ताज़ा खबर
 

RPF जवानों पर रेप का आरोप लगाने वाली महिला शिकायत वापस लेने के लिए पैसे लेते पकड़ी गई

पुलिस जनसंपर्क अधिकारी सुखदा नरकर ने कहा कि पुलिस ने महिला और जवानों के बीच बातचीत रिकार्ड करने के बाद डोम्बिविली के द्वारका होटल में जाल बिछाकर महिला को पकड़ लिया।

Author ठाणे | September 10, 2016 5:11 PM
तस्वीर का इस्तेमाल प्रतीक के तौर पर किया गया है।

मध्य रेलवे की दिवा चौकी के चार आरपीएफ जवानों से जुड़े बलात्कार के एक मामले ने तब नया मोड़ ले लिया जब 25 साल की पीड़िता को कथित रूप से अपनी शिकायत वापस लेने के लिए एक आरोपी से धन की उगाही करते समय गिरफ्तार कर लिया गया। पीड़िता को शुक्रवार शाम यहां के एक होटल में आरपीएफ के कांस्टेबल प्रदीप सिंह से 90,000 रुपए लेते समय रंगे हाथों पकड़ा गया। पीड़िता एक शादीशुदा महिला है।

पुलिस जनसंपर्क अधिकारी सुखदा नरकर ने कहा कि पुलिस ने महिला और जवानों के बीच बातचीत रिकार्ड करने के बाद डोम्बिविली के द्वारका होटल में जाल बिछाकर महिला को पकड़ लिया। महिला को बाद में गिरफ्तार कर लिया गया। उसने कांस्टेबल से 1,11,000 रुपए मांगे थे। दो और लोगों – पीड़िता और जवानों के बीच मध्यस्थ की भूमिका निभाने वाले व्यक्ति मोहन बिटला और एक प्रमुख समाचार पत्र के एक पत्रकार – भी मामले को लेकर जांच के घेरे में हैं।

पुलिस ने कहा कि जहां बिटला को महिला के साथ गिरफ्तार किया गया वहीं पत्रकार के खिलाफ आईपीसी की धारा 384 एवं 34 के तहत मामला दर्ज किया गया। महिला दिवा की रहने वाली है और डोम्बिवली के एक बुटीक में काम करती है। इससे पहले इस हफ्ते महिला के बलात्कार का आरोप लगाने पर इन चार जवानों के खिलाफ आईपीसी की धारा 376 (डी), 328 एवं 34 के तहत मामला दर्ज किया गया था। महिला ने आरोप लगाया था कि उसके साथ आरपीएफ केबिन में रेप किया गया। रेप से पहले आरोपियों ने इसे नशीला पदार्थ पिला दिया था। इसके बाद ठाणे रेलवे पुलिस ने चारों के खिलाफ शिकायत दर्ज कर चारों को निलंबित कर दिया गया था। इसके बाद मामले के मुंबरा पुलिस को ट्रांसफर कर दिया गया था। पुलिस अब इस बात की जांच कर रही है कि क्या पीड़िता ने पहले भी जवानों से उगाही की मांग की थी।

Read Also: यूपी: 14 साल की रेप पीड़िता टेस्ट के लिए भटकती रही, ‘सरकारी कार्यक्रम’ की तैयारियों में बिजी थे डॉक्टर

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App