ताज़ा खबर
 

महाराष्ट्र में नहीं है ऑल इज़ वेल? कांग्रेस ने कही अकेले लड़ने की बात, CM ने दे दी ‘चप्पल वाली चेतावनी’

बकौल राउत, "शिवसेना ने अपने दम पर सियासी जंग लड़ी हैं। चुनावों के दौरान गठजोड़ हो सकते हैं, पर लड़ाई अपने दम पर ही लड़ी जाती है। फिर चाहे वह महाराष्ट्र के गौरव से जुड़ा मामला हो या फिर शिवसेना की मौजूदगी का। अगर हम उसके लिए लड़ना पड़ेगा, तो हम लड़ेंगे।"

Shivsena चीफ व महाराष्ट्र सीएम उद्धव ठाकरे, Congress की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी और NCP अध्यक्ष शरद पवार। (एक्सप्रेस आर्काइव फोटो)

महाराष्ट्र में मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के नेतृत्व वाली महाविकास अघाड़ी (Shivsena + NCP + Congress) वाली सरकार में आपसी तनातनी की खबर है। कांग्रेस की ओर से अकेले चुनाव लड़ने की बात कही गई, जिसके बाद सीएम की ओर से चप्पल वाली एक चेतावनी दे दी गई।

शनिवार (19 जून, 2021) को शिवसेना के 55वें स्थापना दिवस पर ठाकरे बोले, “खुद के दम पर चुनाव लड़ने की बात करोगे, तो लोग चप्पल से मारेंगे। तलवार उठाने की ताकत नहीं और अपने दम पर चुनाव लड़ने की बात कर रहे हैं।” हालांकि, उन्होंने इस दौरान किसी पार्टी का नाम नहीं लिया। पर सियासी गलियारों में इस बयान को इस संदर्भ में लिया जा रहा है कि सीएम ने इशारों में कांग्रेस को हद में रहने की बात कही है। इसी बीच, महाराष्ट्र कांग्रेस के अध्यक्ष नाना पटोले की ओर से कहा गया कि यह साफ नहीं है कि ठाकरे ने यह बात किसके संदर्भ में कही। हालांकि, अगर कही है, तो हमारे पास इसका जवाब तैयार है। वैसे, किसी के कहने से कुछ नहीं होता है। यह तो जनता तय करेगी कि वह किसे चप्पल से मारेगी।

दरअसल, कांग्रेस की तरफ से पटोले ने ही कहा था कि कांग्रेस स्थानीय स्तर और अन्य छोटे चुनाव अपने दम पर लड़ेगी। रविवार (20 जून, 2021) को इस मसले पर शिवसेना के मुख्य प्रवक्ता संजय राउत ने पत्रकारों से कहा, “कल पार्टी का 55वां स्थापना दिवस था। महाराष्ट्र में अकेले चुनाव लड़ने की बात कर रहे लोगों से सीएम और हमारी पार्टी के मुखिया ने कहा कि अगर वे ऐसा करेंगे तो हम क्या करेंगे? क्या हम बैठे रहेंगे? जिन्हें अपने दम पर लड़ना है, वे लड़ लें।”

बकौल राउत, “शिवसेना ने अपने दम पर सियासी जंग लड़ी हैं। चुनावों के दौरान गठजोड़ हो सकते हैं, पर लड़ाई अपने दम पर ही लड़ी जाती है। फिर चाहे वह महाराष्ट्र के गौरव से जुड़ा मामला हो या फिर शिवसेना की मौजूदगी का। अगर हम उसके लिए लड़ना पड़ेगा, तो हम लड़ेंगे।”

‘शिवसेना कार्यकर्ता उकसावे का करारा जवाब देते हैं’: दादर में शिवसेना और भाजपा समर्थकों की झड़पों के स्पष्ट संदर्भ में ठाकरे ने कहा कि जब कोई “शोर” करता है तो उनकी पार्टी के कार्यकर्ता “धमाकेदार” जवाब देते हैं। बकौल सीएम, “सड़कों पर खूनखराबा शिवसेना कार्यकर्ताओं की असली पहचान नहीं है। लेकिन एक सच्चा शिवसेना कार्यकर्ता अन्याय का सामना करने वालों की मदद करने के लिए दौड़ता है। जिन्होंने हमारे खिलाफ आरोप लगाए, क्या वे ऐसे काम के लिए जाने जाते हैं?” उन्होंने कहा, “वे हमारी छवि खराब करने की कोशिश कर रहे हैं। हमें गर्व के साथ अपना काम जारी रखना चाहिए।” (पीटीआई-भाषा इनपुट्स के साथ)

Next Stories
1 अयोध्या में एक और जमीन विवाद, 20 लाख की जमीन ढाई करोड़ में बेचने का आरोप
2 पारस को ‘मैनेजर’ और रामचंद्र को “बेटा” कह बुलाते थे रामविलास, जानें- कैसी थी पासवान बंधुओं की आपस में ट्यूनिंग
3 6 साल की बेटी को देख पिघल गया लुटेरों का दिल, दुकानदार को मारने वाले थे गोली, तभी…
आज का राशिफल
X