ताज़ा खबर
 

#maharashtra: राम मंदिर की विरोधी कांग्रेस का साथ देकर शिवसेना ने दिया लोगों को धोखा

जावड़ेकर ने एक अन्य ट्वीट में कहा, ‘‘लोगों ने भाजपा गठबंधन को वोट दिया था। शिवसेना ने लोगों और जनादेश को धोखा दिया तथा राम मंदिर और वीर सावरकर का विरोध करने वाली कांग्रेस के साथ जाने का फैसला किया। शिवसेना भ्रष्टाचार की पर्यायवाची और आपातकाल लगाने वाली कांग्रेस के साथ जाकर खुश थी।

Author पुणे | Updated: November 23, 2019 2:01 PM
Maharashtra, Maharashtra politics, Maharashtra CM, NCP, BJP-shiv Sena, Congress, Ram mandir, Nationalist Congress Party,Vinayak Damodar Savarkar,Devendra Fadnavis,Prakash Javadekar,Maharashtra,Pune,shiv sena,Socialist Patients' Collectiveसूचना प्रसारण मंत्री प्रकाश जावडेकर

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री के रूप में दूसरी बार कमान संभालने के लिए देवेंद्र फड़णवीस को बधाई देते हुए केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने शनिवार को कहा कि ‘‘भ्रष्टाचार का पर्यायवाची’’ बन चुकी कांग्रेस के साथ जाकर शिवसेना ने राज्य के लोगों को धोखा दिया। उन्होंने यह भी कहा कि कांग्रेस अयोध्या में राम मंदिर निर्माण की विरोधी है, फिर भी शिवसेना ने उसके साथ हाथ मिलाने का फैसला किया। फड़णवीस ने शनिवार की सुबह महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री और अजित पवार ने उपमुख्यमंत्री के रूप में शपथ ली।

इस घटनाक्रम से राजनीतिक गलियारों में भूचाल आ गया है क्योंकि शविसेना, राकांपा और कांग्रेस राज्य में सरकार बनाने के लिए पिछले कुछ दिन से चर्चा कर रही थीं। राकांपा अध्यक्ष शरद पवार ने घोषणा भी कर दी थी कि मुख्यमंत्री पद के लिए शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे तीनों दलों की पसंद हैं। जावड़ेकर ने एक ट्वीट में कहा, ‘‘देवेंद्र फड़णवीस को महाराष्ट्र का मुख्यमंत्री बनने की बधाई और मुख्यमंत्री बनना लोगों के जनादेश का सम्मान करना है।’’ उन्होंने कहा कि (शिवसेना और कांग्रेस) द्वारा पकाई जा रही खिचड़ी लोगों के जनादेश के खिलाफ थी।

जावड़ेकर ने एक अन्य ट्वीट में कहा, ‘‘लोगों ने भाजपा गठबंधन को वोट दिया था। शिवसेना ने लोगों और जनादेश को धोखा दिया तथा राम मंदिर और वीर सावरकर का विरोध करने वाली कांग्रेस के साथ जाने का फैसला किया। शिवसेना भ्रष्टाचार की पर्यायवाची और आपातकाल लगाने वाली कांग्रेस के साथ जाकर खुश थी।’’ मंत्री ने कहा, ‘‘शिवेसना का तर्क कितना बेतुका है-यदि शिवसेना राकांपा के साथ जाए तो ठीक, और यदि राकांपा के विधायक भाजपा के साथ आएं तो गलत। आज जिसका सम्मान हुआ, वह जनादेश है।’’

Next Stories
1 देवेंद्र फड़णवीस के CM बनने के बाद बोले शरद पवार, NCP के विधायकों को बिना बताए ही शपथ ग्रहण में ले जाया गया
2 फडणवीस की सरकार बनने पर उद्धव ठाकरे बोले- यह महाराष्ट्र पर सर्जिकल स्ट्राइक, लोग लेंगे बदला
3 महाराष्ट्र में तड़के 5:47 बजे हटा राष्ट्रपति शासन, फिर BJP-NCP ने संभाली सरकार की जिम्मेदारी
ये पढ़ा क्या?
X