ताज़ा खबर
 

एसिड फेंकने वाले ने पीड़िता से की शादी, सर्जरी के लिए दान देगा अपनी स्किन, कोर्ट भी हुआ नरम

आरोपी ने पीड़ित लड़की से शादी कर ली। शादी के बाद आरोपी ने बॉम्बे हाईकोर्ट में अपनी सजा के खिलाफ अपील किया और अपनी याचिका में अपनी आगे की सजा माफ करने की गुहार लगाते हुए कहा कि वो अपना स्किन भी पीड़ित लड़की को दान करना चाहता है।

तस्वीर का प्रयोग प्रतीक के तौर पर किया गया है। (एक्सप्रेस फाइल फोटो)

एसिड फेंकने वाले एक शख्स ने कहा है कि वो पीड़िता से शादी करने के लिए राजी है। इतना ही नहीं इस शख्स ने अपना स्किन भी पीड़िता को दान देने को कहा है। आऱोपी के इस फैसले से कोर्ट भी नरम हो गया है। कोर्ट ने आरोपी को उम्रकैद की सजा से आजाद कर दिया है।

क्या है मामला? करीब आठ साल पहले मुंबई में अनिल पाटिल ने एक लड़की पर एसिड फेंका था। दरअसल एकतरफा प्यार में लड़की पर एसिड से हमला किया गया था। अनिल अपने कॉलेज के दिनों से ही लड़की से प्यार करता था। लेकिन लड़की ने अनिल के प्यार को ठुकरा दिया। उस समय एकतरफ प्यार में कुंठित होकर अनिल ने लड़की पर एसिड फेंक दिया। इस हमले में लड़की बुरी तरह झुलस गई थी। पुलिस ने इस मामले में आरोपी अनिल को घटना के कुछ दिनों बाद ही गिरफ्तार कर लिया था।

कोर्ट ने सुनाई थी उम्र कैद की सजा: दिसंबर 2013 में सेशन कोर्ट ने आरोपी युवक को भारतीय दंड संहिता की धारा 326 के तहत उम्रकैद की सजा सुनाई। इतना ही नहीं अदालत ने उसपर 25,000 रुपये का जुर्माना भी लगाया।

पीड़ित को स्किन करेगा दान: आगे चलकर आरोपी ने पीड़ित लड़की से शादी कर ली। शादी के बाद आरोपी ने बॉम्बे हाईकोर्ट में अपनी सजा के खिलाफ अपील किया और अपनी याचिका में अपनी आगे की सजा माफ करने की गुहार लगाते हुए कहा कि वो अपना स्किन भी पीड़ित लड़की को दान करना चाहता है। अदालत में लड़का और लड़की दोनों ने कहा कि दोनों अब एक साथ ही रहना चाहते हैं।

अदालत ने माफ कर दी सजा: अनिल पाटिल की याचिका पर बीते 27 जून को हाईकोर्ट ने अपना फैसला सुनाया। हाईकोर्ट ने 8 साल पुराने इस मामले में एसिड अटैक के आरोपी अनिल पाटिल को उम्रकैद की सजा से मुक्त कर दिया। जस्टिस भूषण गवी और सांरग कोटवाल की खंडपीठ ने अपना फैसला सुनाते कहा कि आरोपी ने बीते सालों में आरोपी ने जो सजा काटी है वो मौजूदा तथ्यों के आधार पर काफी हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App