगर मैं ऑफिस से देर से लौटता हूं तब वह एक गिलास पानी तक नहीं पूछती। वहीं महिला ने सारे आरोपों को नकारते हुए कहा कि काम पर जाने से पहले उसे घर के सभी लोगों के लिए खाना बनाना पड़ता है। उसने अपने पड़ोसी और कुछ रिश्तेदारों को इस मामले में गवाह बनाकर बताया कि वे जब भी उनके घर आते वह किसी न किसी घरेलू काम में व्यस्त रहती। मामले पर सुनवाई कर रही पीठ ने याचिकाकर्ता की तमाम दलीलों को तलाक के आधार के रूप में मानने से इंकार कर दिया और अपील खारिज कर दी।

Next Stories
1 Sridevi Kapoor: वेबसाइट का दावा- बोनी कपूर को नहीं, होटल स्‍टाफ को बाथरूम फ्लोर पर बेसुध मिली थीं श्रीदेवी
2 वीडियो: श्रीदेवी को श्रद्धांजलि देने पहुंचीं रेखा को कई मिनट गाड़ी में ही रहना पड़ा कैद, सिक्‍योरिटी के छूटे पसीने
3 सिर में था 1.8 किलो का ट्यूमर, 7 घंटे ऑपरेशन कर डॉक्‍टरों ने बचाई मरीज की जान
ये पढ़ा क्या?
X