ताज़ा खबर
 

पीएम-उद्धव की मुलाकात के बाद बदले राउत के तेवर, बोले- मोदी बीजेपी और देश के सबसे बड़े नेता

एनसीपी नेता 80 वर्षीय शरद पवार ने कहा, 'पहले किसी ने नहीं सोचा होगा कि एनसीपी शिवसेना के साथ काम कर सकती है। लेकिन, हमने एक अलग विचारधारा के साथ एक सरकार की स्थापना की और सौभाग्य से, लोगों ने इसे स्वीकार कर लिया … इतिहास बताता है कि शिवसेना पर भरोसा किया जा सकता है।”

शिवसेना नेता संजय राउत और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी। (फोटो- इंडियन एक्सप्रेस फाइल)

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के बीच हाल ही में दिल्ली में हुई मुलाकात के बाद शिवसेना नेता संजय राउत ने बृहस्पतिवार को कहा कि मोदी देश और भाजपा के शीर्ष नेता हैं। राउत से पूछा गया था कि मीडिया में खबरें आई हैं कि आरएसएस राज्यों के चुनावों में राज्य के नेताओं को चेहरे के रूप में पेश करने पर विचार कर रहा है। ऐसे में क्या उन्हें लगता है कि मोदी की लोकप्रियता कम हुई है।

इस सवाल पर राउत ने कहा, “मैं इस पर टिप्पणी नहीं करना चाहता…मैंने मीडिया में आईं खबरें नहीं देखी है। इस बारे में कोई आधिकारिक बयान भी नहीं आया है… पिछले सात साल में भाजपा की सफलता का श्रेय मोदी को जाता है। वह अभी देश और अपनी पार्टी के शीर्ष नेता हैं।” शिवसेना के राज्य सभा सदस्य राउत फिलहाल उत्तर महाराष्ट्र के दौरे पर हैं। उन्होंने जलगांव में पत्रकारों से यह बात कही।

उन्होंने कहा कि शिवसेना का हमेशा से मानना रहा है कि प्रधानमंत्री पूरे देश के होते हैं, किसी एक पार्टी के नहीं। राउत ने कहा, “लिहाजा, प्रधानमंत्री को चुनाव अभियान में शामिल नहीं होना चाहिये क्योंकि इससे आधिकारिक मशीनरी पर दबाव पड़ता है।” हाल ही में महाराष्ट्र भाजपा अध्यक्ष चंद्रकांत पाटिल ने कहा था कि अगर मोदी चाहें तो उनकी पार्टी बाघ (शिवसेना का चुनाव चिन्ह) से दोस्ती कर सकती है। इस पर राउत ने कहा, “बाघ के साथ कोई दोस्ती नहीं कर सकता। बाघ ही तय करता है कि उसे किसके साथ दोस्ती करनी है।”

उत्तर महाराष्ट्र के दौरे के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि यह संगठन को मजबूत करने के शिवसेना के प्रयासों का हिस्सा है। राउत ने कहा, “महाविकास आघाड़ी में शामिल सभी दलों को अपना आधार बढ़ाने और पार्टियों को मजबूत करने का अधिकार है। यह वक्त की जरूरत भी है। हम एक-दूसरे के साथ समन्वय को मजबूत करने के लिये बैठकें भी कर रहे हैं।”

उधर, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) के प्रमुख शरद पवार ने गुरुवार को पार्टी कैडर से गठबंधन सहयोगी शिवसेना पर भरोसा करने के लिए कहा, जिससे यह धारणा बढ़ रही है कि दोनों दल करीब आ रहे हैं। एनसीपी के 22वें स्थापना दिवस पर बोलते हुए, शरद पवार ने कहा कि महाराष्ट्र में सत्तारूढ़ गठबंधन महाविकास अघाड़ी (एमवीए)-जिसमें शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस शामिल हैं- आगामी लोकसभा और विधानसभा चुनाव एक साथ लड़ेंगे।

80 वर्षीय पवार ने पार्टी के मुंबई मुख्यालय में एक छोटे से कार्यक्रम में कहा, ‘पहले किसी ने नहीं सोचा होगा कि एनसीपी शिवसेना के साथ काम कर सकती है। लेकिन, हमने एक अलग विचारधारा के साथ एक सरकार की स्थापना की और सौभाग्य से, लोगों ने इसे स्वीकार कर लिया … इतिहास बताता है कि शिवसेना पर भरोसा किया जा सकता है।”

Next Stories
ये पढ़ा क्या?
X