ताज़ा खबर
 

महाराष्ट्र: दो करोड़ में लगी ग्राम पंचायत की बोली, आयोग ने रद्द किया चुनाव

महाराष्ट्र में लोकतंत्र के साथ खिलवाड़ की बात सामने आई है। यहां ग्राम पंचायत की बोली लगाई जा रही है। चुनाव आयोग ने दो पंचायतों के चुनाव रद्द कर दिए हैं।

Panchayat Election, maharashtraमहाराष्ट्र में ग्राम पंचायत की नीलामी। (तस्वीर सांकेतिक है)

महाराष्ट्र में 15 जनवरी को ग्राम पंचायत के चुनाव कराए जाने हैं। कई इलाकों में यहां लोकतंत्र को बिकते हुए देखा जा सकता है। दरअसल यहां सबसे बड़ी बोली लगाने वाले को ग्राम पंचायत की सीट बेची जा रही है। नीलामी के वीडियो सामने आने और शिकायत मिलने के बाद चुनाव आयोग ने दो ग्राम पंचायतों के चुनाव रद्द कर दिए हैं। नासिक के उमराने गांव और कोंडामाली गांव में 2 करोड़ और 42 लाख में नीलामी की शिकायत मिली थी।

इंडियन एक्स्प्रेस ने पुणे के खेड़ तालुका में विजिट किया। पता चला की कई ग्राम पंचायतों में निर्विरोध सदस्य चुने जा चुके हैं। एक ग्राम पंचायत में आम तौर पर 9 से 18 सदस्य होते हैं। यह गांव की जनसंख्या पर निर्भर करता है। तीन ग्राम पंचायतों में गांव वालों ने स्वीकार किया कि वे आम सहमित वाले कैंडिडेट के लिए ही काम कर रहे हैं। इस तरह कई जगहों पर चुनावी प्रक्रिया में नीलामी का दखल हो गया है।

मोई गांव में निर्विरोध चुने गए सदस्य किरन गवारे ने कहा, ‘जनता के समर्थन की वजह से ही हमें निर्विरोध चुने जाने वाला कैंडिडेट मिला है। निर्णय यह हुआ है कि जो धन चुनाव में खर्च किया जाना था उसका इस्तेमाल करके गांव में एक मंदिर बनवाया जाएगा।’ जब उनसे टिकट के बदले पैसे देने की बात पूछी गई तो कोई वह चुप हो गए और कोई टिप्पणी करने से इनकार कर दिया।

मोई वाली कहानी कई और ग्राम पंचायतों में भी चल रही है। पुणे जिले में 746 ग्राम पंचायतों में से 81 पर केवल एक कैंडिडेट है। नांदुरबार में 87 में से 22 ग्राम पंचायतों में 22 पर निर्विरोध चुनाव हो चुका है। बीड़ जिले में 129 ग्राम पंचायतों मे से 18 में विजेता की घोषणा हो चुकी है। कोल्हापुर की 433 ग्राम पंचायतों में से 47 में चुनाव के बिना ही जीत घोषित की जा चुकी है।

4 जनवरी को स्टेट इलेक्शन कमिश्नर ने वीडियो का संज्ञान लिया था। द इंडियन एक्सप्रेस ने भी इसपर रिपोर्ट दी थी। इसके बाद विस्तृत जांच के आदेश दिए गए। बुधवार को दो ग्राम पंचायतों में चुनाव रद्द करने का आदेश दिया गया। कई ऐसे केस भी हैं जहां ऑफ कैमरा नीलामी हुई। नांदुरबार जिले में भी जांच के आदेश दिए गए हैं।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 औरंगाबाद पर कांग्रेस संग शिवसेना की खटपट? बोले उद्धव- औरंगजेब नहीं सेक्युलर
2 दोस्त को मारकर अपनी मौत का फैलाया झूठ, ताकि बकायदारों को न चुकाना पड़े कर्ज, पुलिस के पकड़ते ही कबूला जुर्म
ये पढ़ा क्या?
X