scorecardresearch

अमरावती किलिंगः केमिस्ट और उसके परिवार का लगातार पीछा कर रहे थे आरोपी, सीसीटीवी से खुला राज, पुलिस का दावा- हत्थे चढ़ा मास्टरमाइंड इरफान

अमरावती की घटना की जांच के लिए गृह मंत्रालय ने एनआईए को मामले को सौंप दिया है।

irfan| amravati incident| maharashtra|
आरोपी इरफान (Express file photo)

राजस्थान के उदयपुर की तरह ही महाराष्ट्र के अमरावती में 21 जून को उमेश कोल्हे नाम के शख्स की हत्या कर दी गई थी। बताया जा रहा है कि उमेश की हत्या सिर्फ इसलिए की गई क्योंकि उसने नूपुर शर्मा के समर्थन में सोशल मीडिया पर एक पोस्ट किया था। वहीं केंद्रीय गृह मंत्रालय ने इस मामले को एनआईए को सौंप दिया है और अब एनआईए मामले की जांच करेगी। इस घटना के संबंध में अब तक कुल 7 लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है।

पांच लोगों को पहले गिरफ्तार किया गया था जबकि पुलिस ने शनिवार को दो और संदिग्धों की गिरफ्तारी की पुष्टि की। एनजीओ चलाने वाले कथित मास्टरमाइंड 35 वर्षीय इरफान खान और 44 वर्षीय एक पशु चिकित्सक यूसुफ खान को शनिवार रात को पुलिस ने गिरफ्तार किया। इरफान को नागपुर से गिरफ्तार किया गया, वहीं युसूफ को शुक्रवार की रात अमरावती से गिरफ्तार किया गया था।

अमरावती शहर की पुलिस आयुक्त आरती सिंह ने इरफान की गिरफ्तारी की पुष्टि करते हुए उसे मास्टरमाइंड बताया। पुलिस कमिश्नर ने कहा कि हम उनके एनजीओ के बैंकिंग लेनदेन की जाँच कर रहे हैं। पुलिस ने बताया कि पहले गिरफ्तार किए गए पांच में से कम से कम चार इरफान के दोस्त थे और उन्होंने इरफान के एनजीओ के साथ स्वेच्छा से काम किया। इरफ़ान पर आरोप है कि उसने हत्या की योजना बनाई, संदिग्धों को विशिष्ट कार्य सौंपे और वाहन और नकदी जैसी सहायता प्रदान की।

घटना का सीसीटीवी फुटेज भी आ गया है। सीसीटीवी फुटेज में साफ दिख रहा है कि मृतक उमेश एक मोटरसाइकिल पर चल रहे हैं जबकि उनके बेटे एक अलग मोटरसाइकिल पर उनके साथ चल रहे हैं। आरोपी हत्यारे लगातार उनका पीछा कर रहे हैं। मृतक उमेश कोल्हे के बेटे संकेत ने जो एफआईआर दर्ज करवाई है, उसमें बताया है कि रात 10 और 10:30 बजे के बीच जब उमेश अपने घर लौट रहे थे, उस दौरान उनकी हत्या हुई।

संकेत ने आरोप लगाते हुए बताया है कि मोटरसाइकिल पर सवार दो आदमी अचानक मेरे पिता की स्कूटी के सामने आ गए। उन्होंने मेरे पिता की स्कूटी को रोका और उनमें से एक ने चाकू से उनकी गर्दन के बाईं ओर हमला कर दिया।

अमरावती से निर्दलीय सांसद नवनीत राणा ने जिले के पुलिस कमिश्नर पर आरोप लगाया कि उन्होंने हत्या को दबाने का प्रयास किया। नवनीत राणा ने जिले की पुलिस कमिश्नर आरती सिंह पर आरोप लगाते हुए कहा कि उन्होंने हत्या को डकैती के रूप में पेश करने की कोशिश की। उन्होंने कहा कि 12 दिन बाद पुलिस कमिश्नर घटना पर स्पष्टीकरण दे रही हैं। अमरावती की पुलिस आयुक्त के खिलाफ भी जांच होनी चाहिए।

पढें महाराष्ट्र (Maharashtra News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

X