ताज़ा खबर
 

मुंबई के 30 लाख यात्रियों पर गाज, 3700 बेस्ट बसों के कुल 36000 कर्मचारी बेमियादी हड़ताल पर

लोगों की परेशानियों को देखते हुए ट्रांसपोर्ट डिपार्टमेंट ने प्राइवेट गाड़ियों, जिनमें स्कूल बस और माल वाहक वाहन शामिल हैं, को यात्री ढोने की इजाजत दे दी है।
रविवार मध्य रात्रि से एक भी बस सड़क पर नहीं उतरी है। माना जा रहा है कि बेस्ट की 3700 बसें डिपो में खड़ी हैं। इस हड़ताल से मुंबई के तीस लाख लोगों पर असर पड़ा है।

समय पर वेतन भुगतान की मांग, सॉफ्टवेयर से काम के घंटों की गणना पर रोक, प्राइवेट बसों की हायरिंग पर रोक समेत अन्य मांगों के समर्थन में मुंबई में सरकारी बस सेवा बेस्ट के करीब 36 हजार कर्मचारी रक्षाबंधन के दिन सुबह से बेमियादी हड़ताल पर चले गए हैं। इससे मुंबई में यातायात व्यवस्था प्रभावित हुई है। लोगों के खासा परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। इस बीच बेस्ट कामगार संगठन के नेता सुहास सामंत ने कहा है कि हड़ताल 100 फीसदी कारगर रहा है। बीती मध्य रात्रि से एक भी बस सड़क पर नहीं उतरी है। माना जा रहा है कि बेस्ट की 3700 बसें डिपो में खड़ी हैं। इस हड़ताल से मुंबई के तीस लाख लोगों पर असर पड़ा है।

इस बीच लोगों की परेशानियों को देखते हुए ट्रांसपोर्ट डिपार्टमेंट ने प्राइवेट गाड़ियों, जिनमें स्कूल बस और माल वाहक वाहन शामिल हैं, को यात्री ढोने की इजाजत दे दी है। ट्रांसपोर्ट डिपार्टमेंट द्वारी जारी नोटिफिकेशन में कहा गया है कि सभी प्राइवेट बसों, स्कूल बसों, कंपनियों के अधीन चलने वाली बसों और माल वाहक वाहनों के मुंबई महानगरपालिका क्षेत्र में यात्रियों को लाने-ले जाने की अनुमति दी जाती है।

इस आदेश के बाद स्कूल बस ऑपरेटर्स यात्रियों की सेवा में सड़कों पर उतर आए हैं। ये लोग 10 किलोमीटर तक की यात्रा के लिए 20 रुपये किराया ले रहे हैं, जबकि ऑटो रिक्शा, कैब और टैक्सी वालों की चांदी हो गई है। लोगों के मुताबिक टैक्सी के लिए 40 मिनट से भी ज्यादा समय तक इंतजार करना पड़ रहा है। इसके अलावा दोगुने किराए का भी भुगतान करना पड़ रहा है।

इधर, बेस्ट कर्मचारी संगठन के नेताओं और महापौर, महानगरपालिका आयुक्त अजोय मेहता के बीच बैठक जारी है। बैठक में हड़ताली कर्मचारियों को मनाने का सिलसिला जारी है। इससे पहले महापौर ने कर्मचारियों को हर महीने की 10 तारीख को वेतन मिल जाने का आश्वासन दिया था लेकिन कर्मचारी यह आश्वासन लिखित में दिए जाने की बात कर रहें हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.