ताज़ा खबर
 

बीएमसी कर्मचारियों ने की ऑफिस में भूत होने की शिकायत, कहा- पर्दे के पीछे से आती है किसी के फुसफुसाने की आवाज़

कर्मचारियों के डर को दूर करने के लिए उच्च अधिकारियों ने वास्तु एक्सपर्ट्स को बुलाकर वास्तु शांति की पूजा कराई है।
रात में जिन कर्मचारियों की ड्यूटी लगती है, उन्होंने शिकायत की है उन्हें अपने आस-पास अजीब शक्ति के होने का अहसास होता है।

मुंबई में एक अलग ही मामला सामने आया है, जहां पर महामुंबई नगर निगम के कर्मचारियों को लगता है कि बीएमसी हेडक्वाटर में किसी की आत्मा भटकती है। यह मामला हेडक्वाटर के आपातकालीन सर्विस विभाग के एक ऑफिस का है। नगर निगम हेडक्वाटर की बिल्डिंग 125 साल पुरानी है। यहां काम करने वाले कर्मचारियों को अजीबों-गरीब आवाजें आती हैं, जिसके कारण उनके लिए यहां काम करना काफी मुश्किल सा हो रहा है। रात में जिन कर्मचारियों की ड्यूटी लगती है, उन्होंने शिकायत की है उन्हें अपने आस-पास अजीब शक्ति के होने का एहसास होता है। कर्मचारियों का कहना है कि ऑफिस की खिड़कियों के पर्दे के पीछे से किसी के फुसफुसाने की आवाज़ आती है और जब हममे से कोई पर्दा हटाकर देखता है तो वहां कोई नज़र नहीं आता।

कर्मचारियों ने कहा कि इस डर के कारण हमारा वहां काम करना मुश्किल हो रहा है। वहीं कर्मचारियों के डर को दूर करने के लिए उच्च अधिकारियों ने वास्तु एक्सपर्ट्स को बुलाकर वास्तु शांति की पूजा कराई है। बीएमसी के एक अधिकारी ने कहा कि हम इस बारे में अभी कुछ नहीं कह सकते कि बीएमसी हेडक्वाटर में सच में कोई भूत था या बस यह कर्मचारियों का भ्रम था। अधिकारी ने कहा कि वास्तु एक्सपर्ट्स का कहना था कि ऑफिस गलत दिशा में बना हुआ है, जिसके कारण कर्मचारी अजीबों- गरीब हलचल महसूस कर रहे थे।

एक वरिष्ठ अधिकारी द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार आपातकालीन सर्विस विभाग पहले प्रथम थल पर था, जिसे 2016 में दूसरे थल पर शिफ्ट कर दिया गया था। दूसरे थल पर बने इस विभाग के ऑफिस का उद्घाटन राज्य के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडण्नवीस द्वारा कराया गया था। यह ऑफिस हर प्रकार की सुविधाओं से लैस है। इस विभाग में वीडियो वॉल, सीसीटीवी कंट्रोल रूम, एक दम चकाचक फर्नीचर जैसी कई सुविधाएं मौजूद हैं। बीएमसी ने बिलकुल अंतरराष्ट्रीय स्तर की तरह इस ऑफिस को तैयार कराया है।

देखिए वीडियो - झारखंड में लगता है भूतों का मेला, परंपरा के नाम पर जारी है अंधविश्‍वास

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.