ताज़ा खबर
 

भड़का गुस्सा: किताब में बताया- वीर थे, लेकिन बुद्धिमान नहीं थे शिवाजी

मराठा संगठन ने अपने शिकायत में कहा है कि लेखक ने इन तथ्यों को पूर्वाग्रह से ग्रसित होकर और बदले की मानसिकता से लिखा है। शिवाजी महाराज एक योद्धा, बहादुर और बुद्धिमान शासक के रूप में जाने जाते थे।

मराठा शासक शिवाजी महाराज की प्रतिमा।

एक किताब में छत्रपति शिवाजी महाराज पर छापी गई सामग्री विवादों में आ गई है। इस किताब में शिवाजी महाराज को वीर तो कहा गया है लेकिन उन्हें बुद्धिमान नहीं बताया गया है। संभाजी ब्रिगेड समेत कई मराठी संस्थाओं ने इस किताब पर जबर्दस्त आपत्ति जताई है और प्रकाशक के खिलाफ केस दर्ज करने की मांग की है। ये किताब कक्षा 5 के बच्चों के लिए है। ‘व्याकरण वाटिका’ नाम के इस किताब की लेखिका डॉ अनुराधा नाम की महिला हैं। इस किताब को उत्तर प्रदेश के नोएडा स्थित ‘मधुबन प्रकाशन’ ने प्रकाशित किया है। मराठी संगठनों ने दावा किया है कि किताब में लिखा गया है कि ‘शिवाजी बहादुर थे, लेकिन बुद्धिमान नहीं’। इस सामग्री को आपत्तिजनक करार देते हुए मराठी संगठन संभाजी ब्रिगेड ने प्रकाशक और लेखिका के खिलाफ केस दर्ज करने की मांग की है।

अमरावती जिले के कलेक्टर को सौंपे गये शिकायत पत्र में संभाजी ब्रिगेड ने कहा है, “व्याकरण वाटिका-5 किताब के रचनात्मक गतिविधियां शीर्षक पाठ के पैराग्राफ 4 और 5 में छत्रपति शिवाजी महाराज के बारे में आपत्तिजनक सामग्री लिखी गई है, किताब के लेखक और प्रकाशक ने हिन्दुओं की भावनाओं को आहत किया है।” शिकायत पत्र में आगे लिखा गया है कि ये किताब खुले बाजार में तो मिल ही रही है ऑनलाइन भी उपलब्ध है, ये कथन ऐतिहासिक रूप से झूठ है और मराठा योद्धा की प्रतिष्ठा को नुकसान पहुंचाती है, इससे छात्रों के दिमाग में शिवाजी महाराज की नकारात्मक छवि बन सकती है।”

संगठन ने अपने शिकायत में कहा है कि लेखक ने इन तथ्यों को पूर्वाग्रह से ग्रसित होकर और बदले की मानसिकता से लिखा है। शिवाजी महाराज एक योद्धा, बहादुर और बुद्धिमान शासक के रूप में जाने जाते थे। शिकायत में कहा गया है कि लेखिका ने अपने कथनों और सामग्री से मराठा शासक की प्रतिष्ठा को जान बूझकर नुकसान पहुंचाया है, इसमें मराठा शासक की महिमा को नुकसान पहुंचाने की कोई साजिश हो सकती है। संगठन ने मांग की है कि किताब को तुरंत बाजार और इंटरनेट से वापस लिया जाना चाहिए और लेखक प्रकाशक के खिलाफ आपराधिक कार्रवाई शुरू की जानी चाहिए।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App