mumbai news, bmc elections-2017: 19 pc of winners in bmc polls face criminal cases report - बीएमसी चुनाव में जीते 19 फीसदी पार्षदों पर हत्या और रेप जैसे संगीन आरोप, 227 में से 225 पर आपराधिक मामले - Jansatta
ताज़ा खबर
 

बीएमसी चुनाव में जीते 19 फीसदी पार्षदों पर हत्या और रेप जैसे संगीन आरोप, 227 में से 225 पर आपराधिक मामले

बीएमसी और पुणे म्‍यूनिसिपल कॉर्पोरेशन (पीएमसी) समेत महाराष्‍ट्र के 10 नगर निकायों के लिए 21 फरवरी को मतदान हुआ था।

बीएमसी चुनाव में कुल 227 में से 225 विजेता उम्मीदवारों के खिलाफ अपराधिक मामले दर्ज हैं।

हाल ही में संपन्न हुए बृहन्मुंबई नगरपालिका (बीएमसी) चुनावों में जीत दर्ज करने वाले कुल 227 पार्षदों में से कम से कम 43 पर गंभीर आपराधिक मामले दर्ज हैं। एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स (एडीआर) और महाराष्ट्र इलेक्शन वॉच की रिपोर्ट की मानें तो बीएमसी चुनावों में कुल 227 में से 225 विजेता उम्मीदवारों के हलफनामों के विश्लेषण में पता चला है कि करीब 19 प्रतिशत नवनिर्वाचित पार्षदों के खिलाफ हत्या के प्रयास और बलात्कार जैसे संगीन अपराध के मामले दर्ज हैं। महाराष्ट्र इलेक्शन वॉच के राज्य-समन्वयक शरद कुमार ने कहा, ‘जब तक लोग बड़ी संख्या में मतदान करने घरों से बाहर नहीं निकलेंगे तब तक राजनीतिक पार्टियां धनी और बाहुबली उम्मीदवारों का चयन करेंगी।’

दोनों एनजीओ की रिपोर्ट के मुताबिक, वार्ड नं. 115 से जीतने वाले शिवसेना के उमेश सुभाष माने ने हलफनामे में अपने खिलाफ हत्या के प्रयास (आईपीसी की धारा 307) से संबंधित एक मामले की घोषणा की है। रिपोर्ट के अनुसार, इसके अलावा तीन विजेताओं के खिलाफ बलात्कार (आईपीसी की धारा 376) और महिला की गरिमा को नुकसान पहुंचाने के इरादे से हमला या आपराधिक बल (आईपीसी की धारा 354) के मामले दर्ज हैं। 225 विजेताओं में से जिनके हलफनामों का विश्लेषण किया गया है उनमें शिवसेना से 22, बीजेपी से 11, मनसे से तीन, कांग्रेस से दो और राकांपा, सपा एवं ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एमआईएम) से एक-एक तथा दो निर्दलीय उम्मीदवार आपराधिक मामलों का सामना कर रहे हैं।

एनजीओ ने एक बयान में कहा, ‘रिपोर्ट के दौरान दो उम्मीदवारों की जानकारी उपलब्ध नहीं रहने के कारण कुल 227 में से दो हलफनामों का विश्लेषण नहीं किया जा सका है। नहीं तो आंकड़े और बढ़ सकते थे। गौरतलब है कि बृहणमुंबई म्‍यूनिसिपल कॉर्पोरेशन (बीएमसी) और पुणे म्‍यूनिसिपल कॉर्पोरेशन (पीएमसी) समेत महाराष्‍ट्र के 10 नगर निकायों के लिए 21 फरवरी को मतदान हुआ था। पुणे में वोटिंग प्रतिशत 49.52 रहा। मुंबई में 52.17 प्रतिशत मतदान हुआ। यह प्रतिशत पिछले तीन बार के चुनावों में सबसे ज्यादा है। 2012 में वहां 44.85 प्रतिशत वोट डाले गए। 2007 में यह प्रतिशत 46.14 था। वहीं 2002 में मतदान प्रतिशत 43.25 प्रतिशत था।

देखिए वीडियो - बीएमसी चुनाव 2017: महाराष्ट्र में जारी है वोटिंग, MNS प्रमुख राज ठाकरे ने डाला वोट

ये वीडियो भी देखिए - BMC चुनाव 2017: शिवसेना-बीजेपी किसी को बहुमत नहीं; कांग्रेस, मनसे रेस से बाहर

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App